गीत संग्रह

अगस्त माह हेतु गीत | rss august maah ka geet | rss geet lyrics

अगस्त माह हेतु गीत | rss august maah ka geet | rss geet

lyrics

 

 

अगस्त माह हेतु गीत

 

अगस्त महा हेतु गीत

लक्ष – लक्ष बढ़ते चरणों के ,साथ चलते हैं कोटि चरण।

दूर ध्येय मंदिर हो फिर भी ,मन में है संकल्प सघन।धृ।

 

 व्रती भागीरथ ने यत्नों से ,गंगा इस भू पर लाई।

गंगाधर सी शंखधार भी भारत भूमि पर है आई

अगणित व्रती  भागीरथ करते ,नित्य-निरंतर प्राणार्पण। १।

 

चट्टानों से बाधाओं पर ,चलो रचे हम शिल्प नया।

सेवा के सिंचन से मरू भू ,पर विकसाये  तरु छाया।

सद्भावो  से ,संस्कारों से ,भर देंगे यह जन -गण -मन। २।

 

जन- जन  ही अब जगन्नाथ बन ,रथ को देता नई  गति।

मार्ग विषमता का हम छोड़े ,प्रगटाये समरस रीती।

हिन्दू ऐक्य  का सूरज चमके ,भेदभाव का हटे ग्रहण। ३।

 

यह भी जरूर पढ़ें – 

 संघ की प्रार्थना। नमस्ते सदा वत्सले मातृभूमे।आरएसएस।

गुरु दक्षिणा rss | गुरु दक्षिणा राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ | गुरुदक्षिणा का उपयोग गुरुदक्षिणा की राशि का खर्च | Rss income source 

गुरु दक्षिणा हेतु अमृत वचन।RSS IN HINDI | राष्ट्रिय स्वयं सेवक संघ।

जुलाई माह हेतु गीत | rss geet | july geet rss lyrics | july mah ka geet |

 

 

 

 

दोस्तों हम पूरी मेहनत करते हैं आप तक अच्छा कंटेंट लाने की | आप हमे बस सपोर्ट करते रहे और हो सके तो हमारे फेसबुक पेज को like करें ताकि आपको और ज्ञानवर्धक चीज़ें मिल सकें |

अगर आपको ये पोस्ट अच्छा लगा हो तो इसको ज्यादा से ज्यादा लोगों तक पहुचाएं  |

व्हाट्सप्प और फेसबुक के माध्यम से शेयर करें |

और हमारा एंड्राइड एप्प भी डाउनलोड जरूर करें

कृपया अपने सुझावों को लिखिए हम आपके मार्गदर्शन के अभिलाषी है 

facebook page hindi vibhag

YouTUBE⁠⁠⁠⁠

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *