Amitabh Bachchan Quotes in Hindi – अमिताभ बच्चन के सुविचार

Read the Best and Inspiring Amitabh Bachchan Quotes in Hindi with images.

आज के लेख में फिल्मी जगत के प्रसिद्ध कलाकार , अभिनेता अमिताभ बच्चन जी के सुविचारों का संकलन प्रस्तुत कर रहे हैं। यह लेख उनके व्यक्तिगत छवि , विचार तथा उनके जीवन का संक्षिप्त परिचय देने में सक्षम है।

इस लेख को पढ़कर आप बच्चन जी के व्यक्तित्व से भली-भांति परिचित हो पाएंगे। उनके सुंदर विचारों से आत्मसात कर पाएंगे तथा प्रेरणा ले सकेंगे। उनके द्वारा कहे गए तथा प्रतिक्रिया स्वरूप सभी सुविचारों का संकलन इस लेख में हम करने की कोशिश कर रहे हैं। आशा है आपको यह लेख आपके जीवन में मददगार साबित हो ।

 

अमिताभ बच्चन के सुविचार – Amitabh bachchan quotes in hindi

 

1

हारने का भी अपना मजा है

हारने पर ही अपनी

वास्तविकता का ज्ञान होता है। ।

जो व्यक्ति संघर्ष करते हुए हारता है , उसे अपनी वास्तविकता का सबसे बढ़िया ज्ञान होता है। उसकी कमजोरियां , उसकी कमियां सभी उसे हार के बाद ज्ञात होती है। जिसको स्वयं से दूर करके वह पुनः विजई होता है।

 

2

कोई भी लक्ष्य

मनुष्य साहस से बड़ा नहीं

हारा वही जो लड़ा नहीं।।

जिस व्यक्ति में लड़ने का साहस ही नहीं , वही व्यक्ति हारा हुआ होता है। जिसमें लड़ने की साहस है वह जीत पर अडिग रहता है।  कितनी भी असफलता आ जाए उस जीत को प्राप्त करने का दृढ़ निश्चय रखता है।

 

3

सुधार और स्वीकार के तालमेल का नाम जीवन है। । 

जीवन को गाड़ी से तुलना की जाती है , जिसके सभी पहिए एक सम्मान तालमेल बिठाकर चले तो लंबी दूरी तय कर सकते हैं। अन्यथा रास्ते में ही दम तोड़ सकते हैं। इसी प्रकार व्यक्ति का जीवन है , जिसमें सुधार और स्वीकार को सदैव अपनाते हुए अपने जीवन को आगे बढ़ाना चाहिए।

Inspirational Amitabh Bachchan Quotes in Hindi

4

वक्त का पता नहीं चलता अपनों के साथ

पर अपनों का पता चलता है वक्त के साथ

वक्त नहीं बदलता अपनों के साथ

पर अपने बदल जाते हैं वक्त के साथ। ।

जो व्यक्ति अपने लोगों के साथ रहता है , उसे वक्त बीतने का पता नहीं चलता। हंसते-खेलते वक्त गुजर जाता है। किंतु यह भी सत्य है वक्त ही अपनों का परिचय बताता है।  जहां वक्त कभी नहीं बदलता वही , अपने भी वक्त के साथ बदल जाते हैं।

 

5

जिन्हें गुस्सा आता है वह लोग सच्चे होते हैं

मैंने झूठों को अक्सर मुस्कुराते देखा है। ।

जो व्यक्ति सच्चा और दिल का साफ होता है , वह गलत बातों पर अपनी नाराजगी अवश्य देता है। मुस्कुराते चेहरे बदला लेने की फिराक में रहते हैं , ऐसे चेहरों से सावधान रहना चाहिए।

 

6

गुजर जाएगा , गुजर जाएगा ,

मुश्किल बहुत है , मगर वक्त ही तो है

जिंदा रहने का यह जो जज्बा है

फिर उभर आएगा

गुजर जाएगा , गुजर जाएगा। ।

बच्चन जी ने क्रोना काल में इन पंक्तियों को लिखा , जिसमें उनके इच्छा शक्ति और दृढ़विश्वास तथा गांधीवादी विचारधारा का प्रदर्शन होता है।  वह पुनर निर्मित तथा सब कुछ खोकर पाने की इच्छा शक्ति रखते हैं। वह सब कुछ खो जाने पर भी निराश ना होने वाले व्यक्ति हैं। जो समय आज है वह कल नहीं रहेगा , वक्त बदलता रहता है बुरा वक्त भी गुजर जायेगा।

Best Amitabh Bachchan Quotes

7

तू ना झुकेगा कभी , तू न थमेगा कभी

कर शपथ , कर शपथ , कर शपथ। ।

व्यक्ति जीवन में संघर्ष किए बिना कुछ प्राप्त नहीं कर सकता , यह जीवन संघर्षों से युक्त है। जिंदगी को जीना है तो , संघर्ष तो करना ही होगा।  इसके लिए बच्चन जी कहते हैं तू कभी हार नहीं मानेगा। थकेगा नहीं अपने मार्ग में प्रगतिशील रहेगा इस बात पर खुद से शपथ ले।

8

गिरना भी अच्छा है , औकात का पता चलता है

बढ़ते हैं जब हाथ उठाने को , अपनों का पता चलता है। । 

बच्चन जी अपने जीवन में कितनी ही बार असफल हुए , उनके सामने जब कोई मार्ग भी नहीं रहा। तब भी उन्होंने संघर्ष करने का मन नहीं छोड़ा आज उनके संघर्ष के परिणाम से उन्हें प्रसिद्धि मिली है। ऐसे बुरे समय में भी उनके अपनों ने उनका साथ कभी नहीं छोड़ा। बुरे समय में ही उन्हें अपने करीबियों का पता चला।

 

9

एक उम्र थी कि जादू पर भी यकीन था

एक उम्र है कि हकीकत पर भी शक है। ।

बच्चन जी के इन बातों में जीवन का रहस्य छुपा है , जब वह युवावस्था के थे तब उन्हें जादू , टोने-टोटके पर भी यकीन था। आज जब उम्र इस पड़ाव पर आ खड़ी है , तब वह जीवन की वास्तविकता पर शक करते हैं।

 

10

तीन लोक नव खंड में गुरु से बड़ा न कोय

करता करे ना कर सके गुरु करे सो होय। ।

बच्चन जी की इन पंक्तियों से स्पष्ट होता है वह गुरु को ईश्वर से ऊपर मानते हैं। जो ईश्वर कार्य नहीं कर सकता वह गुरु के द्वारा किया जा सकता है। गुरु के समान तीनो लोक में और अन्य ग्रहों पर भी कोई नहीं है।

Amitabh Bachchan Ke suvichar

11

बुद्धिमान विचारों की चर्चा करते हैं

मध्यमान घटनाओं की चर्चा करते हैं

सामान्य बुद्धि के लोग लोगों की चर्चा करते हैं। ।

जो व्यक्ति बुद्धिमान होता है शिक्षित होता है , वह विचार को जन्म देता है। जिसपर समाज चलकर देश का उत्थान करता है। उससे कम बुद्धि के लोग घटनाओं की चर्चा करते हैं। इतिहास की चर्चा करते हैं , उसकी मिसाल पेश करते हैं। किंतु उससे भी कम बुद्धि के लोग एक-दूसरों की निंदा अथवा चर्चा करते हैं बस यही फर्क है तीनों प्रकार की बुद्धि में।

 

12

समाँ होता था जब नींद लेते थे , कल के उजाले के लिए

अब उजालों का इंतजार होता है , नींद को आने के लिए। ।

युवावस्था में प्रत्येक व्यक्ति आराम की नींद लेता है , क्योंकि अधिक भागा-दौड़ी की चिंता नहीं होती रोजी-रोटी का सोचना नहीं होता। किंतु जब सभी भार दोनों कंधों पर आना पड़ता है , तब सफलता रूपी उजालों का इंतजार करना पड़ता है चैन की नींद सोने के लिए।

Amitabh Bachchan Anmol vachan

13

काम की समाप्ति यदि संतोषजनक हो

तो परिश्रम की थकान याद नहीं रहती। ।

जिस व्यक्ति को सफलता प्राप्ति करने के लिए अनेकों-अनेक यत्न करने पड़ते हैं , परिश्रम करने पड़ते हैं , संघर्ष करने पड़ते हैं। अगर उस व्यक्ति को सफलता प्राप्त हो जाए तो , परिश्रम या थकान की सुध नहीं रहती। बस ध्यान सफलता और संतोष पर केंद्रित हो जाता है।

 

14

मिलता तो बहुत कुछ है जिंदगी से

मगर हम गिनती उसी की करते हैं

जो हासिल ना हुआ हो। ।

मनुष्य स्वार्थी प्रवृत्ति का व्यक्ति है , उसे जीवन में सब कुछ हासिल होता है। सुख , समृद्धि , वैभव और यहां तक कि उसे अवसर भी प्राप्त होता है। किंतु वह फिर भी रोना उस बात का रखता है , जो उसे प्राप्त नहीं हुआ।

 

15

दो दिन का यह मेला है

दो दिन का आना-जाना है

जीवन चलते जाना है। ।

जीवन कुछ ही समय का मेला होता है , जिसमें हंसी-खुशी , सुख-दुख आदि का आना-जाना लगा रहता है। किंतु जीवन को जीते चले जाना ही जीवन है। इस पर कोई भी व्यक्ति आता है जाता है यह चलाता है।

 

16

जब हम फिल्मों में रोते हैं ,

तो इसलिए नहीं कि समा दुखी है

बल्कि इसलिए कि

समा जितना हम सोच रहे थे

उससे ज्यादा खूबसूरत है। । 

बच्चन जी का तात्पर्य कहने का यह है कि फिल्मों में जिस प्रकार प्रदर्शित किया जाता है ,  दुख नायक या पत्र के साथ चलता रहता है। किंतु अंत में सुख के साथ परिणीति होती है यह दुख क्षणिक है। वास्तविकता बेहद खूबसूरत है उसको प्राप्त करने के लिए प्रयत्न करना चाहिए।

 

Motivational Amitabh Bachchan Quotes in Hindi

17

बातें चलती रहती है दिन भर ,क्या होगा क्या ना होगा

निर्णय किसी एक दिशा में , होगा या ना होगा

सब की बातों में एक सच्चाई नजर आती है हमें

किसे माने , या ना माने

असमर्थ है बताने में मन का होगा तो अच्छा होगा

ना होगा तो ज्यादा अच्छा होगा। ।

इन पंक्तियों के माध्यम से अमिताभ बच्चन का सीधा संदेश है , संघर्ष करने के लिए जो व्यक्ति बैठकर दिन भर अटकलें लगाते हैं। यह होगा , वह होगा , होगा या नहीं होगा आदि अनेक बातों में अपना समय व्यतीत करते हैं। उन्हें वह संदेश देते हुए कहते हैं अगर मन मुताबिक हुआ तो अच्छा होगा , मन के मुताबिक ना हुआ तो और अच्छा होगा। अपने कर्म पर विश्वास रखते हुए कार्य जारी रखो जो होगा अच्छा होगा।

 

18

जब कुछ ना सुझे क्या लिखा जाए

यहां इस पन्ने पर निद्रा को समय दे देना चाहिए

शरीर को मूंदकर , मुलाकात अब तो यहां

कल दोपहर को ही होगी

शब्द बहार , विचार धुआंधार

इन सब का परिचय तो अब

कल ही सहज तरीके से होगी। ।

जीवन में जब कुछ समझ ना आए , क्या करना है , क्या नहीं। तो स्वयं को स्थिर कर लेना चाहिए , कुछ समय स्वयं को देना चाहिए और उस समय में अपने समस्या का हल ढूंढना चाहिए।  स्वयं को जानना चाहिए , अपनी शक्ति को पहचानना चाहिए। फिर देखिए जहां आप असमर्थ थे वहां संभावनाओं के द्वार खुल जाएंगे।

Amitabh Bachchan Quotes on Discipline

19

अनुशासन का एक ही उसूल है

अपने साथ जबरदस्ती करते रहना

बार-बार उसका अनुभव हमें

चाहे कैसा ही क्यों ना लगे

जब तक कि वह एक आदत ना बन जाए। ।

अपने जीवन में अनुशासन का अहम योगदान होता है। अनुशासन को अपनाने के लिए स्वयं पर ना चाहते हुए भी अनुशासन के नियमों को लागू करते रहना। जब तक कि वह अनुभव में शामिल ना हो जाए , जीवन में शामिल ना हो जाए। यह अनुशासन का अहम योगदान है इस आदत में शामिल किया जाना चाहिए ।

 

20

अच्छा फोटो नहीं आने पर

पहला कसूर मोबाइल का

दूसरा बैकग्राउंड का

तीसरा खींचने वाले का होता है

शक्ल पर तो शक करना गुनाह है। ।

कहने का तात्पर्य यह है कि , अगर किसी की प्रतिभा और खूबसूरती प्रकट नहीं हो रही है तो , उसके पीछे छुपे किन्ही कारणों का दोष हो सकता है। आपके प्रतिभा और आपके प्रयत्न का दोष कभी नहीं हो सकता। इसलिए स्वयं पर दोषारोपण करना छोड़ो , अपने ऊपर पूर्ण विश्वास रखो।

Quotes on success

21

अगर हम अपनी दृष्टि केवल उसी पर रखेंगे

जो पीछे छूट गया है

तो हमें आगे की दिशा कभी नहीं दिखेगी। ।

बच्चन जी कहते हैं – जीवन में सदैव आगे बढ़ते रहना ही मानव का एकमात्र कर्तव्य है। अगर एक जगह स्थिर होकर पीछे छूटे हुए घटना या समय को देखते रहेंगे तो हम आगे का मार्ग कभी भी नहीं देख पाएंगे। जिस उपलब्धि को अपने जीवन में हासिल करना है , वह कभी नहीं कर सकेंगे।

 

22

यह तो सहनशक्ति की मिसाल है

कि फूल कुछ नहीं कहते

वरना कभी कांटों को

मसल कर तो देखिए। ।

संत प्रवृत्ति के व्यक्ति की महानता होती है कि , वह स्वयं पर होने वाले कष्टों को सह लेता है। बुराइयों को सहन करते हुए उसका निवारण करना चाहता है। वही उसके विपरीत स्वभाव वाले तत्काल प्रतिक्रिया देते हैं और अपना बदला ले लेते हैं।  जिस प्रकार कांटे अपना बदला तत्काल ले लेते हैं।

 

23

शब्द मेरी पहचान बने तो बेहतर है

चेहरे का क्या है

वह तो मेरे साथ ही चला जाएगा। ।

बच्चन जी का मानना है शब्द और स्वभाव से बढ़कर कुछ नहीं होता। व्यक्ति की शालीनता , उसके अच्छे विचार , सत्कर्म ही इस पृथ्वी पर रह जाते हैं। चेहरा तो व्यक्ति के साथ ही जलकर राख हो जाता है। यहां रहती है तो बस उसकी अच्छी यादें जिसकी मिसाल लोग दिया करते हैं।

Amitabh Bachchan Shayari in Hindi

24

मुद्दतें हो गई लफ्जों को हरारत हुए

सुना है लोग

आजकल उंगलियों से बातें करते हैं। ।

सोशल मीडिया के इस दौर में लोगों को आपस में बात करते अपने विचारों को साझा करते बहुत कम देखा जाता है।  क्योंकि आजकल जितनी भी आपसी बातचीत होती है , वह सब सोशल मीडिया के माध्यम से होती है। इसके कारण अपने प्रिय जन , परिवार जन से निरंतर दूरियां बढ़ती जा रही है।

 

25

सुगंध के बिना पुष्प

तृप्ति के बिना प्राप्ति

ध्येय के बिना कर्म

प्रसन्नता के बिना जीवन व्यर्थ है। ।

जिस प्रकार पुष्प , सुगंध के बिना अधूरा है और जब तक व्यक्ति में तृप्ति की भावना नहीं आती है तब तक वह कितना भी प्राप्त कर ले वह अधूरा रहता है। ठीक उसी प्रकार कर्म , बिना लक्ष्य या आधारहीन होने पर व्यर्थ हो जाता है। ठीक उसी प्रकार जीवन में अगर प्रसन्नता नहीं है तो उसका जीवन भी व्यर्थ ही हो जाता है।

 

26

हर चीज वहीं मिल जाती है , जहां वह खोई हो

लेकिन विश्वास वहां कभी नहीं मिलता

जहां एक बार खो जाता है। ।

विश्वास एक ऐसी चीज है जिसे बहुत मुश्किल से प्राप्त किया जाता है। बाकी सभी चीजें प्राप्त आसानी से हो जाती है , लेकिन विश्वास नहीं। वही कोई भी वस्तु जहां होती है वही वापस मिलने की पूर्ण संभावना रहती है , किंतु विश्वास जहां खोता है वहां मिल पाना बेहद ही मुश्किल होता है। इसलिए विश्वास को बनाए रखिए , इस विश्वास को एक-दूसरे में कायम रखिए ताकि खोने की नौबत ना आए।

 

Prernadayak Amitabh Bachchan Quotes

27

लोग जब पूछते हैं कि

आप क्या काम करते हैं

तो असल में वह हिसाब लगाते हैं

कि आपको कितनी इज्जत देनी है। ।

कोई भी व्यक्ति जब अगले व्यक्ति का परिचय कार्य के रूप में पूछता है , तब वह उसको देने वाली इज्जत का आकलन करता है। इसलिए अपने कर्म पर , कार्य पर सदैव विश्वास रखिए दूसरों की बिना प्रवाह किए।

 

28

खुशियों का भी अजीब गणित है

जब आप उसे डिवाइड करें

उसको बांटना चाहे

उतना ही गुना हो जाता है। ।

खुशी और शिक्षा के संदर्भ में एक बात तर्कसंगत बैठती है कि इन दोनों को जीतना ही बांटा जाए उतना ही यह बढ़ता जाता है।  आप शिक्षा को समाज में जितना बाँटिएगा यह उतना ही गुणात्मक रूप से वृद्धि करेगा। ठीक इसी प्रकार खुशियों को भी आप जितना बाटेंगे उतना ही यह बढ़ता जाएगा। इसलिए समाज में शिक्षा और खुशियों को सदैव बांटते रहिए।

Quotes on love

29

मोहब्बत ,त्याग की मां है

वह जहां जाती है

अपने बेटे को साथ लेकर जाती है। ।

मोहब्बत और त्याग का रिश्ता मां बेटे जैसा है। मोहब्बत जहां भी जाती है , वहां त्याग भी साथ-साथ जाता है। अर्थात मोहब्बत जहां होता है , त्याग वही होता है दोनों एक दूसरे के पूरक हैं।

 

30

कई चीजों को नजरअंदाज कर देने से

हमें वह सीख मिलती है

जो हमें अंदरूनी शांति के पथ पर डाल देती है। ।

कई बार कुछ चीजों को नजरअंदाज कर देना ही बेहतर होता है। यह सुखी जीवन का एक मूल मंत्र भी है , कई बार बातों को दिल से लगा लेने या उस पर अनावश्यक विचार से जीवन में अशांति का प्रचार होता है।

Amitabh Bachchan Quotes with deep meaning

31 

जब बातें औरों से होती है

तो तथ्य निकलते हैं।

जब बात स्वयं से होती है

तो गूढ़ रहस्य निकलते हैं। ।

व्यक्ति को स्वयं के लिए भी समय देना चाहिए। ऐसा करने से जीवन के गूढ़ रहस्य से साक्षात्कार होता है। जबकि औरों से बात करने पर केवल एक-दूसरे के विचार और संदेशों का आदान-प्रदान होते हैं। जबकि स्वयं से की गई बात जीवन को सन्मार्ग पर ले जाने के लिए प्रेरित करती है।

 

 

32

विश्व में हमारा मुकाबला

उस व्यक्ति से है

जो व्यक्ति हम कल थे। ।

जो व्यक्ति स्वयं से लड़ता है वह किसी से हार नहीं सकता। इसलिए सदैव मुकाबला खुद से करिए दुनिया से नहीं।  दुनिया से लड़ कर आप को कष्ट होगा , जबकि स्वयं से लड़कर संतोष और सफलता की खुशी प्राप्त होगी।

 

Final Words

Shiva quotes in Hindi

स्वामी विवेकानंद जी के सुविचार

Sandeep Maheshwari quotes in Hindi

Hindi Inspirational quotes for everyone

Motivational Hindi quotes for students to get success

15 Great Hindi quotes on life for success

Hindi quotes full of motivation for fast success in life

Good night Hindi quotes for any purpose

Sanskrit quotes subhashita with Hindi meaning

Best Suvichar in Hindi

Best Anmol vachan in Hindi

Thoughts in Hindi with images

35 Best Motivational Quotes in Hindi

101 Best Good morning quotes in Hindi with images

Independence Day Quotes

Bhagat Singh Quotes

Teacher Day Hindi Quotes

Mahatma Gandhi Quotes

चंद्रशेखर आजाद के सुविचार

लाल बहादुर शास्त्री के सुविचार

 

2 thoughts on “Amitabh Bachchan Quotes in Hindi – अमिताभ बच्चन के सुविचार”

  1. अमिताभ बच्चन मेरे सबसे प्रिय अभिनेता है और मैंने उनकी लगभग सारी फिल्में देखी है. यह पोस्ट मुझे बहुत अच्छी लगी.

    Reply

Leave a Comment