निबंध

दशहरा निबंध। विजयादशमी त्यौहार भारत 2018 । रावण वध। dussehra nibandh | vijyadashmi |

दशहरा निबंध – Dussehra nibandh

 

दशहरा / विजयादशमी आश्विन माह की शुक्ल पक्ष की दशमी के दिन मनाया जाता है नवरात्रि के 9 दिन के बाद विजय पर्व के रूप में दशहरा या विजयदशमी के रुप में मनाया जाता है। दशहरा एक बहुत ही महत्वपूर्ण हिंदुओं का त्यौहार है जो पुरे भारत के लोगों के द्वारा हर साल बेहद हर्षोल्लास के साथ मनाया जाता है। यह एक धार्मिक व पारंपरिक उत्सव है जिसे हर बच्चों को जाना चाहिए विद्यार्थियों के ज्ञान और कुशलता को बढ़ाने में स्कूल और कॉलेज में निबंध लेखन एवं सम्मानीय और असरदार तरीका है।

दशहरा को लोग विजयदशमी के नाम से भी जानते हैं इसे पूरे भारत में लोग जबरदस्त उत्साह और खुशी के साथ मनाते हैं। यह भारत के प्रमुख धार्मिक त्योहारों में से एक है ऐतिहासिक मान्यताओं और प्रसिद्ध हिंदू धर्म ग्रंथों रामायण के अनुसार ऐसा उल्लेखित है कि भगवान राम ने रावण को मारने के लिए देवी चंडी की पूजा की थी। लंका के 10 सिर वाले राक्षस राजा रावण के लिए अपनी बहन सुपर्णखा की बेइज्जती का बदला लेने के लिए राम की पत्नी माता सीता का हरण कर लिया था तब से जिस दिन से भगवान राम ने रावण को मारा उसी दिन से दशहरा का उत्सव मनाया जाता है।

यह बुरे आचरण पर अच्छे आचरण की जीत की खुशी में मनाया जाने वाला त्योहार है। सामान्यतः दशहरा एक जीत के जश्न के रूप में मनाया जाने वाला त्यौहार है जश्न की मान्यता सबकी अलग-अलग होती है जैसे किसानों के लिए नई फसलों के घर आने का जश्न है। पुराने वक्त में इस दिन औजारों एवं हथियारों की पूजा की जाती थी क्योंकि वह इसे युद्ध में मिली जीत के जश्न के तौर पर देखते थे। लेकिन इन सब के पीछे एक ही कारण होता है बुराई पर अच्छाई की जीत। किसानों के लिए यह मेहनत की जीत के रूप में आई फसलों का जश्न एवं सैनिकों के लिए युद्ध में दुश्मन पर जीत का जश्न है।

आज के वक्त में यह बुराई पर अच्छाई की जीत का प्रतीक है। बुराई किसी भी रुप में हो सकती है जैसे – क्रोध , असत्य , ईर्ष्या , दुख , आलस आदि किसी भी आंतरिक बुराई को खत्म करने का भी एक आत्म विजय है और हमें प्रतिवर्ष अपने में से इस तरह की बुराई को खत्म कर विजयदशमी के दिन इस का जश्न मनाना चाहिए , एक दिन हम अपने सभी इंद्रियों पर राज कर सके।

दशहरा के दिन के पीछे कई कहानियां है जिसमें सबसे प्रचलित कथा है भगवान राम का युद्ध जीतना। अर्थात रावण की बुराई का विनाश कर उसके घमंड को तोड़ना राम अयोध्या नगरी के राजकुमार थे। उनकी पत्नी का नाम सीता था , एवं उनके छोटे भाई लक्ष्मण थे। राजा दशरथ उनके पिता थे। उनकी पत्नी के कारण इन तीनों को 14 वर्ष के बनवास के लिए अयोध्या नगरी छोड़कर जाना पड़ा। उसी बनवास काल के दौरान रावण ने सीता का अपहरण कर लिया।

रावण चारों वेदों का ज्ञाता था। महाबलशाली था। जिसकी सोने की लंका भी थी उसमें अपार अहंकार था। वह महान शिव भक्त था और खुद को भगवान विष्णु का दुश्मन बताता था। वास्तव में रावण के पिता विश्रवा एक ब्राह्मण थे एवं माता राक्षस कूल की थी। इसलिए रावण मे एक ब्राह्मण के समान ज्ञान था , एवं एक राक्षस के समान शक्ति। और इन्ही दो बातों का रावण में अहंकार था।जिसे खत्म करने के लिए भगवान विष्णु ने राम अवतार लिया था। राम ने अपनी सीता को वापस लाने के लिए रावण से युद्ध किया , जिसमें वानर सेना एवं हनुमान जी ने राम का साथ दिया।

इस युद्ध में रावण के छोटे भाई विभीषण ने भी भगवान राम का साथ दिया। और अंत में भगवान राम ने रावण को मार कर उसके घमंड का नाश किया। इसी विजय के रूप में प्रतिवर्ष विजयदशमी मनाई जाती है।

दशहरा हिंदुओं के महत्वपूर्ण त्योहारों में से एक है। इस दिन कई जगह पर मेला लगता है , जिसमें दुकानें सज जाती है। खाने पीने का आयोजन होता है आयोजन में नाट्य – नाटिका का प्रस्तुतीकरण किया जाता है। इस दिन भर में लोग अपने वाहनों को सफाई करके उसका पूजन करते हैं , व्यापारी अपना लेखा-जोखा पूरा करो उसकी पूजा करते हैं , किसान अपने जानवरों की , फसलों की पूजा करते हैं। कारखानों में मशीन एवं औजारों का पूजन किया जाता है। इस दिन घर के सभी पुरुष एवं बच्चे दशहरा मैदान पर जाते हैं। रावण कुंभकरण एवं रावण का पुत्र मेघनाथ के पुतले का दहन किया जाता है।

 

यह भी जरूर पढ़ें – 

Hindi stories class 2 Short hindi stories

हिंदी कहानियां Hindi stories for class 8 – शिक्षाप्रद कहानियां

Hindi stories for class 9 नैतिक शिक्षा की कहानियां

3 Best Story In Hindi For Child With Moral Values – स्टोरी इन हिंदी

7 Hindi short stories with moral for kids | Short story in hindi

Hindi panchatantra stories best collection at one place

5 Best Kahaniya In Hindi With Morals हिंदी कहानियां मोरल के साथ

 

 

facebook page hindi vibhag

YouTUBE

 

 

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *