दिल्ली दर्शन दिल्ली का इतिहास

हुमायूं का मकबरा मुगल बादशाह। humayu ka makbara | मुग़ल स्थापत्य कला।

हुमायूं का मकबरा

 

भारत पर 16वीं शताब्दी में शासन करने वाला हुमायु दूसरा मुगल बादशाह था। चित्र में दिखाए गए विशाल मकबरे का निर्माण हुमायूं की मृत्यु के लगभग 8 वर्ष पश्चात उसकी बेगम बेगा जिसका प्रचलित नाम हाजी बेगम था ने करवाया था।

राजधानी के प्रसिद्ध मार्ग मथुरा रोड पर स्थिति यह मकबरा पत्थरों की जड़ाऊ कार्य कि उस कला का पहला दर्शन कराता है जो कि लगभग एक  शताब्दी पश्चात ताजमहल की सजावट में भी दृष्टिगोचर होती है।

humayu ka makbara ,दिल्ली का इतिहा ,

 

यह भी जरूर पढ़ें – दीवान ए खास की विशेषता 

 

यह भी जरूर पढ़ें – क़ुतुब मीनार को कब और किसने बनाया सम्पूर्ण जानकारी 

 

अहाते के बीच में बहुत ऊंचा मकबरा है यह एक ऊंचे मंच पर बनाया हुआ है। बीच के अष्टकोणीय कमरे में नकली कब्र है और उसके चारों तरफ जाली वाले कमरे और मेहराबों वाले बरामदे हैं कमरे के चारों तरफ तीन मेहराबें हैं जिनमें बीच वाले मेहराब सबसे बड़ी है। इसी नक्शे को दूसरी मंजिल पर भी दोहराया गया है।

यह विशाल भवन लाल पत्थरों से बना है। इसके किनारों पर काला और सफेद संगमरमर लगा हुआ है। भारतीय वास्तुकला के दोहरे गुबंद वाली संभवतः प्रथम इमारतों में से एक है। आंतरिक गुबंद मकबरे के कमरों की मेहराबदार छत है तो बाहरी गुबंद इसे बाह्य भव्यता प्रदान करता है। हुमायु की बेगम को भी यही दफनाया गया है।

 

यह भी जरूर पढ़ें – हिन्दू के 27 मंदिरों को तोड़कर बनाया गया था क़ुतुब मीनार जाने सचाई 

मध्यकालीन पांचवा शहर कोण सा था और दिल्ली में कहाँ स्थित है  

 

अगर आपको ये पोस्ट अच्छा लगा हो तो इसको ज्यादा से ज्यादा लोगों तक पहुचाएं  |

व्हाट्सप्प और फेसबुक के माध्यम से शेयर करें |

और हमारा एंड्राइड एप्प भी डाउनलोड जरूर करें

कृपया अपने सुझावों को लिखिए हम आपके मार्गदर्शन के अभिलाषी है 

facebook page hindi vibhag

YouTUBE

अलाई दरवाजा कहा स्थित है इसकी क्या विशेस्ताएं है जानिए

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *