जीवनी। हिंदी साहित्य।what is biography | जीवनी क्या होता है।

जीवनी

 

जीवनी क्या होता है

किसी व्यक्ति विशेष के जीवन वृतांत को जीवनी कहते हैं। जीवनी का अंग्रेजी पर्याय “बायोग्राफी” है , हिंदी में इसे जीवन चरित्र कहते हैं।

इस में किसी महत्वपूर्ण व्यक्ति के जीवन के अन्तर्वाह्य स्वरूप का घटनाओं के आधार पर कलात्मक चित्रण  रहता है। इससे उसके गुण दोषमय व्यक्तित्व की अभिव्यक्ति होती है।

सामान्यतः जीवनी में सारे जीवन में किए हुए कार्यों का वर्णन होता है पर इस नियम का पालन आवश्यक नहीं है।

शिप्ले :- के अनुसार “जीवनी लेखक को अपने नायक के संपूर्ण जीवन अथवा उसके यथेष्ट भाग की चर्चा करनी चाहिए जीवनी में इतिहास साहित्य और व्यक्ति की त्रिवेणी होती है।

परंतु इस में इतिहास की भांति घटनाओं का आंकलन नहीं होता इसमें मनुष्य के जीवन की व्याख्या एवं उसके व्यक्तिगत जीवन का अध्ययन प्रत्यक्ष और वास्तविक रुप से प्राप्त होता है।”

उपन्यास कहानी आदि में भी जीवन की व्याख्या तो होती है किंतु व परोक्ष और कल्पना मिश्रित होती है। वास्तविक जीवनी वही है जिसमें जीवन प्रमाणिक तथा सम्यक जानकारी पर आधारित हो।

जीवनी लेखक को उन सभी तथ्यों की जानकारी होनी चाहिए , जिन्होंने उसके चरित्र नायक के जीवन पर प्रकाश डाला हो , घटनाओं को प्रस्तुत भी उसी क्रम में करना चाहिए जिस क्रम में विघटित हुए हो।

जीवनी लेखक  अपने नायक के चरित्र में स्वाभाविकता लाने के लिए जीवन को क्रमशः अन्वेषित एवं उद्घाटित करना चाहिए अर्थात आरंभ से ही उसके केवल गुणों को ही नहीं वरन दोषों को भी तटस्थ भाव से वर्णन करना चाहिए।

हमारे यहां जीवन चरित्र लिखने की विशेष परंपरा नहीं रही है ‘ व्यक्ति कालीन वार्ताओं ‘ नाभादास का ‘ भक्तमाल ‘ आदि ग्रंथों में जीवन संबंधी इतिवृत्त मिल जाते हैं।

इसके लेखन का आरंभ 19वीं शताब्दी के अंत से होता है कार्तिक प्रसाद खत्री , भारतेंदु , राधाकृष्ण दास , बालमुकुंद गुप्त आदि इस युग के प्रसिद्ध जीवनी लेखक हैं। आज जीवनी साहित्य नायक को जीवन तथ्यों को वैज्ञानिक रूप से प्रस्तुत करता है।

आज के प्रमुख जीवनीकारों की कृतियों में रामविलास शर्मा कृत ‘ निराला की साहित्य साधना ‘ , राहुल सांस्कृत्यायन कृत्य ‘ नए भारत के नए लोग ‘ , ‘ सूरदास ‘  पृथ्वी सिंह की ‘ लेनिन ‘ तथा ‘ कार्ल मार्क्स ‘  विष्णु प्रभाकर कृत ‘ आवारा मसीहा , प्रमुख जीवनियां है।

 

यह भी जरूर पढ़ें –

काव्य। महाकाव्य। खंडकाव्य। मुक्तक काव्य।mahakavya | khandkaawya |

उपन्यास और कहानी में अंतर। उपन्यास। कहानी। हिंदी साहित्य

उपन्यास की संपूर्ण जानकारी | उपन्यास full details in hindi

 समाजशास्त्र | समाज की परिभाषा | समाज और एक समाज में अंतर | Hindi full notes

उपन्यास और महाकाव्य में अंतर। उपन्यास। महाकाव्य।upnyas | mahakavya

समाजशास्त्र। समाजशास्त्र का अर्थ एवं परिभाषा। sociology

 

दोस्तों हम पूरी मेहनत करते हैं आप तक अच्छा कंटेंट लाने की | आप हमे बस सपोर्ट करते रहे और हो सके तो हमारे फेसबुक पेज को like करें ताकि आपको और ज्ञानवर्धक चीज़ें मिल सकें |

अगर आपको ये पोस्ट अच्छा लगा हो तो इसको ज्यादा से ज्यादा लोगों तक पहुचाएं  |

व्हाट्सप्प और फेसबुक के माध्यम से शेयर करें |

और हमारा एंड्राइड एप्प भी डाउनलोड जरूर करें

कृपया अपने सुझावों को लिखिए हम आपके मार्गदर्शन के अभिलाषी है |

facebook page hindi vibhag

YouTUBE

5 thoughts on “जीवनी। हिंदी साहित्य।what is biography | जीवनी क्या होता है।”

  1. Jeevani ko bahut acha explain kiya hai sir aapne.
    AApki website par hamesha bahut acha article milta hai.
    Dhanyavaad hindi vibhag ko

    Reply

Leave a Comment

You cannot copy content of this page