व्यक्तिवाचक संज्ञा की परिभाषा, भेद, उदाहरण

आज के इस लेख में व्यक्तिवाचक संज्ञा की परिभाषा, भेद, उदाहरण तथा महत्वपूर्ण प्रश्न उत्तर आदि का विस्तार पूर्वक यहां उपलब्धता है। जिसके कारण विद्यार्थी आसानी से इस संज्ञा से परिचित हो सकता है। जिन संज्ञा शब्द से किसी व्यक्ति,वस्तु, प्राणी अथवा स्थान के नाम का बोध कराया जाता है उसे जातिवाचक संज्ञा कहते हैं। …

Read moreव्यक्तिवाचक संज्ञा की परिभाषा, भेद, उदाहरण

संवाद लेखन की परिभाषा और उदाहरण ( Samvad lekhan )

इस लेख के अंतर्गत संवाद लेखन की परिभाषा और उदाहरण के सभी आयामों से परिचित हो सकेंगे। संवाद लेखन क्या है ? किसे कहते हैं ? आदि को विस्तार पूर्वक समझ सकेंगे। इस लेख को पढ़ने के बाद आप स्वयं संवाद लेखन का कार्य कर सकते हैं। पूछे गए प्रश्नों का ठीक प्रकार से उत्तर लिख …

Read moreसंवाद लेखन की परिभाषा और उदाहरण ( Samvad lekhan )

क्रिया की परिभाषा, भेद, उदाहरण ( अकर्मक तथा सकर्मक )

क्रिया की परिभाषा, भेद, उदाहरण, सहित समस्त जानकारी इस लेख में प्राप्त करेंगे। साथ ही कुछ प्रश्न-उत्तर और उदाहरण विशेष रूप से प्राप्त करेंगे। जिससे आपको क्रिया के विषय में अधिक जानकारी प्राप्त हो सकेगी। व्यक्ति अपने विचारों को शब्दों तथा वाक्य के रूप में प्रकट करता है। यह शब्द तथा वाक्य भाषा के प्रमुख …

Read moreक्रिया की परिभाषा, भेद, उदाहरण ( अकर्मक तथा सकर्मक )

भक्ति रस ( परिभाषा, भेद, उदाहरण ) पूरी जानकारी

भक्ति रस को मान्यता काफी लंबे समय के बाद मिली। इस लेख में आप भक्ति रस की परिभाषा, भेद, उदाहरण, स्थायी भाव, आलम्बन, उद्दीपन, अनुभाव, संचारी भाव आदि का विस्तार पूर्वक अध्ययन करेंगे। परिभाषा:– भगवान के प्रति रति प्रेम को भक्ति रस माना है। इसके आधार पर केवल भगवान से संबंधित प्रेम के ही महत्व को …

Read moreभक्ति रस ( परिभाषा, भेद, उदाहरण ) पूरी जानकारी

वात्सल्य रस ( परिभाषा, भेद, उदाहरण ) सम्पूर्ण जानकारी

इस लेख में वात्सल्य रस की परिभाषा, भेद, उदाहरण, स्थायी भाव, आलम्बन, उद्दीपन, अनुभाव, संचारी भाव तथा कवियों की रचना आदि का विस्तृत उल्लेख है। इस लेख को लिखने से पूर्व विद्यार्थी के कठिनाई स्तर का चयन किया गया है। विद्यार्थी को जहां समस्या आती है उस बिंदु को सरल बनाने का प्रयास किया गया है। …

Read moreवात्सल्य रस ( परिभाषा, भेद, उदाहरण ) सम्पूर्ण जानकारी

शांत रस ( परिभाषा, भेद, उदाहरण ) पूरी जानकारी

इस लेख में शांत रस की परिभाषा, भेद, उदाहरण, स्थायी भाव, आलम्बन, उद्दीपन, अनुभाव तथा संचारी भाव आदि का विस्तृत रूप से व्याख्यात्मक रूप प्रस्तुत है। विद्यार्थी इस लेख को पढ़कर संबंधित विषय में सर्वाधिक अंक प्राप्त कर सकते हैं , क्योंकि यह विद्यार्थियों के कठिनाई स्तर की पहचान करके लिखा गया है। विद्यार्थी को जहां …

Read moreशांत रस ( परिभाषा, भेद, उदाहरण ) पूरी जानकारी

अद्भुत रस ( परिभाषा, भेद, उदाहरण ) सम्पूर्ण जानकारी

इस लेख में अद्भुत रस की परिभाषा, भेद, उदाहरण, स्थायी भाव, आलम्बन, उद्दीपन, अनुभाव तथा संचारी भाव आदि का विस्तृत रूप से अध्ययन किया जा सकता है। परिभाषा:- विस्मय करने वाला रस अद्भुत रस कहलाता है। जब विस्मय भाव अपने अनुकूल , आलंबन , उद्दीपन ,अनुभाव और संचारी भाव का सहयोग पाकर अस्वाद का रूप धारण …

Read moreअद्भुत रस ( परिभाषा, भेद, उदाहरण ) सम्पूर्ण जानकारी

भयानक रस ( परिभाषा, भेद, उदाहरण ) पूरी जानकारी

यहां भयानक रस का विस्तृत ब्यौरा प्रस्तुत किया गया है। इस लेख में आप भयानक रस की परिभाषा, भेद, उदाहरण, स्थायी भाव, आलम्बन, उद्दीपन, अनुभाव तथा संचारी भाव आदि का विस्तृत रूप से अध्ययन करेंगे। लेख को तैयार करते समय हमने विद्यार्थियों के कठिनाई स्तर को ध्यान में रखा है तथा सरल बनाने का प्रयास किया …

Read moreभयानक रस ( परिभाषा, भेद, उदाहरण ) पूरी जानकारी

रौद्र रस ( परिभाषा, भेद, उदाहरण ) पूरी जानकारी

यहां रौद्र रस की समस्त जानकारी उपलब्ध है। रौद्र रस की की परिभाषा, भेद, उदाहरण, स्थायी भाव, आलम्बन, उद्दीपन, अनुभाव तथा संचारी भाव  आदि का संपूर्ण विवरण इस लेख में हासिल करेंगे। परिभाषा जहां क्रोध की व्यंजना हो वहां रौद्र रस माना जाता है। काव्य के अनुसार सहृदय में वासना रूप से विद्यमान क्रोध नामक स्थाई …

Read moreरौद्र रस ( परिभाषा, भेद, उदाहरण ) पूरी जानकारी