Hindi stories for all

सबसे बड़ा बल बुद्धिबल। hindi story | ज्ञानपरक कहानी बाल मनोरंजन पर आधारित।

सबसे बड़ा बल बुद्धिबल

hindi story / sleep time story

 

 

HINDI STORY FOR KNOWLAGE

एक जंगल में  भासूरक  नामक शेर रहता था। वह प्रतिदिन भोजन के लिए पशुओं को मारा करता था। एक दिन जंगल में सभी जानवरों ने मिलकर शेर से निवेदन किया कि , उसे रोज एक पशु भोजन के लिए मिल जाया करेगा , इसलिए वह अनेक पशुओं का शिकार ना करा करे।  शेर यह बात मान गया। उस दिन के बाद शेर को घर बैठे एक पशु मिलने लगा। शेर ने यह धमकी दे दी थी कि , जिस दिन उसे कोई पशु नहीं मिलेगा उस दिन वह फिर अपने शिकार पर निकल जाएगा और मनमाने पशुओं की हत्या कर देगा। इस डर से भी सब पशु बारी-बारी एक – एक पशु को शेर के पास भेजते रहते थे।

 

 

HINDI MOTIVATIONAL STORY IN HINDI विदुषी के जज्बे को सलाम 

 

 

इसी क्रम में एक दिन खरगोश की बारी आ गई। खरगोश शेर की मांद की ओर चल पड़ा। मौत की घड़ियों को कुछ देर और टालने के लिए वह जंगल में इधर – उधर भटकता रहा। एक स्थान पर उसे एक कुआं दिखाई दिया। कुएं में झांक कर देखा तो उसे अपनी परछाई दिखाई दी। उसे देखकर उसके मन में एक उपाय सूझा। यह उपाय सोचता – सोचता बहादुर अब शेर के पास पहुंचा। शेर उस समय तक भूखा प्यासा होट चाटता बैठा था। खरगोश को देखकर शेर ने क्रोध से लाल – लाल आंखें करते हुए गरजकर कहा ! नीच खरगोश एक तो तू इतना छोटा सा है और फिर इतनी देर लगा कर आया ?

 

 

खरगोश ने विनय से सिर झुकाकर उत्तर दिया स्वामी ! आप व्यर्थ क्रोध करते हैं कुछ भी फैसला करने से पहले देरी का कारण तो सुन लीजिए , फिर क्या बात है ? जल्दी बता खरगोश स्वामी बात यह है कि सभी पशुओं ने आज यह सोच कर , कि मैं बहुत छोटा हूं , मेरे साथ चार अन्य खरगोश को आपके भोजन के लिए भेजा था। हम पांचों आपके पास आ रहे थे कि , मार्ग में एक दूसरा शेर अपनी गुफा से निकल कर आया और बोला अरे ! किधर जा रहे हो तुम सब। मैंने उससे कहा हम सब राजा भासूरक शेर का भोजन है। तब वह बोला भासूरक कौन होता है ? यह जंगल तो मेरा है। मैं ही तुम्हारा राजा हूं , तुम मे से चार खरगोश यहीं रह जाए। एक खरगोश भसुरक  के पास जाकर उसे बुला लाए। मैं उससे स्वयं निपट लूंगा।

 

 

बौद्धिक कथा समाज सेवा सार्थक कहानी 

 

इसलिए मुझे देर हो गई यह सुनकर भसुरक  क्रोध में बोला ऐसा है तो जल्दी से मुझे उस दूसरे शेर के पास ले चलो , अब तो मैं उसका रक्त पीकर ही अपनी भूख मिटा लूंगा। मेरे जंगल में कोई दूसरा राजा नहीं हो सकता। अब तो खरगोश मन ही मन खुश होकर शेर को कुएं के पास ले गया और बोला स्वामी ! आपको दूर से ही देख कर वह अपने दुर्ग में घुस गया है।भासूरक छोडूंगा नहीं मैं उसे , दुर्ग में ही घुस कर मारूंगा।

खरगोश शेर को कुएं की मेढ़ पर ले गया भासूरक ने झुककर कुएं में अपनी परछाई देखी तो समझा कि , यह शेर दूसरा है। तब वह जोर से गरजा  उसके गरजने  से कुएं में दुगनी गूंजे पैदा  हुई। उस गूंज को दुश्मन शेर की ललकार समझकर भासूरक उसी क्षण कुएं में कूद पड़ा , और वहीं पानी में डूबकर प्राण दे दिए।

 

 

खरगोश ने अपनी बुद्धि से शेर को हरा दिया।  वहां से लौटकर वह पशुओं की सभा में गया। उसकी चतुराई सुन कर और शेर की मौत का समाचार सुनकर सब जानवर खुशी से नाच उठे।

शिक्षा   – बली वही है जिसके पास बुद्धि का बल है।

 

 

यह भी पढ़ें – बौद्धिक कहानी अपने दल को हारने नहीं दूंगा 

 

यह भी जरूर पढ़ें – Top 15  quotes by Swami Vivekanand in hindi

 

 

दोस्तों हम पूरी मेहनत करते हैं आप तक अच्छा कंटेंट लाने की | आप हमे बस सपोर्ट करते रहे और हो सके तो हमारे फेसबुक पेज को like करें ताकि आपको और ज्ञानवर्धक चीज़ें मिल सकें |

अगर आपको ये पोस्ट अच्छा लगा हो तो इसको ज्यादा से ज्यादा लोगों तक पहुचाएं  |

व्हाट्सप्प और फेसबुक के माध्यम से शेयर करें |

और हमारा एंड्राइड एप्प भी डाउनलोड जरूर करें

कृपया अपने सुझावों को लिखिए हम आपके मार्गदर्शन के अभिलाषी है 

facebook page hindi vibhag

YouTUBE

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *