व्याकरण

भाषा के प्रकार्य। भाषा की परिभाषा। भाषा के प्रमुख तत्त्व।

भाषा के प्रकार्य की पूरी जानकारी प्राप्त करने हेतु ये पोस्ट पूरा पढ़ें | आपको इसमें पूरी जानकारी दी गयी है | हमने अन्य पोस्ट भी लिखे है जैसे की भाषा की परिभाषा व बहुत कुछ | अगर आपको और कुछ जानना हो तो सर्च बॉक्स में लिख कर सर्च जरूर कर लें |

भाषा के प्रकार्य

 

भाषा के प्रकार्य

=> विचारों के आदान – प्रदान का महत्वपूर्ण साधन है।

=> इसके द्वारा मनुष्य अपनी अनुभूतियों (विचारों) तथा भावों को व्यक्त करता है। साथ ही सामाजिक संबंधों की अभिव्यक्ति का उपकरण भी उसे बनाता है।

=> अपनी इस प्रकृति के कारण भाषा एक और मानसिक व्यापार और दूसरी और सामाजिक व्यापार से जुड़ी है।

=> मानसिक व्यापार चिंतन प्रक्रिया तथा सामाजिक व्यापार संप्रेषण प्रक्रिया पर आधारित होता है। इन दोनों की अपनी व्यवस्था है तथा दोनों में अन्योन्याश्रित संबंध है।

=> प्रसिद्ध फ्रांसीसी भाषा वैज्ञानिक ‘ सस्यूर ‘ के विचारों से प्रभावित होकर प्राग स्कूल की भाषा वैज्ञानिक विचारधारा ने आरंभ से ही भाषिक प्रकार्यों  के अध्ययन को महत्व दिया।

=> वस्तुतः संप्रेषण व्यापार विभिन्न सामाजिक भूमिकाओं के साथ जुड़ा होता है।

=> संप्रेषण व्यवस्था के विभिन्न उपकरण या उपादान है इसमें ‘ वक्ता ‘ और ‘ श्रोता ‘ की भूमिका महत्वपूर्ण है।

=> वक्ता अपने विचारों को दूसरों तक संप्रेषित करता है तथा दूसरों के द्वारा संप्रेषित विचारों को ग्रहण करता है , तभी भाषा का कार्य संपादित होता है और बातचीत संभव होता है।

 

यह भी जरूर पढ़ें –

भाषा की परिभाषा।भाषा क्या है अंग अथवा भेद। bhasha ki paribhasha | भाषा के अभिलक्षण

समास की पूरी जानकारी | समास के भेद | samas full details | समास की परिभाषा  

रस के अंग और भेद | रसराज | संयोग श्रृंगार | ras full notes in hindi

सम्पूर्ण संज्ञा अंग भेद उदहारण।लिंग वचन कारक क्रिया | व्याकरण | sangya aur uske bhed

सर्वनाम की संपूर्ण जानकारी | सर्वनाम और उसके सभी भेद की पूरी जानकारी

 

 

 

facebook page hindi vibhag

YouTUBE

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *