शब्द और पद में अंतर।उपवाक्य। उपवाक्य की परिभाषा। शब्द पद में अंतर स्पस्ट करें।

शब्द और पद में अंतर। उपवाक्य

 

शब्द और पद में अंतर

साधारण बोलचाल की भाषा में ‘ शब्द ‘ और ‘ पद ‘ में अंतर नहीं माना जाता , परंतु ‘ व्याकरण ‘ तथा ‘ भाषाविज्ञान ‘ की दृष्टि से दोनों में अंतर माना जाता है। सार्थक ध्वनि समूह को ‘ शब्द ‘ कहा जाता है। शब्द को जब वाक्य में प्रयोग करते हैं , तब उसे ‘ पद ‘ कहा जाता है। जब  शब्द वाक्य की आवश्यकता के अनुसार अपने रूप में वाक्य में प्रयुक्त होता है तो उसे ‘ पद ‘ या ‘ रूप ‘ कहते हैं।

 

 

उपवाक्य

जब दो या अधिक सरल वाक्यों को मिलाकर एक वाक्य बनाया जाता है , तो उस एक वाक्य में जो वाक्य मिले होते हैं , उन्हें उपवाक्य कहा जाता है। यह मुख्यतः  दो प्रकार के होते हैं –

१ प्रधान उपवाक्य – जो वाक्य किसी अन्य वाक्य पर आश्रित नहीं होते उन्हें प्रधान उपवाक्य कहा जाता है।

२ आश्रित उपवाक्य – जो वाक्य गुण तथा दूसरे के आश्रित हैं उन्हें आश्रित उपवाक्य कहा जाता है।

उदाहरण के लिए –

‘ वह लड़की चली गई जो शॉर्ट स्कर्ट पहनी हुई थी ‘

उपरोक्त वाक्य में ‘ वह लड़की चली गई ‘ प्रधान वाक्य है।

‘ जो शॉर्ट स्कर्ट पहनी थी ‘ आश्रित उपवाक्य है।

 

यह भी जरूर पढ़ें –

काव्य। महाकाव्य। खंडकाव्य। मुक्तक काव्य।mahakavya | khandkaawya |

काव्य का स्वरूप एवं भेद। महाकाव्य। खंडकाव्य , मुक्तक काव्य। kaavya ke swroop evam bhed

उपन्यास और कहानी में अंतर। उपन्यास। कहानी। हिंदी साहित्य

उपन्यास की संपूर्ण जानकारी | उपन्यास full details in hindi

भाषा की परिभाषा।भाषा क्या है अंग अथवा भेद। bhasha ki paribhasha | भाषा के अभिलक्षण

 

 

 

 

दोस्तों हम पूरी मेहनत करते हैं आप तक अच्छा कंटेंट लाने की | आप हमे बस सपोर्ट करते रहे और हो सके तो हमारे फेसबुक पेज को like करें ताकि आपको और ज्ञानवर्धक चीज़ें मिल सकें |

अगर आपको ये पोस्ट अच्छा लगा हो तो इसको ज्यादा से ज्यादा लोगों तक पहुचाएं  |

व्हाट्सप्प और फेसबुक के माध्यम से शेयर करें |

और हमारा एंड्राइड एप्प भी डाउनलोड जरूर करें

कृपया अपने सुझावों को लिखिए हम आपके मार्गदर्शन के अभिलाषी है 

Leave a Comment

You cannot copy content of this page