रामायण जी की आरती Aarti Shri Ramayan Ji Ki Lyrics

माना जाता है जिसे मजबूत परिवार तथा समाज की आवश्यकता होती है उसे रामायण अवश्य पढ़ना चाहिए। रामायण के माध्यम से उनके पात्र चरित्र आदि से यह अनुभव प्राप्त होता है।किस प्रकार एक भाई के लिए दूसरे भाई ने त्याग किया। रामायण त्याग, समर्पण, निष्ठा, प्रेम आदि से ओतप्रोत है। जो व्यक्ति नियमित रूप से रामायण का पाठ करता है रामायण जी की आरती करता है वह दीर्घायु तथा निरोगी होता है। उसके घर परिवार आदि सदस्य सकुशल अपने मनोवांछित फल को पाते हैं। प्रस्तुत लेख में आप रामायण जी की आरती पढ़ेंगे।

आरती श्री रामायण जी की (Aarti Ramayan Ji Ki Lyrics)

आरती श्री रामायण जी की
कीरति कलित ललित सिय पी की॥
गावत ब्रहमादिक मुनि नारद
बाल्मीकि बिग्यान बिसारद॥
शुक सनकादिक शेष अरु शारद
बरनि पवनसुत कीरति नीकी॥

आरती श्री रामायण जी की..

गावत बेद पुरान अष्टदस
छओं शास्त्र सब ग्रंथन को रस॥
मुनि जन धन संतान को सरबस।
सार अंश सम्मत सब ही की॥

आरती श्री रामायण जी की..

गावत संतत शंभु भवानी
अरु घटसंभव मुनि बिग्यानी॥
ब्यास आदि कबिबर्ज बखानी
कागभुशुंडि गरुड़ के ही की॥

आरती श्री रामायण जी की..

कलिमल हरनि बिषय रस फीकी
सुभग सिंगार मुक्ति जुबती की॥
दलनि रोग भव मूरि अमी की
तात मातु सब बिधि तुलसी की॥

आरती श्री रामायण जी की
कीरति कलित ललित सिय पी की॥

संबंधित लेख भी पढ़े

Hanuman Quotes in Hindi

Hanuman Ji Ki Aarti Lyrics आरती कीजै हनुमान लला की

21 Ram bhajan lyrics

Ram Ji ki Aarti Lyrics in Hindi (श्री राम जी की आरती)

21 Mata Laxmi Quotes in Hindi

लक्ष्मी जी की आरती हिंदी में लिखा हुआ Laxmi Ji Aarti Lyrics In Hindi

Saraswati puja | Vandana, Aarti, shlokas, Mantra, Wishes & Quotes

Shiv chalisa lyrics in hindi and english

शिवजी की आरती जय शिव ओंकारा (Shiv Aarti)

Telegram channel

Sampoorna Durga chalisa lyrics in hindi

Durga Mata ki Aarti Lyrics in Hindi

Ambe Tu Hai Jagdambe Kali Lyrics (अम्बे तू है जगदम्बे काली)

Ganesh chaturthi Wishes, Quotes and Shubhkamnaye

गणेश जी की आरती Ganesh Ji Ki Aarti Likhi Hui

समापन

रामायण जी की आरती की मान्यता बहुत बड़ी है जो रामायण सुंदरकांड का पाठ करा कर उसके बाद रामायण जी की आरती करता है उसे हजारों यज्ञ का फल प्राप्त होता है। सुंदरकांड, तथा रामायण की संपूर्णता बिना रामायण जी की आरती के संभव नहीं है अतः रामायण जी की आरती का होना आवश्यक है। आपको यह लेख कैसा लगा अपने सुझाव कमेंट बॉक्स में लिखें।

Sharing is caring

Leave a Comment