हिंदी सामग्री

संस्मरण। sansmaran | संस्मरण के तत्व। हिंदी संस्मरण क्रम अनुसार।

संस्मरण

 

स्मृति के आधार पर किसी विषय या व्यक्ति के संबंध में लिखित किसी लेख या ग्रंथ को संस्मरण कहते हैं।संस्मरण लेखक अतीत की अनेक स्मृतियों में से कुछ रमणीय अनुभूतियों को अपनी कल्पना भावना या व्यक्तित्व की विशेषताओं से अनुरंजित कर (युक्त कर) प्रभावशाली ढंग से अभिव्यक्त करता है , उसी का वर्णन करता है , उसके वर्णन में उसकी अपनी अनुभूतियों और सम्वेदनाओं का समावेश रहता है।

संस्मरण के लेखक के लिए यह नितांत आवश्यक है कि लेखक ने उस व्यक्ति या वस्तु का साक्षात्कार किया हो जिसका वह संस्मरण लिख रहा है। वह अपने समय के इतिहास को लिखना चाह रहा है परंतु इतिहासकार की भांति वह विवरण प्रस्तुत नहीं करता। इतिहासकार के वस्तुपरक दृष्टिकोण से वह बिल्कुल अलग है। संस्मरण में जीवन के कुछ महत्वपूर्ण क्षणों या घटनाओं की स्मृति पर आधारित रोचक अभिव्यक्ति होती है संस्मरण यथार्थ जीवन से संबंधित संक्षिप्त रोचक चित्रात्मक भावुकतापूर्ण लेखक के व्यक्तित्व के आभा से पूर्ण प्रभाव पूर्ण शैली में लिखित घटना संस्मरण कहलाती है।

संस्मरण में मुख्यतः बीती हुई बातें याद की जाती है तथा उसमे भाषात्मक्ता अधिक रहती है इसमें लेखक ‘ रेखाचित्रकार ‘ की भांति तत्व निर्लिप्त नहीं रहता। यदि संस्मरण लेखक अपने विषय में लिखता है तो वह रचनात्मक आत्मकथा के अधिक निकट होती है , यदि वह अन्य व्यक्तियों के संबंध में लिखता है तो वह जीवनी के निकट होती है। इसलिए संस्मरण के लेखक को अपने लेख के प्रति सचेत रहना आवश्यक है।

हिंदी साहित्य के क्षेत्र में संस्मरण आधुनिक काल की विधा है। हिंदी संस्मरण को विकास की दिशा में बढ़ाने वाले प्रमुख साहित्यकारों में उल्लेखनीय नाम है –

=> रामवृक्ष बेनीपुरी – ” माटी की मूरतें ” , ” मील के पत्थर “।

=> देवेंद्र सत्यार्थी जी – ” क्या गोरी क्या सांवरी ” तथा ” रेखाएं बोल उठी। ”

=> कन्हैया लाल मिश्र प्रभाकर – ” भूले हुए चेहरे ” , तथा ” माटी हो गई सोना। ”

अगर आपको नीचे दिए गए सभी संस्मरण सही तरह से पढ़ना है तो आपको कंप्यूटर या लैपटॉप पर पढ़ना होगा | और यदि आप मोबाइल में पढ़ना चाहते हैं तो ( अपने ब्राउज़र की सेटिंग में जाकर रिक्वेस्ट डेस्कटॉप साइट पर क्लिक करें )

वर्ष                 संस्मरण का शीर्षक                                                          संस्मरणकार
1905 अनुमोदन का अन्त, अतीत स्मृति                                                      महावीरप्रसाद द्विवेदी
1907 इंग्लैंड के देहात में महाराज बनारस का कुआं                                        काशीप्रसाद जायसवाल
1907 सभा की सभ्यता                                                                            महावीरप्रसाद द्विवेदी
1908 लन्दन का फाग या कुहरा                                                                      प्यारेलाल मिश्र
1909 मेरी नई दुनिया सम्बन्धिनी रामकहानी                                                भोलदत्त पांडेय
1911 अमेरिका में आनेवाले विद्यार्थियों की सूचना                                        जगन्नाथ खन्ना
1913 मेरी छुट्टियों का प्रथम सप्ताह                                                        जगदीश बिहारी सेठ
1913 वाशिंगटन महाविद्यालय का संस्थापन दिनोत्सव                                          पांडुरंग खानखोजे
1918 इधर-उधर की बातें                                                                           रामकुमार खेमका
1921 कुछ संस्मरण (सुधा 1921 में प्रकाशित)                                                   वृन्दालाल वर्मा
1921 मेरे प्राथमिक जीवन की स्मृतियां (सुधा 1921 में प्रकाशित)                       इलाचन्द्र जोशी
1932 मदन मोहन के सम्बन्ध की कुछ पुरानी स्मृतियां                                               शिवराम पांडेय
1937 क्रान्तियुग के संस्मरण                                                                            मन्मथनाथ गुप्त
1937 बोलती प्रतिमा                                                                                       श्रीराम शर्मा
1937 साहित्यिकों के संस्मरण (हंस के प्रेमचन्द स्मृति अंक 1937 सं. पराड़कर)             ज्योतिलाल भार्गव
1938 झलक                                                                                                  शिवनारायण टंडन
1940 टूटा तारा (स्मरण : मौलवी साहब, देवी बाबा)                                               राजा राधिकारमण प्रसाद सिंह
1946 पंच चिह्न                                                                                                शांतिप्रसाद द्विवेदी
1946 वे दिन वे लोग                                                                                          शिवपूजन सहाय
1947 पुरानी स्मृतियां और नए स्केच                                                                     प्रकाशचन्द्र गुप्त
1947 मिट्टी के पुतले                                                                                         प्रकाशचन्द्र गुप्त
1947 स्मृति की रेखाएं                                                                                         महादेवी वर्मा
1948 सन् बयालीस के संस्मरण                                                                               श्रीराम शर्मा
1949 एलबम                                                                                                       सत्यजीवन वर्मा ‘भारतीय’
1949 ज़्यादा अपनी, कम पराई                                                                                उपेन्द्रनाथ ‘अश्क’
1952 संस्मरण                                                                                                       बनारसीदास चतुर्वेदी
1954 गांधी कुछ स्मृतियां                                                                                             जैनेन्द्र
1954 ये और वे                                                                                                          जैनेन्द्र
1955 मुझे याद है                                                                                                       रामवृक्ष बेनीपुरी
1955 बचपन की स्मृतियां                                                                                         राहुल सांकृत्यायन
1955 मैं भूल नहीं सकता                                                                                           कैलाशनाथ काटजू
1956 मील के पत्थर                                                                                                रामवृक्ष बेनीपुरी
1956 जिनका मैं कृतज्ञ, मेरे असहयोग के साथी                                                             राहुल सांकृत्यायन
1956 मंटो मेरा दुश्मन या मेरा दोस्त मेरा दुश्मन                                                               उपेन्द्रनाथ अश्क
1957 जंजीरें और दीवारें                                                                                           रामवृक्ष बेनीपुरी
1957 वे जीते कैसे हैं                                                                                               श्रीराम शर्मा
1959 कुछ मैं कुछ वे                                                                                                 रामवृक्ष बेनीपुरी
1959 ज़्यादा अपनी कम परायी                                                                                       अश्क
1959 मैं इनका ऋणी हूं                                                                                               इन्द्र विद्यावाचस्पति
1959 स्मृति-कण                                                                                                      सेठ गोविन्ददास
1960 प्रसाद और उनके समकालीन                                                                              विनोद शंकर व्यास
1962 अतीत की परछाइयां                                                                                             अमृता प्रीतम
1962 कुछ स्मृतियां और स्फुट विचार                                                                                डॉ॰ सम्पूर्णानन्द
1962 जाने-अनजाने                                                                                                     विष्णु प्रभाकर
1962 नए-पुराने झरोखे                                                                                                हरिवंशराय ‘बच्चन’
1962 समय के पांव                                                                                                     माखनलाल चतुर्वेदी
1963 जैसा हमने देखा                                                                                                      क्षेमचन्द्र ‘सुमन’
1963 दस तस्वीरें                                                                                                           जगदीशचन्द्र माथुर
1963 साठ वर्ष : एक रेखांकन                                                                                        सुमित्रानन्दन पन्त
1965 कुछ शब्द : कुछ रेखाएं                                                                                              विष्णु प्रभाकर
1965 जवाहर भाई : उनकी आत्मीयता और सहृदयता                                                             रायकृष्ण दास
1965 मेरे हृदय देव                                                                                                     हरिभाऊ उपाध्याय
1965 लोकदेव नेहरू                                                                                               रामधारीसिंह ‘दिनकर’
1965 वे दिन वे लोग                                                                                                     शिवपूजन सहाय
1966 चेहरे जाने-पहचाने                                                                                                सेठ गोविन्ददास
1966 स्मृतियां और कृतियां                                                                                               शान्तिप्रय द्विवेदी
1967 चेतना के बिम्ब                                                                                                     डॉ॰ नगेन्द्र
1968 गांधी संस्मरण और विचार                                                                                     काका साहेब कालेलकर
1968 घेरे के भीतर और बाहर                                                                                         डॉ॰ हरगुलाल
1968 बच्चन निकट से अजित कुमार एवं                                                                         ओंकारनाथ श्रीवास्तव
1968 स्मृति के वातायन                                                                                              जानकीवल्लभ शास्त्री
1969 चांद                                                                                                                  पद्मिनी मेनन
1969 संस्मरण और श्रद्धांजलियां                                                                                 रामधारी सिंह दिनकर
1970 व्यक्तित्व की झांकियां                                                                                       लक्ष्मीनारायण सुधांशु
1971 जिन्होंने जीना जाना                                                                                            जगदीशचन्द्र माथुर
1971 स्मारिका                                                                                                          महादेवी वर्मा
1972 अन्तिम अध्याय                                                                                                  पदुमलाल पुन्नालाल बख़्शी
1973 जिनके साथ जिया                                                                                                   अमृतलाल नागर
1974 स्मृति की त्रिवेणिका                                                                                                    लक्ष्मीशंकर व्यास
1975 मेरा हमदम मेरा दोस्त                                                                                                 कमलेश्वर
1975 रेखाएं और संस्मरण                                                                                                क्षेमचन्द्र सुमन
1975 चन्द सतरें और अनीता                                                                                                 राकेश
1976 बीती यादें                                                                                                            परिपूर्णानन्द
1976 मैंने स्मृति के दीप जलाए                                                                                        रामनाथ सुमन
1977 मेरे क्रान्तिकारी साथी                                                                                          भगत सिंह
1977 हम हशमत                                                                                                              कृष्णा सोबती
1978 कुछ ख़्वाबों में कुछ ख़यालों में                                                                                   शंकर दयाल सिंह
1978 संस्मरण को पाथेय बनने दो                                                                                    विष्णुकान्त शास्त्री
1979 अतीत के गर्त से                                                                                                     भगवतीचरण वर्मा
1979 पुनः सुलोचना                                                                                                          रांगेय राघव
1979 श्रद्धांजलि संस्मरण                                                                                                 मैथिलीशरण गुप्त
1980 यादों के झरोखे                                                                                                          कुंवर सुरेश सिंह
1980 लीक-अलीक                                                                                                         भारतभूषण अग्रवाल
1981 औरों के बहाने                                                                                                         राजेन्द्र यादव
1981 यादों की तीर्थयात्रा                                                                                                        विष्णु प्रभाकर
1981 जिनके साथ जिया                                                                                                          अमृतलाल नागर
1981 सृजन का सुख-दुख                                                                                                     प्रतिभा अग्रवाल
1982 संस्मरणों के सुमन                                                                                                        रामकुमार वर्मा
1982 स्मृति-लेखा                                                                                                                     अज्ञेय
1982 आदमी से आदमी तक                                                                                                      भीमसेन त्यागी
1983 निराला जीवन और संघर्ष के मूर्तिमान रूप                                                                           डॉ॰ ये॰ पे॰ चेलीशेव
1983 मेरे अग्रज : मेरे मीत                                                                                                      विष्णु प्रभाकर
1983 युगपुरुष                                                                                                                    रामेश्वर शुक्ल ‘अंचल’
1984 बन तुलसी की गन्ध                                                                                                        रेणु
1984 दीवान ख़ाना                                                                                                           पद्मा सचदेव
1986 रस गगन गुफा में                                                                                                    भगवतीशरण उपाध्याय
1988 हज़ारीप्रसाद द्विवेदी : कुछ संस्मरण                                                                          कमल किशोर गोयनका
1989 भारत भूषण अग्रवाल : कुछ यादें, कुछ चर्चाएं                                                               बिन्दु अग्रवाल
1990 सृजन के सेतु                                                                                                         विष्णु प्रभाकर
1992 जिनकी याद हमेशा रहेगी                                                                                            अमृत राय
1992 निकट मन में                                                                                                           अजित कुमार
1992 याद हो कि न याद हो                                                                                                  काशीनाथ सिंह
1992 सुधियां उस चन्दन के वन की                                                                                     विष्णुकान्त शास्त्री
1994 लाहौर से लखनऊ तक                                                                                              प्रकाशवती पाल
1994 सप्तवर्णी                                                                                                               गिरिराज किशोर
1995 अग्निजीवी                                                                                                                प्रफुल्लचन्द्र ओझा
1995 मितवा घर                                                                                                               पदमा सचदेव
1995 लौट आओ धार                                                                                                         दूधनाथ सिंह
1995 स्मृतियों के छंद                                                                                                       रामदरश मिश्र
1996 अभिन्न                                                                                                                 विष्णुचन्द्र शर्मा
1996 सृजन के सहयात्री                                                                                                 रवीन्द्र कालिया
1998 यादें और बातें                                                                                                         बिन्दु अग्रवाल
1998 हम हशमत भाग-2,                                                                                                  कृष्णा सोबती
2000 अमराई                                                                                                                 पदमा सचदेव
2000 नेपथ्य नायक लक्ष्मीचन्द्र जैन                                                                                 मोहनकिशोर दीवान
2000 याद आते हैं                                                                                                          रमानाथ अवस्थी
2000 यादों के काफिले                                                                                                     देवेन्द्र सत्यार्थी
2000 वे देवता नहीं हैं                                                                                                     राजेन्द्र यादव
2001 अंतरंग संस्मरणों में प्रसाद                                                                                     पुरुषोत्तमदास मोदी
2001 एक नाव के यात्री                                                                                               विश्वनाथप्रसाद तिवारी
2001 प्रदक्षिणा अपने समय की                                                                                          नरेश मेहता
2001 अपने-अपने रास्ते                                                                                                  रामदरश मिश्र
2002 काशी का अस्सी                                                                                                    काशीनाथ सिंह
2002 नेह के नाते अनेक                                                                                                   कृष्णविहारी मिश्र
2002 लखनऊ मेरा लखनऊ                                                                                            मनोहर श्याम जोशी
2002 स्मृतियों का शुक्ल पक्ष                                                                                           डॉ॰ रामकमल राय
2002 चिडि़या रैन बसेरा                                                                                                विद्यानिवास मिश्र
2002 लौट कर आना नहीं होगा                                                                                       कान्तिकुमार जैन
2003 आंगन के वंदनवार                                                                                                  विवेकी राय
2003 रघुवीर सहाय : रचनाओं के बहाने एक संस्मरण                                                         मनोहर श्याम जोशी
2004 तुम्हारा परसाई                                                                                                       कान्तिकुमार जैन
2004 पर साथ-साथ चली रही याद                                                                                   विष्णुकान्त शास्त्री
2004 आछे दिन पाछे गए                                                                                                 काशीनाथ सिंह
2004 नंगा तलाई का गांव                                                                                          डॉ॰ विश्वनाथ त्रिपाठी
2004 लाई हयात आए                                                                                                लक्ष्मीधर मालवीय
2005 मेरे सुहृद : मेरे श्रद्धेय                                                                                         विवेकी राय
2005 सुमिरन को बहानो                                                                                             केशवचन्द्र वर्मा
2006 घर का जोगी जोगड़ा                                                                                         काशीनाथ सिंह
2006 जो कहूंगा सच कहूंगा                                                                                      डाॅ॰ कान्ति कुमार जैन
2006 ये जो आईना है                                                                                                       मधुरेश
2007 अब तो बात फैल गई                                                                                           कान्तिकुमार जैन
2007 एक दुनिया अपनी                                                                                               डॉ॰ रामदरश मिश्र
2009 कविवर बच्चन के साथ                                                                                             अजीत कुमार
2009 कालातीत                                                                                                           मुद्राराक्षस
2009 कितने शहरों में कितनी बार                                                                                     ममता कालिया
2009 कुछ यादें : कुछ बातें                                                                                               अमरकान्त
2009 दिल्ली शहर दर शहर                                                                                             डॉ॰ निर्मला जैन
2009 मेरे भोजपत्र                                                                                                          चन्द्रकान्ता
2009 हाशिए की इबारतें                                                                                                 चन्द्रकान्ता
2010 अ से लेकर ह तक, यानी अज्ञेय से लेकर हृदयेश तक                                                 डॉ॰ वीरेन्द्र सक्सेना
2010 अंधेरे में जुगनू                                                                                                        अजीत कुमार
2010 जे॰ एन॰ यू॰ में नामवर सिंह                                                                                     सं॰ सुमन केशरी
2010 बैकुंठ में बचपन                                                                                                      कान्तिकुमार जैन
2011 अतीत राग                                                                                                            नन्द चतुर्वेदी
2011 कल परसों बरसों                                                                                                  ममता कालिया
2011 स्मृति में रहेंगे वे                                                                                                     शेखर जोशी
2012 हम हशमत भाग-3                                                                                                  कृष्णा सोबती
2012 अपने-अपने अज्ञेय [दो खंड]                                                                                   ओम थानवी
2012 आलोचक का आकाश                                                                                              मधुरेश
2012 गंगा स्नान करने चलोगे                                                                                    डॉ॰ विश्वनाथ त्रिपाठी
2012 माफ़ करना यार                                                                                                        बलराम
2012 यादों का सफ़र                                                                                                    प्रकाश मनु
2012 स्मृतियों के गलियारे से                                                                                         नरेन्द्र कोहली
2013 मेरी यादों का पहाड़                                                                                                देवेंद्र मेवाड़ी

संस्मरण के अंग अथवा तत्व

अतीत की स्मृति

संस्मरण अतीत पर आधारित होता है इसमें लेखक अपने यात्रा , जीवन की घटना , रोचक पल , आदि जितने भी दुनिया में रोचक यादें होती है , उसको सहेज कर उन घटनाओं को लिख रूप में व्यक्त करता है। जिसे पढ़कर दर्शक को ऐसा महसूस होता कि वह उस अतीत की घटना से रूबरू हो रहा है उसको आत्मसात कर रहा है। किंतु संस्मरण को रेखाचित्र , जीवनी , रिपोर्ताज , यात्रा आदि से अलग महत्व दिया गया है।

आत्मीय एवं श्रद्धापूर्ण अन्तरंग सम्बन्ध

जब तक लेखक आत्मीयता से किसी स्मृति अतीत को याद कर अंकित नहीं करेगा तब तक संस्मरण प्रभावशाली नहीं हो सकता। इसके साथ ही आवश्यक है कि किसी श्रद्धेय पुरुष या चरित्र के प्रति श्रद्धा भाव, जो मानव-मात्र को प्रेरणा दे सके।किसी अद्भुत क्षण को याद कर भी उस पल को भी लिख सकता है।

 

प्रामाणिकता

संस्मरण विधा में कल्पना का कोई स्थान नहीं होता क्योकि कल्पना का समावेश होते ही संस्मरण की विधा नष्ट हो जाता है। इस विधा में कल्पना के लिए कोई खास जगह नहीं होती। उन्हीं घटनाओं का वर्णन होता है जो जीवन में घट चुकी हैं और प्रामाणिक हैं।

 

वैयक्तिकता

संस्मरण की महत्वपूर्ण विशेषता वैयक्तिकता मानी जाती है। इसका सहारा लिए बिना संस्मरण नहीं लिखा जा सकता। संस्मरण में लेखक के अपने जीवन में किसी न भुला सकने वाली घटना का वर्णन होता है। वह घटना को हु बहु पाठक के समक्ष रखता है जिसे पढ़कर पाठक को उस घटना को करने का मौका मिलता है।

 

क्या आप जानते हैं ?

संस्मरण बहुत ही लचकदार विधा है। इसके तत्त्व और गुण अन्य अनेक विधाओं में मिल जाते हैं। बहुत समय तक रेखाचित्र, जीवनी, रिपोर्ताज आदि विधाओं और संस्मरण को एक समझा जाता रहा। संस्मरण और रेखाचित्र एक-दूसरे के साथ कहीं-कहीं इस तरह जुड़े कि एक-दूसरे के पर्याय माँ लिए गए। महादेवी वर्मा की ‘स्मृति की रेखाएं’ इसका ज्वलंत उदहारण है। ‘स्मृति’ शब्द जहाँ उस कृति को संस्मरण की ओर ले जा रहा है वहीं ‘रेखाएं’ रेखाचित्र विधा की ओर।

 

जीवन के खंड विशेष का चित्रण

जीवनी में सम्पूर्ण जीवन का चित्रण न करके कुछ घटनाओं का विवेचन होता है। लेखक अपने जीवन की किसी घटना विशेष या संपर्क में आए हुए व्यक्ति विशेष के चरित्र के महत्वपूर्ण पक्ष की झांकी पेश कर जीवन के खंडरूप या किसी एक पक्ष का ही चित्रण करता है।

 

चित्रात्मकता

संस्मरण की एक विशेषता होती है की वह जितनी चित्रात्मक होगी संस्मरण उतना ही सफल होगा ,क्योकि चित्र मानव मष्तिष्क पर अधिक प्रभाव डालती है वह मष्तिष्क में अमित छाप छोड़ती है। लेखक चुन-चुनकर शब्दों का प्रयोग कर आलंबन का चित्र प्रस्तुत करता है। वह इस प्रकार विवेचन करता है कि चित्र सहज ही बनने लगते हैं।

 

कथात्मकता

संस्मरण कथात्मक साहित्य विधा है। यह कथा काल्पनिक न होकर सत्य पर आधारित होती है। कथा का ताना-बाना जीवन की घटनाओं से बुना जाता है और पाठक के साथ सहज तादात्म्य हो जाता है।

 

 

तटस्थता

तटस्थता भी संस्मरण की अनिवार्य शर्त है। लेखक से यह अपेक्षा की जाती है कि वह स्वयं को महिमामंडित करने की प्रवृति से दूर रहकर जीवन में घटित सत्य को सामने लाए, भले वह सत्य स्वयं के लिए कितना ही कटु क्यों न हों?

हिंदी के संस्मरणकारों में पद्म सिंह शर्मा को इस विधा का पहला लेखक माना जाता है। आचार्य शिवपूजन सहाय, रामवृक्ष बेनीपुरी, कन्हैयालाल मिश्र ‘प्रभाकर’, इस क्षेत्र के बड़े नाम हैं। महादेवी वर्मा हिंदी संस्मरण-साहित्य में मील का पत्थर हैं। इनके प्रारंभिक संस्मरण ‘कमला’ पत्रिका में प्रकाशित हुए। ‘पथ के साथी’, ‘मेरा परिवार’, इनके संस्मरण संकलन हैं। हालाँकि आत्मीयता की गहनता और चित्रात्मक शैली ने भ्रम पैदा किए हैं और इन्हें संस्मरणात्मक रेखाचित्र कहा जाना चाहिए। किन्तु निश्चित तौर पर महादेवी अपने आप में संस्मरण का स्वर्णिम इतिहास हैं। हिन्दी की साहित्यिक पत्रिकाओं ने बुजुर्ग लेखकों से संस्मरण लिखवाने में बहुत तत्परता दिखाई है।

वस्तुतः पत्रकार, समालोचक, साहित्यकारों के सामानांतर इस विधा को खुशबू देने वालों में अनेक राजनीतिज्ञ, क्रांतिकारी, समाज-सुधारक भी हैं जिनके मार्मिक संस्मरणों का अपना इतिहास है। इनमें भारत के प्रथम राष्ट्रपति स्वर्गीय राजेंद्र प्रसाद, प्रथम प्रधानमंत्री नेहरु, राष्ट्रपिता महात्मा गांधी जैसी हस्तियाँ शामिल हैं। इनका संस्मरण साहित्य अपने आप में प्रामाणिक इतिहास और समय का साक्ष्य है। इस प्रकार संस्मरण में व्यक्ति विशेष से सम्बंधित विवरण के आधार पर उसकी चारित्रिक रेखाओं को जोड़ कर उसके सम्पूर्ण व्यक्तित्व के प्रभाव को ग्रहण करने का प्रयास होता है। इसका क्षेत्र बड़ा व्यापक है। यह किसी व्यक्ति का भी हो सकता है और वस्तु का भी। उसमें मात्र वर्णन या विवरण नहीं होता अपितु वर्ण्य विषय के साथ लेख के आत्मीय या निजी सम्बन्ध से उद्भूत प्रतिक्रियाओं का आकलन होता है।

कुल मिलाकर कहा जा सकता है कि संस्मरण बहुत ही लचकदार विधा है। इसके तत्त्व और गुण अन्य अनेक विधाओं में मिल जाते हैं। बहुत समय तक रेखाचित्र, जीवनी, रिपोर्ताज आदि विधाओं और संस्मरण को एक समझा जाता रहा। इस तरह कई विधाओं के साथ संस्मरण का घालमेल होता प्रतीत होता है। किन्तु हिंदी साहित्य के विशाल फलक पर संस्मरण विधा ने अपनी छोटी-सी विकास यात्रा में पर्याप्त प्रगति की है। साहित्य-रसिकों का रुझान धीरे-धीरे इस विधा की ओर बढ़ रहा है। अतः संस्मरण का भविष्य आशा और आत्मीयता के मध्य गोते खाता एक निश्चित दिशा की ओर बढ़ रहा है।

निष्कर्ष कहा जा सकता है कि अत्याधुनिक होने पर भी संस्मरण विधा आज हिंदी साहित्य में महत्वपूर्ण स्थान की अधिकारिणी बन गई है यह रेखाचित्र से भी लोकप्रियता प्राप्त कर चुकी है भविष्य में इसके विकास की अच्छी संभावनाओं से इनकार नहीं किया जा सकता।

यह भी जरूर पढ़ें – 

हिंदी यात्रा साहित्य। यात्रा वृतांत। यात्रा साहित्य का स्वरूप और विकास।Theory of travelling hindi

जीवनी। हिंदी साहित्य।what is biography | जीवनी क्या होता है।

उपन्यास की संपूर्ण जानकारी | उपन्यास full details in hindi

 समाजशास्त्र | समाज की परिभाषा | समाज और एक समाज में अंतर | Hindi full notes

उपन्यास और महाकाव्य में अंतर। उपन्यास। महाकाव्य।upnyas | mahakavya

शिक्षा और आदर्श का सम्बन्ध क्या है। शिक्षा और समाज | Education and society notes in hindi

समाजशास्त्र। समाजशास्त्र का अर्थ एवं परिभाषा। sociology

प्रगतिशील काव्य। प्रयोगवाद। prgatishil | prayogwaad kavya kya hai |

 

कृपया अपने सुझावों को लिखिए हम आपके मार्गदर्शन के अभिलाषी है | |

android app hindi vibhag

facebook page hindi vibhag

YouTUBE

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *