व्याकरण

स्वर और व्यंजन की परिभाषा।स्वर व व्यंजन का स्वरूप।स्वर ध्वनियों का वर्गीकरण।

 स्वर व व्यंजन का स्वरूप तथा स्वर ध्वनियों का वर्गीकरण | स्वर और व्यंजन की परिभाषा

 

स्वर और व्यंजन की परिभाषा

 

 

स्वर और व्यंजन

प्रश्न –

स्वर और व्यंजन ध्वनियों का स्वरूप स्पष्ट करते हुए हिंदी की स्वर ध्वनियों का वर्गीकरण कीजिए .

उत्तर विंदुवार क्रम से निम्ननलिखित है –

 

स्वर

स्वर में ध्वनियों का वर्ण है जिसके उच्चारण से मुख विवर सदा कम या अधिक खुलता है , स्वर के उच्चारण के समय बाहर निकलती हुई श्वास वायु मुख विवर से कहीं भी रुके बिना बाहर निकल जाती है .

 

स्वर की विशेषता –

  • स्वर तंत्रियों में अधिक कंपन होता है।
  • उच्चारण में मुख विवर थोड़ा-बहुत अवश्य खुलता है।
  • जिह्वा और ओष्ट परस्पर स्पर्श नहीं करते।
  • बिना व्यंजनों के स्वर का उच्चारण कर सकते हैं।
  • स्वराघात की क्षमता केवल स्वरूप को होती है

 

व्यंजन

व्यंजनों के उच्चारण में स्वर यंत्र से बाहर निकलती श्वास वायु मुख – नासिका के संधि स्थूल या मुख – विवर में कहीं न कहीं अवरुद्ध होकर मुख या नासिका से निकलती है।

 

व्यंजनों की विशेषता

  • व्यंजन को ‘ स्पर्श ध्वनि ‘  भी कहते हैं।
  • उच्चारण में कहीं ना कहीं मुख विवर अवरुद्ध होती है।
  • व्यंजनों का उच्चारण देर तक नहीं किया जा सकता।
  • व्यंजन स्वराघात नहीं वहन कर सकते।

 

 

स्वरों का वर्गीकरण

१ मात्रा के आधार पर

मात्रा के आधार पर स्वरों को तीन वर्गों में बांटा जाता है – ह्रस्व ,  दीर्घ , प्लुत।

  • ह्रस्व में एक मात्रा का समय लगता है – ‘ अ ‘ दीर्घ  के उच्चारण में से अधिक मात्रा का समय लगता है।
  • प्लुत में अधिक मात्रा का समय लगता है – ‘ अ ‘

 

२ मुख कुहर 

इस आधार पर स्वरों को चार वर्गों में विभाजित किया गया है – विवृत , इष्यत विवृत , संवृत , इष्यत संवृत ,

  • विवृत – उच्चारण में मुख अधिक खुलता है – ‘ आ ‘
  • इष्यत विवृत – उच्चारण में कम खुलता है – ‘ ए ‘
  • संवृत – उच्चारण में मुख्य संकीर्ण रहता है – ‘ ई ‘
  • इष्यत संवृत – मुंह कम खुलता है – ‘ ए ‘

 

३ जिह्वा की स्थिति के आधार पर

जब स्वरों का उच्चारण किया जाता है तो जीवा अग्र ,  मध्य , पश्च की स्थिति में होती है।

  • अग्र स्वर –  इ  ,ई  , ए।
  • मध्य स्वर – य
  • पश्च स्वर – आ , अ , उ।

 

४ ओष्ठ  के आधार पर –

ओष्ठ के आधार पर भी स्वरों का वर्गीकरण किया जाता है। ओष्ठ को दो वर्ग में विभजि किया गया है  अवृत्तमुखी , वृतमुखी

  • अवृत्तमुखी – जिन स्वरों के उच्चारण में ओठ वृतमुखी या गोलाकार नहीं होता है – अ , आ , इ ,ई , ए ,ऐ।
  • वृतमुखी – जिन स्वरों के उच्चारण में ओठ वृतमुखी या गोलाकार होते है -उ ,ऊ ,ओ ,औ।

 

५ अनुनासिकता के आधार पर

स्वरों के उच्चारण में जब मुख विवर से पूरी तरह से स्वांस निकल जाए तब अनुनासिकता कहलाते हैं।अनुनासिकता दो प्रकार के है –

  • निरानुसाकता – -जिन स्वरों के उच्चारण में हवा केवल मुँह से निकलती है (अ , आ , इ )
  • अनुनासिकता — जिन स्वरों के उच्चारण में हवा नाक से भी निकलता है (अं , आं , इं )
  • उच्चारण में मुख तथा नासिका से वायु बाहर निकलती है तभी अनुनासिकता कहलाती है।

 

 मै आपसे अनुरोध करता हूँ की आप हमारी वेबसाइट सब्सक्राइब जरूर कर लें और साथ ही साथ हमारा एंड्राइड एप्प भी डाउनलोड कर लें ताकि आपको और आसानी हो | और अगर आपको कोई बात हमारे तक पहुचानी है तो नीचे कमेंट जरूर करें | हम आप तक जरूर पहुंचेंगे |

 

 

व्यंजन के आधार पर वर्गीकरण

हिंदी व्याकरण में व्यंजनों की संख्या ३३ मानी गयी है। व्यंजनों का अध्ययन ३ बहगों में किया जाता है स्पर्श व्यंजन , अन्तः स्थ व्यंजन , उष्म/संघर्षी।

स्पर्श व्यंजन –

जिन व्यंजनों का उच्चारण करते समय हवा फेफड़ों से निकलते हुए मुंह के किसी स्थान विशेष कंठ , तालु , मूर्धा , दात या होंठ  का स्पर्श करते हुए निकले।

  • घोषत्व के आधार पर – घोष का अर्थ है स्वर तंत्रियों  में ध्वनि का कंपन
  • अघोष – जिन ध्वनियों के उच्चारण में स्वरतंत्रियों में कंपन हो।
  • सघोष / घोष – जिन ध्वनियों के उच्चारण में स्वरतंत्रियों में कंपन हो।
  • प्राणतत्व के आधार पर – यहां प्राण का अर्थ है हवा।
  • अल्पप्राण – जिन व्यंजनों के उच्चारण में मुख से कम हवा निकले।क , च , ट ,ग ,ज द आदि
  • महाप्राण – जिन व्यंजनों के उच्चारण में मुख से अधिक हवा निकले। ख , छ ,ठ ,थ ,फ ,घ ,झ आदि

 

 अन्तः स्थ व्यंजन

जिन वर्णों का उच्चारण पारंपरिक वर्णमाला के बीच अर्थात स्वरों और व्यंजनों के बीच स्थित हो।

उष्म/संघर्षी

जिन व्यंजनों का उच्चारण करते समय वायु मुख से किसी स्थान विशेष पर घर्षण कर निकले वहां ऊष्मा  , गर्मी पैदा करें ,  वह संघर्षी व्यंजन कहलाता है। श , सा।

अयोग्यवाहक –  अनुस्वार , विसर्ग परंपरा अनुसार अनुस्वार और विसर्ग स्वरों के साथ रखा जाता है किंतु यह स्वर ध्वनियां नहीं है क्योंकि इनका उच्चारण व्यंजनों के उच्चारण की तरह स्वर की सहायता से होता है। यह व्यंजन भी नहीं है क्योंकि इनकी गणना स्वरों के साथ होती है , और उन्हीं की तरह लिखने में इनके लिए मात्राओं का प्रयोग किया जाता है।

 

उपवाक्य

 

  • जब दो या अधिक सरल वाक्यों को मिलाकर एक वाक्य बनाया जाता है , तो उस एक वाक्य में जो वाक्य मिले होते हैं , उन्हें उपवाक्य कहा जाता है।
  • यह मुख्यता दो प्रकार के होते हैं
  • प्रधान उपवाक्य – जो वाक्य किसी अन्य वाक्य पर आश्रित नहीं होते उन्हें प्रधान उपवाक्य कहा जाता है।
  • आश्रित उपवाक्य – जो वाक्य गौण तथा दूसरे के आश्रित हैं उन्हें आश्रित उपवाक्य कहा जाता है।

उदाहरण के लिए –

” वह लड़की चली गई जो शॉर्ट स्कर्ट पहनी हुई थी। ”

उपरोक्त वाक्य में ‘ वह लड़की चली गई ‘ प्रधान वाक्य है।

‘ जो शॉर्ट स्कर्ट पहनी थी ‘ आश्रित उपवाक्य है। 

 

 

यह भी जरूर पढ़ें –

हिंदी व्याकरण अलंकार | सम्पूर्ण अलंकार | अलंकार के भेद | Alankaar aur uske bhed

सम्पूर्ण संज्ञा अंग भेद उदहारण।लिंग वचन कारक क्रिया | व्याकरण | sangya aur uske bhed

सर्वनाम की संपूर्ण जानकारी | सर्वनाम और उसके सभी भेद की पूरी जानकारी

हिंदी काव्य ,रस ,गद्य और पद्य साहित्य का परिचय।

शब्द शक्ति , हिंदी व्याकरण।Shabd shakti

हिंदी व्याकरण , छंद ,बिम्ब ,प्रतीक।

रस। प्रकार ,भेद ,उदहारण आदि।रस के भेद | रस की उत्त्पति। RAS | ras ke bhed full notes

ctet की तयारी कैसे करें 

 

 

दोस्तों हम पूरी मेहनत करते हैं आप तक अच्छा कंटेंट लाने की | आप हमे बस सपोर्ट करते रहे और हो सके तो हमारे फेसबुक पेज को like करें ताकि आपको और ज्ञानवर्धक चीज़ें मिल सकें |

अगर आपको ये पोस्ट अच्छा लगा हो तो इसको ज्यादा से ज्यादा लोगों शेयर करें  |

और हमारा एंड्राइड एप्प भी डाउनलोड जरूर करें

कृपया अपने सुझावों को लिखिए हम आपके मार्गदर्शन के अभिलाषी है 

facebook page hindi vibhag

YouTUBE

2 thoughts on “स्वर और व्यंजन की परिभाषा।स्वर व व्यंजन का स्वरूप।स्वर ध्वनियों का वर्गीकरण।”

    1. इस समस्या पर ध्यान दिया जाएगा | अगर और कोई बात हो तो वो भी बताना न भूलें | धन्यवाद

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *