Hindi stories for all

रोचक कहानियाँ – किस्से | बाल मनोविज्ञान पर आधारित | रुचिकर | अपने का दर्द | मन के अंदर | बेमतलब तपस्या

रोचक कहानियाँ -किस्से | बाल मनोविज्ञान पर आधारित | रुचिकर | अपने का दर्द | मन के अंदर

  Interesting short stories collection in hindi

 

 

अपने का दर्द

मोहन और चंदर दो पड़ोसी थे। दोनों के घर के सामने एक आम का पौधा वर्षों से लगातार बड़ा हो रहा था। वह पेड़ बना तो गर्मी आते ही उस पर आम  भी आ गए। रसीले फलों ने पड़ोसियों में दरार डाल दी। दोनों पेड़ पर अपना -अपना दावा जताते हुए झगड़ने लगे। दोनों कह रहे थे कि इस पेड़ को उन्होंने लगाया और पाला-पोसा है। झगड़ा बढ़ा तो राजा के पास पहुंच गया।  पूरी बात सुनने के बाद राजा ने कहा पेड़ को काट कर बेच दिया जाए , और दोनों को आधा – आधा पैसा दे दिया जाए।  यह सुनते ही मोहन बोला आप पेड़ को ना कटवाएं सारे फल चंद्र को दे दें।  राजा ने फैसला सुनाया पेड़ को पालने पोसने  वाला उसे कटते हुए नहीं देख सकता। पेड़  मोहन का ही है और फलों पर उसका ही हक है।

मन के अंदर

बुढ़िया गठरी  लिए जा रही थी भारी गठरी को उठाना मुश्किल हो रहा था। उसने पीछे से आ रहे एक घुड़सवार को रोका , और कहा मेरी गठरी गांव पहुंचा दो , वहां मेरा इंतजार करना मैं पैदल पहुंच रही हूं। घुड़सवार ने कहा कि मेरे पास इतनी फुर्सत नहीं।  और चला गया आगे जाकर उसने सोचा कि गठरी में कीमती सामान हो सकता है। वह इसे लेकर भाग गया तो बुढ़िया  कुछ नहीं कर पायेगी। वह लौटा गठरी  पहुंचाने के लिए मांगी तो , बुढ़िया ने गठरी देने से मना कर दिया। इस पर वह बोला तुझे क्या हो गया माई  अभी तो कुछ और कह रही थी। यह उल्टी बात तुझे किसने समझाई बुढ़िया बोली उसी ने समझाई जिसने तुझे समझाया कि माई की गठरी ले ले। जो तेरे अंदर बैठा है वही मेरे अंदर बैठा है।

 

बेमतलब तपस्या

उसकी तपस्या से भगवान प्रसन्न हुए। उसे दर्शन दिए और कहा मांगो जो मांगना चाहते हो। पर वह यह सोचकर वरदान मांगो कि जो तुम्हें मिलेगा वह सब को मिल जाएगा। उसने कुछ सोचा और कहा कि मेरे घर पर धन का ऐसा भंडार बना दीजिए जो कभी खत्म न हो। भगवान ने कहा तथाअस्तु अगली सुबह उसने अपनी सारी जेब रुपयों से भरी और बाजार की ओर निकल पड़ा , पर वहां अनाज वाले ने उसे अनाज देने से मना कर दिया। कहा रुपए का तो मेरे घर पर भी ढेर लगा है। अनाज  चाहिए तो सोना या कुछ और चीज ले आओ। वह सुनार के पास गया , कपड़े की दुकान में भी गया , और फिर बाजार की हर दुकान में गया किसी को पैसा नहीं चाहिए था। गलत चीज मांग कर उसने कठोर तपस्या को ही बेमतलब बना दिया।

 

जमीन का लेखा

 वह सितारों को देखकर भविष्य बताता था। एक दिन अंधेरी रात में वह आसमान में सितारों की गति देखता हुआ चला जा रहा था। वह रास्ता भटक गया , नजरें आसमान पर थी आगे एक गहरा गड्ढा था। वह उसमें गिर गया। बहुत चिल्लाया पर वहां कोई था ही नही जो  उसे बचाता।  सुबह एक बुढ़िया ने उसे गड्ढे से निकाला। उसने बुढ़िया से कहा मैं सितारों को देखकर भविष्य बताता हूं , तुमने मुझे बचाया है इसलिए आज रात मैं तुम्हारा भविष्य बताऊंगा। बुढ़िया ने कहा जो आदमी जमीन के गड्ढों को नहीं देख पाता वह भला आसमान के तारों को देख कर क्या बताएगा। और जिसे अपना भविष्य नहीं मालूम था वह भला मेरा क्या बताएगा मैं अपना भविष्य खुद बना लूंगी।

 

तीन नियम

१ हम प्रेम पाना  है ,पर देना नहीं चाहते। देते राय भर है और पाना झोली भर।  हम लेना ही याद रहता है ,देते शमय भूल जाते है।और यहीं हमरा हिसाब गड़बड़ा जाता है। हम जो देते है , वही  पाते है।

अगर आपको किसी का प्रेम  रहा है   प्रेम नहीं दिया।

२ सब हंसना चाहते है। वो भी जो गंभीरता ओढ़े  है और वो भी जिन्हे हंसने की कोई वजह दिखाइ नहीं देती। हम जितनी से दूसरों को ज्ञान देने लगते ,उतनी कोशिश उन्हें  हंसने की नहीं करते। हंसी केवल अपने चेहरे की सुंदरता नहीं बढ़ाते ,वे जीवन को भी सुन्दर बना देती है। कहा गया है की हंसमुख व्यक्ति वह फुहार  है ,जिसके छींटे सबके मन को ठंडा करते है।

३ बीते कल में बहुत कुछ ऐसा है ,जो हमे अपनी गलतीयो का एहसास कराता है। हम बहुत कुछ ऐसा करते हैं जो नहीं करना चाहिए था। बहुत कुछ ऐसा कहते हैं ,जो नहीं करना चाहिए। फिर हम सोचते है ,उतना ही खुद से नफरत करते हैं।

 

यह भी जरूर पढ़ें –

हिंदी में लघु कहानियाँ | बच्चों के लिए लघु कहानी | Short hindi stories | चतुराई की जीत 

टपके का डर। शेर की शामत। दादी – नानी के किस्से। बाल मनोरंजन कहानी। जंगल की कहानी |kahani in hindi 

जो कुआँ खोदता है वही गिरता है | एक बादशाह था | रोचक कहानी | Panchtantra stories

आयुष के बरसाती | बाल मरोरंजन की कहानी | उपदेश परक कहानी | Moral stories 

 

 

 

दोस्तों हम पूरी मेहनत करते हैं आप तक अच्छा कंटेंट लाने की | आप हमे बस सपोर्ट करते रहे और हो सके तो हमारे फेसबुक पेज को like करें ताकि आपको और ज्ञानवर्धक चीज़ें मिल सकें |

अगर आपको ये पोस्ट अच्छा लगा हो तो इसको ज्यादा से ज्यादा लोगों तक पहुचाएं  |

व्हाट्सप्प और फेसबुक के माध्यम से शेयर करें |

और हमारा एंड्राइड एप्प भी डाउनलोड जरूर करें

कृपया अपने सुझावों को लिखिए हम आपके मार्गदर्शन के अभिलाषी है 

facebook page hindi vibhag

YouTUBE

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *