गयासुद्दीन तुगलक का मकबरा। तुगलकाबाद का इतिहास। Tuglakaabad

गयासुद्दीन तुगलक के मकबरे की संपूर्ण जानकारी प्राप्त करने के लिए यह पोस्ट आप अंत तक जरूर पढ़ें।

यह लेख शुरू करने से पहले हम आपको सूचित करना चाहते हैं कि हमने दिल्ली वास्तुकला और दिल्ली के सभी पुरानी इमारतों के ऊपर लेख लिखे हैं। अगर आपको यह सभी लेख एक जगह पर चाहिए तो आपको दिल्ली दर्शन नाम की कैटेगरी हमारे वेबसाइट पर ढूंढनी होगी और उसके टेकरी को खोलने के बाद आपको वैसे भी लेख एक के बाद एक नीचे मिल जाएंगे।

यह सभी लेख आपको आपकी परीक्षा में मदद करेंगे।

गयासुद्दीन तुगलक का मकबरा

 

गयासुद्दीन तुगलक साह एक शाही तुर्क था तथा सन 1321 में उसने खिलजी वंश के बाद राज गद्दी संभाली थी। वह कुशल वास्तुकार भी था , उसने दिल्ली में अपनी नई राजधानी बसाई थी। ऊंची बुर्जा तथा 13 दरवाजों वाला यह किलेबंद नगर तुगलकाबाद ‘ दिल्ली का तीसरा ‘ शहर था।

एक तरफ से यह किला ग्यासुद्दीन की रचनात्मक प्रतिभा का प्रतीक था।

इस अष्टकोणीय किले के दक्षिणी प्रवेश द्वार के उस पार लाल पत्थर से बना ग्यासुद्दीन मकबरा है। उसने इस मकबरे को स्वयं बनवाया था। इस का अत्यंत ध्यानाकर्षक हिस्सा इसकी बाहरी दीवारों का ढालुवापन है जो कि 75 डिग्री के कोण से झुकी हुई है। इस कारण ये पिरामिड की आकृति का आभास देती है। इसकी चौकोर धरातल 61 फीट चौड़ी है तथा भवन की संपूर्ण ऊंचाई गुबंद सहित 80 फीट से ज्यादा है। इसकी दीवारों पर यहां – वहां संगमरमर का इस्तेमाल इस किलेनुमा मकबरे को विशिष्ट बना देता है।

मूलतः यह मकबरा वर्षा के पानी के एक कृत्रिम विशाल तालाब के बीच बनाया गया था तथा एक फूल के जरिए तुगलकाबाद से जोड़ा गया था। आज उस पुल के बीच से कुतुब – बदरपुर सड़क जाती है।

 

यह भी पढ़ें –

लौह स्तंभ क़ुतुब मीनार।

क़ुतुब मीनार का इतिहास कब और किसने बनवाया।

अलाई दरवाजा कुतुब परिसर

गयासुद्दीन तुगलक का मकबरा

फिरोजशाह कोटला

मोर सिंहासन तख्त – ए – ताऊस। दीवान – ए – खास लाल किला

मुगलों और हिंदुओं की वास्तुकला। संगमरमर का सिंहासन।

Lodhi Garden बड़ा गुबंद , लोधी बाग

पुराने किले का दरवाजा

शेर मंडल पुराना किला

हुमायूं का मकबरा मुगल बादशाह

लाहोरी दरवाजा लाल किला

जामा मस्जिद भारत की सबसे बड़ी मस्जिद

इंडिया गेट ऑल इंडिया वॉर मेमोरियल। अमर जवान ज्योति

राष्ट्रपति भवन सरकारी निवास।सर एडविन लुटियंस

जंतर मंतर का इतिहास

संसद भवन संसद सचिवालय प्रधानमंत्री कार्यालय

कनॉट प्लेस सिंधिया हाउस जनपथ

गुरुद्वारा बंगला साहिब। भारतीय वास्तुकला।

आपको अगर हम तक कोई बात पहुंचा नहीं है या फिर किसी प्रकार का सवाल पूछना है तो आप नीचे कमेंट बॉक्स में अपनी बातें लिख सकते हैं। अगर आपको इस पोस्ट में कुछ अच्छा नहीं लगा या फिर किसी प्रकार की त्रुटि लगी तो आप अवश्य हमें सूचित करें हम जल्द से जल्द इस पोस्ट में बदलाव करेंगे।

अगर आपको ये पोस्ट अच्छा लगा हो तो इसको ज्यादा से ज्यादा लोगों तक पहुचाएं  |

व्हाट्सप्प और फेसबुक के माध्यम से शेयर करें | और हमारा एंड्राइड एप्प भी डाउनलोड जरूर करें

कृपया अपने सुझावों को लिखिए हम आपके मार्गदर्शन के अभिलाषी है 

अगर आप हमें हमारे सोशल मीडिया पर फॉलो करना चाहते हैं तो आप नीचे दिए गए सभी लिंक को क्लिक करके वहां जाकर हमें फॉलो कर सकते हैं। 

facebook page hindi vibhag

YouTUBE

Leave a Comment