भक्ति रस ( परिभाषा, भेद, उदाहरण ) पूरी जानकारी

भक्ति रस को मान्यता काफी लंबे समय के बाद मिली। इस लेख में आप भक्ति रस की परिभाषा, भेद, उदाहरण, स्थायी भाव, आलम्बन, उद्दीपन, अनुभाव, संचारी भाव आदि का विस्तार पूर्वक अध्ययन करेंगे। परिभाषा:– भगवान के प्रति रति प्रेम को भक्ति रस माना है। इसके आधार पर केवल भगवान से संबंधित प्रेम के ही महत्व को …

Read more

वात्सल्य रस ( परिभाषा, भेद, उदाहरण ) सम्पूर्ण जानकारी

इस लेख में वात्सल्य रस की परिभाषा, भेद, उदाहरण, स्थायी भाव, आलम्बन, उद्दीपन, अनुभाव, संचारी भाव तथा कवियों की रचना आदि का विस्तृत उल्लेख है। इस लेख को लिखने से पूर्व विद्यार्थी के कठिनाई स्तर का चयन किया गया है। विद्यार्थी को जहां समस्या आती है उस बिंदु को सरल बनाने का प्रयास किया गया है। …

Read more

शांत रस ( परिभाषा, भेद, उदाहरण ) पूरी जानकारी

इस लेख में शांत रस की परिभाषा, भेद, उदाहरण, स्थायी भाव, आलम्बन, उद्दीपन, अनुभाव तथा संचारी भाव आदि का विस्तृत रूप से व्याख्यात्मक रूप प्रस्तुत है। विद्यार्थी इस लेख को पढ़कर संबंधित विषय में सर्वाधिक अंक प्राप्त कर सकते हैं , क्योंकि यह विद्यार्थियों के कठिनाई स्तर की पहचान करके लिखा गया है। विद्यार्थी को जहां …

Read more

अद्भुत रस ( परिभाषा, भेद, उदाहरण ) सम्पूर्ण जानकारी

इस लेख में अद्भुत रस की परिभाषा, भेद, उदाहरण, स्थायी भाव, आलम्बन, उद्दीपन, अनुभाव तथा संचारी भाव आदि का विस्तृत रूप से अध्ययन किया जा सकता है। परिभाषा:- विस्मय करने वाला रस अद्भुत रस कहलाता है। जब विस्मय भाव अपने अनुकूल , आलंबन , उद्दीपन ,अनुभाव और संचारी भाव का सहयोग पाकर अस्वाद का रूप धारण …

Read more

भयानक रस ( परिभाषा, भेद, उदाहरण ) पूरी जानकारी

यहां भयानक रस का विस्तृत ब्यौरा प्रस्तुत किया गया है। इस लेख में आप भयानक रस की परिभाषा, भेद, उदाहरण, स्थायी भाव, आलम्बन, उद्दीपन, अनुभाव तथा संचारी भाव आदि का विस्तृत रूप से अध्ययन करेंगे। लेख को तैयार करते समय हमने विद्यार्थियों के कठिनाई स्तर को ध्यान में रखा है तथा सरल बनाने का प्रयास किया …

Read more

रौद्र रस ( परिभाषा, भेद, उदाहरण ) पूरी जानकारी

यहां रौद्र रस की समस्त जानकारी उपलब्ध है। रौद्र रस की की परिभाषा, भेद, उदाहरण, स्थायी भाव, आलम्बन, उद्दीपन, अनुभाव तथा संचारी भाव  आदि का संपूर्ण विवरण इस लेख में हासिल करेंगे। परिभाषा जहां क्रोध की व्यंजना हो वहां रौद्र रस माना जाता है। काव्य के अनुसार सहृदय में वासना रूप से विद्यमान क्रोध नामक स्थाई …

Read more

वीर रस ( परिभाषा, उदाहरण, भेद ) की पूरी जानकरी

प्रस्तुत लेख में वीर रस की परिभाषा, भेद, उदाहरण, स्थायी भाव, आलम्बन, उद्दीपन, अनुभाव तथा संचारी भाव आदि का विस्तार पूर्वक उल्लेख है। इसे पढ़कर आप वीर रस को भली-भांति जान पाएंगे और अपने ज्ञान की वृद्धि कर पाएंगे। इस लेख को तैयार करते समय हमने विद्यार्थी के कठिनाई स्तर को ध्यान में रखा है। वीर …

Read more

हास्य रस : परिभाषा, पहचान, उदाहरण, स्थायी भाव

इस लेख में हास्य रस की परिभाषा, पहचान, उदाहरण, स्थायी भाव, आलम्बन, उद्दीपन, अनुभाव तथा संचारी भाव आदि विस्तृत रूप से लिखा गया है। इस लेख के अध्ययन उपरांत आप रस के विषय में गहन जानकारी हासिल करेंगे। यह लेख विद्यालय , विश्वविद्यालय तथा प्रतियोगी परीक्षाओं के अनुरूप तैयार किया गया है। इसके अध्ययन से आप हास्य …

Read more

करुण रस : परिभाषा, पहचान, उदाहरण और स्थायी भाव

आज हम करुण रस की परिभाषा, पहचान, और उदाहरण, स्थायी भाव, आलम्बन, उद्दीपन, अनुभाव तथा संचारी भाव आदि का विस्तृत रूप से अध्ययन करेंगे। इसके अध्ययन से आप करुण रस तथा अन्य रस की जानकारी हासिल करते हुए अपनी समझ को विकसित करेंगे। इतना ही नहीं रस की समग्र जानकारी प्राप्त करेंगे। परिभाषा :- जहां किसी …

Read more