लाहोरी दरवाजा लाल किला।lahori gate laal quila | old delhi meena bazaar

लाहोरी दरवाजा

 

दिल्ली के प्रसिद्ध लाल किले की लाल पत्थरों से बनी यह विशाल इमारत सन 1648 में शाहजहां ने बनवाई थी। इसका भव्य दरवाजा लाहोरी दरवाजा कहलाता है। जिसे आप चित्र में भी देख सकते हैं। यह दरवाजा प्रसिद्ध शहर लाहौर को मुखातिब है जो कि अब पाकिस्तान में है। इसी कारण इसका नाम लाहोरी दरवाजा पड़ा।

 

यह भी पढ़ें – हिन्दू के 27 मंदिरों को तोड़कर बनाया गया था क़ुतुब मीनार जाने सचाई

 

लाहोरी दरवाजा इस तरह से बनाया हुआ था कि जब बादशाह अपने सिंहासन पर दीवान-ए-आम में बैठते थे तो वह प्रसिद्ध चांदनी चौक का पूरा नजारा देख सकते थे। बाद में औरंगजेब ने उस दरवाजे को बंद करवा कर उसके दाएं तरफ एक नया दरवाजा बनाया था। लाहोरी दरवाजे के अंदर के रास्ते में दोनों तरफ बाजार आता है जिसे मीना बाजार कहा जाता है। यह बाजार एक समय में राज घराने की स्त्रियों के लिए था।

आज भी हर साल स्वतंत्रता दिवस के अवसर पर लाहोरी दरवाजे के सामने लाल किले की प्राचीर पर झंडा फहराया जाता है। इसका डिजाइन बड़ा ही सुरुचिपूर्ण है। दरवाजे के ऊपर की क्षत्रियां बड़ी ही भव्य है , यह अत्यधिक लंबी अथवा चौड़ी है तथा इसकी निर्मित सजावट अत्यंत मनमोहक है।

 

यह भी पढ़ें – मध्यकालीन पांचवा शहर कोण सा था और दिल्ली में कहाँ स्थित है 

 

लाहोरी दरवाजे के अतिरिक्त लाल किले में एक और तीन मंजिला दरवाजा है जिसे दिल्ली दरवाजा कहा जाता है।अर्ध अष्टभुज मीनारों से बने दिल्ली दरवाजे में कई कक्ष हैं जिनके बाहर दो हाथियों की मूर्ति बनी हुई है।

यह भी पढ़ें –  दीवान ए खास की विशेषता 

 

क़ुतुब मीनार को कब और किसने बनाया सम्पूर्ण जानकारी 

अलाई दरवाजा कहा स्थित है इसकी क्या विशेस्ताएं है जानिए

 

 

दोस्तों हम पूरी मेहनत करते हैं आप तक अच्छा कंटेंट लाने की | आप हमे बस सपोर्ट करते रहे और हो सके तो हमारे फेसबुक पेज को like करें ताकि आपको और ज्ञानवर्धक चीज़ें मिल सकें |

अगर आपको ये पोस्ट अच्छा लगा हो तो इसको ज्यादा से ज्यादा लोगों तक पहुचाएं  |

व्हाट्सप्प और फेसबुक के माध्यम से शेयर करें |

Telegram channel

और हमारा एंड्राइड एप्प भी डाउनलोड जरूर करें

कृपया अपने सुझावों को लिखिए हम आपके मार्गदर्शन के अभिलाषी है 

facebook page hindi vibhag

YouTUBE

 

Sharing is caring

Leave a Comment