हिंदी सामग्री

स्वामी विवेकानन्द के शिक्षा दर्शन के आधारभूत सिद्धान्त | Swami vivekanand teachings

Contents

स्वामी विवेकानन्द के शिक्षा दर्शन के आधारभूत सिद्धान्त निम्नलिखित हैं –

 

नमस्कार दोस्तों आज आपको हम बताने जा रहे हैं स्वामी विवेकानन्द के शिक्षा दर्शन के आधारभूत सिद्धान्त | आशा है आपको पसंद आएगा |

१. स्वामी विवेकानन्द जी का मानना है कि शिक्षा ऐसी हो जिससे बालक का शारीरिक, मानसिक एवं आत्मिक विकास हो सके।

२. स्वामी विवेकानन्द जी के अनुसार शिक्षा ऐसी हो जिससे बालक के चरित्र का निर्माण हो, मन का विकास हो, बुद्धि  विकसित हो था बालक आत्मनिर्भन बने।

३.स्वामी विवेकानन्द जी का मानना है कि बालक एवं बालिकाओं दोनों को समान शिक्षा देनी चाहिए।

४.स्वामी विवेकानन्द जी के अनुसार धार्मिक शिक्षा, पुस्तकों द्वारा न देकर आचरण एवं संस्कारों द्वारा देनी चाहिए।

हमारा एंड्राइड एप्प भी डाउनलोड जरूर करें

५. पाठ्यक्रम में लौकिक एवं पारलौकिक दोनों प्रकार के विषयों को स्थान देना चाहिए।

६.स्वामी विवेकानन्द जी का मानना है कि शिक्षा, गुरू गृह में प्राप्त की जा सकती है।

७.  शिक्षक एवं छात्र का सम्बन्ध अधिक से अधिक निकट का होना चाहिए।

८.  सर्वसाधारण में शिक्षा का प्रचार एवं प्रसार किया जान चाहिये।

९.  देश की आर्थिक प्रगति के लिए तकनीकी शिक्षा की व्यवस्था की जाय।

१०.  मानवीय एवं राष्ट्रीय शिक्षा परिवार से ही शुरू करनी चाहिए।

यह भी पढ़े

चाणक्य नीति। चाणक्य के 8 सिद्धांत विद्यार्थी के लिए। chanakya niti for students

चाणक्य नीति – जीवन में सदा गुप्त रखें ये ५ बातें | Chanakya neeti – always keep these 5 secrets

साबरमती के संत तूने कर दिया कमाल lyrics | देशभक्ति गीत।Mahatma gandhi best song

तू ही राम है तू रहीम है ,प्रार्थना ,सर्व धर्म प्रार्थना।tu hi ram hai tu rahim hai lyrics

दोस्तों हम पूरी म्हणत करते हैं आप तक अच्छा कंटेंट लाने की | आप हमे बस सपोर्ट करते रहे और हो सके तो हमारे फेसबुक पेज को like करें ताकि आपको और ज्ञानवर्धक चीज़ें मिल सकें |

अगर आपको ये पोस्ट अच्छा लगा हो तो इसको ज्यादा से ज्यादा लोगों तक पहुचाएं  |

व्हाट्सप्प और फेसबुक के माध्यम से शेयर करें |

और हमारा एंड्राइड एप्प भी डाउनलोड जरूर करें

 

कृपया अपने सुझावों को लिखिए हम आपके मार्गदर्शन के अभिलाषी है 

facebook page hindi vibhag

YouTUBE

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *