व्याकरण

शब्द और पद में अंतर।उपवाक्य। उपवाक्य की परिभाषा। शब्द पद में अंतर स्पस्ट करें।

शब्द और पद में अंतर। उपवाक्य

 

शब्द और पद में अंतर

साधारण बोलचाल की भाषा में ‘ शब्द ‘ और ‘ पद ‘ में अंतर नहीं माना जाता , परंतु ‘ व्याकरण ‘ तथा ‘ भाषाविज्ञान ‘ की दृष्टि से दोनों में अंतर माना जाता है। सार्थक ध्वनि समूह को ‘ शब्द ‘ कहा जाता है। शब्द को जब वाक्य में प्रयोग करते हैं , तब उसे ‘ पद ‘ कहा जाता है। जब  शब्द वाक्य की आवश्यकता के अनुसार अपने रूप में वाक्य में प्रयुक्त होता है तो उसे ‘ पद ‘ या ‘ रूप ‘ कहते हैं।

 

 

उपवाक्य

जब दो या अधिक सरल वाक्यों को मिलाकर एक वाक्य बनाया जाता है , तो उस एक वाक्य में जो वाक्य मिले होते हैं , उन्हें उपवाक्य कहा जाता है। यह मुख्यतः  दो प्रकार के होते हैं –

१ प्रधान उपवाक्य – जो वाक्य किसी अन्य वाक्य पर आश्रित नहीं होते उन्हें प्रधान उपवाक्य कहा जाता है।

२ आश्रित उपवाक्य – जो वाक्य गुण तथा दूसरे के आश्रित हैं उन्हें आश्रित उपवाक्य कहा जाता है।

उदाहरण के लिए –

‘ वह लड़की चली गई जो शॉर्ट स्कर्ट पहनी हुई थी ‘

उपरोक्त वाक्य में ‘ वह लड़की चली गई ‘ प्रधान वाक्य है।

‘ जो शॉर्ट स्कर्ट पहनी थी ‘ आश्रित उपवाक्य है।

 

यह भी जरूर पढ़ें –

काव्य। महाकाव्य। खंडकाव्य। मुक्तक काव्य।mahakavya | khandkaawya |

काव्य का स्वरूप एवं भेद। महाकाव्य। खंडकाव्य , मुक्तक काव्य। kaavya ke swroop evam bhed

उपन्यास और कहानी में अंतर। उपन्यास। कहानी। हिंदी साहित्य

उपन्यास की संपूर्ण जानकारी | उपन्यास full details in hindi

भाषा की परिभाषा।भाषा क्या है अंग अथवा भेद। bhasha ki paribhasha | भाषा के अभिलक्षण

 

 

 

 

दोस्तों हम पूरी मेहनत करते हैं आप तक अच्छा कंटेंट लाने की | आप हमे बस सपोर्ट करते रहे और हो सके तो हमारे फेसबुक पेज को like करें ताकि आपको और ज्ञानवर्धक चीज़ें मिल सकें |

अगर आपको ये पोस्ट अच्छा लगा हो तो इसको ज्यादा से ज्यादा लोगों तक पहुचाएं  |

व्हाट्सप्प और फेसबुक के माध्यम से शेयर करें |

और हमारा एंड्राइड एप्प भी डाउनलोड जरूर करें

कृपया अपने सुझावों को लिखिए हम आपके मार्गदर्शन के अभिलाषी है 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *