कोरोना वायरस क्या है पूरी जानकारी | कोरोना पर निबंध | Corona virus in hindi

Today we are writing essay on corona virus in Hindi. आज के लेख में हम कोरोना (COVID-19) महामारी पर निबंध लिख रहे हैं।

यह विषय भविष्य में विद्यार्थियों के लिए उपयोगी साबित होगी। जैसा कि आप जानते हैं परीक्षा में निबंध लिखने को आता है , तो उसका संबंध समसामयिक घटनाओं से होता है। ऐसी कोई आपदा जो हाल फिलहाल में घटी हो और वह काफी प्रभावशाली हो इन विषयों पर अवश्य रूप से निबंध लिखने को आता है।

इस लेख में विद्यार्थियों को विशेष रूप से ध्यान रखा गया है , ताकि उनके भविष्य की परीक्षाओं में यह निबंध काम आ सके।

 

कोरोना COVID-19 महामारी पर निबंध – Corona virus in hindi

कोरोना वायरस (COVID-19) आज वैश्विक महामारी बन गई है।

इस वायरस ने चीन के वुहान शहर में जन्म लिया और यह मनुष्य के द्वारा एक- दूसरे में ट्रांसफर ( हस्तांतरित) होता गया। इस वायरस की जद में पूरा विश्व आ गया। यह वायरस पहले के वायरस से भिन्न है।  यह लोगों के संपर्क में आने से ही एक – दूसरे में ट्रांसफर होता है , जबकि पूर्व वायरस में ऐसा नहीं था। वैज्ञानिक तथा डॉक्टर इस वायरस का अभी तक कोई टीका अथवा उपचार नहीं ढूंढ पाए हैं , जिसके कारण दिन-प्रतिदिन लोगों की मृत्यु हो रही है।

 

वायरस क्या है ?

वायरस से हमारा संबंध बैक्टीरिया से है। मानव जीवन के लिए बैक्टीरिया आवश्यक है , किंतु वह बैक्टीरिया मनुष्य के लिए हितकर हो।

यहां समझना आवश्यक है कि बैक्टीरिया दो प्रकार के होते हैं।

एक अच्छे बैक्टीरिया , दूसरे बुरे बैक्टीरिया।

अच्छे बैक्टीरिया मानव शरीर को पोषित करते हैं , उनके शरीर के लिए अच्छे होते हैं।

यह वैक्टीरिया  मानव शरीर के लिए लाभकारी होते हैं , जबकि कई ऐसे बैक्टीरिया है जो मानव के स्वास्थ्य को प्रभावित करते हैं , यह बुरे बैक्टीरिया की श्रेणी में आते हैं।

इन बुरे बैक्टीरिया के संपर्क में व्यक्ति के आने से व्यक्ति का स्वास्थ्य प्रभावित होता है। जो इन बुरे वैक्टीरिया के संपर्क में आता है वह बीमार हो जाता है।

यहां तक कि वह इन बैक्टीरिया के कारण अपनी जान भी गवां बैठता है।

कोरोना भी एक इसी प्रकार का बैक्टीरिया है , जो मानव शरीर के लिए हानिकारक है।

यह मानव के शरीर को कमजोर करता है और उसकी प्रतिरोधक क्षमता को घटाते हुए व्यक्ति की जान ही ले लेता है। यह बैक्टीरिया अभी अध्ययन का विषय है , डॉक्टर और विशेषज्ञ इस बैक्टीरिया को समाप्त करने के लिए दिन – रात एकजुट होकर कार्य कर रहे हैं। यह बैक्टीरिया मानव के शरीर में हाथों के माध्यम से मुंह , नाक और आंख द्वारा शरीर के भीतर प्रवेश करता है।

यह शरीर में श्वास नली को प्रभावित करता है , सांस लेने में दिक्कत होती है।

बुखार , सर्दी , जुकाम आदि इसके प्रमुख लक्षण हैं।

अगर इस बैक्टीरिया से सावधानी बरतें तो इससे बचाव संभव है।

व्यक्ति की प्रतिरोधक क्षमता अधिक होने के कारण यह बैक्टीरिया व्यक्ति को अधिक प्रभावित नहीं करता।

जबकि शरीर के कमजोर होने पर यह तुरंत और प्रभावी रूप से अपने प्रभाव में लेता है।

 

कोरोना वायरस की उत्पत्ति – Origin of Corona virus in hindi

कोरोना  वायरस की उत्पत्ति चीन देश के बुहान शहर से हुई।

इस शहर से पूरे विश्व में यह वायरस बड़ी तीव्र गति से फैल गया। माना जा रहा है बुहान शहर में एक सेना के नियंत्रण में जैविक हथियार बनाने की प्रयोगशाला है। इस प्रयोगशाला में कोरोना वायरस पर शोध चल रहा था , कुछ लापरवाही के कारण यह वायरस वहां से निकला और पूरे शहर को देखते – देखते अपने काल का ग्रास बना लिया।

यहाँ ध्यान देने वाली बात यह है कि चीन इसके लिए अमेरिका  को जिम्मेदार बता रहा है।

चीन का मानना है कि अमेरिका ने यह वायरस बुहान शहर में फैलाया है।

इस वायरस ने चीन शहर को ही नहीं इटली , जर्मनी , फ्रांस , अमेरिका जैसे बड़े देशों को भी अपनी चपेट में ले लिया। सभी डॉक्टर और विशेषज्ञ अभी तक इसका तोड़ नहीं निकाल पा रहे हैं। यह वायरस गुप्त रूप से प्रयोगशाला में लाया गया था , जिसके कारण वैज्ञानिकों को इस वायरस के विषय में अधिक जानकारी नहीं है।

यही कारण है कि इसकी रोकथाम के लिए कोई दवा या टीका अभी तक नहीं बन पाया है।

 

कोरोना वायरस का फैलना

कोरोना वायरस वर्तमान समय में वैश्विक महामारी बन कर उभर आई है। यह वायरस अन्य वायरस से अलग है , पूर्व समय के वायरस हवा , जल आदि के माध्यम से फैला करती थी। यह वायरस व्यक्ति द्वारा एक – दूसरे के संपर्क में आने से फैल रहा है। एक व्यक्ति किसी दूसरे व्यक्ति में यह वायरस हस्तांतरित करता है , उसके बाद वह व्यक्ति जिस – जिस व्यक्ति , समुदाय के संपर्क में आता है।

वह पूरा का पूरा समाज ही इसके दायरे में आता जा रहा है।

लोगों को इससे बचने के लिए स्वयं को समाज अथवा दूसरों से अलग – थलग  रहना चाहिए।  14 दिन का स्वयं पर नियंत्रण रखने से यह वायरस कमजोर हो जाता है , और धीरे-धीरे समाप्त हो जाता है। किंतु अगर लापरवाही की जाए तो यह वायरस ना सिर्फ व्यक्ति के शरीर में फैलता है , बल्कि यह समाज और पूरे देश यहां तक कि विश्व भर में फैलाने की क्षमता रखता है।

 

बचने का उपाय – How to be safe from Corona virus in hindi

कोरोना वायरस से बचने का फिलहाल एक ही उपाय पूरे विश्व को समझ आ रहा है। जो लोगों को एक- दूसरे से अलग रखना है।

यह वायरस एक – दूसरे के संपर्क में आने से ही फैलता जा रहा है।

बुहान शहर से निकला यह वायरस पूरे विश्व में इस लिए फैला क्योंकि वहां से जो लोग किसी भी देश में गए वहां के लोगों को इस वायरस से प्रभावित करते रहे।

सरकार ने वैश्विक स्तर पर कदम उठाया है , सभी शहरों , गलियों , दुकान , घर आदि सभी को बंद कर दिया गया है।

लोग अपने घरों में कैद हो गए हैं श्रेष्ठ उपाय वर्तमान समय में है।

कोरोना वायरस एक – दूसरे के माध्यम से फैलता है।

अर्थात जो कोई भी कोरोना पीड़ित के संपर्क में आता है , उससे गले लगता है , अथवा हाथ मिलाता है यह वायरस इन्हीं कारणों से एक – दूसरे में हस्तांतरित होता है।

इसलिए सरकार कठोर कदम उठाकर लोगों को अपने घर में रहने की सलाह दे रही है।

सार्वजनिक जगह पर जाने से परहेज करना चाहिए।

बाहर निकलने पर मुंह पर मास्क लगाना चाहिए तथा हाथ को कुछ-कुछ अंतराल पर धोना चाहिए।

अपने हाथों से आंख , नाक और मुंह को नहीं छूना चाहिए।

अगर पानी की उपलब्धता हो तो साबुन अथवा लिक्विड हैंड वॉश से निरंतर हाथ धोते रहें।

पानी की उपलब्धता ना हो तो सैनिटाइजर का प्रयोग कर हाथों को साफ करते रहे।

इस प्रकार की सतर्कता से आप बच सकते हैं।

सबसे सरल और श्रेष्ठ उपाय यही है जब तक इस वायरस का टीका या कोई इलाज नहीं मिल जाता अपने घरों में ही सुरक्षित रहें।

 

 

कोरोना का इलाज

कोरोना एक नवीनतम बैक्टीरिया है , जिसका अध्ययन अभी बड़े स्तर पर किया जा रहा है।

किंतु इसने इतनी तेजी से अपना पांव पसारा है कि बड़े बड़े डॉक्टरों को भी समझने में समय लगेगा।

माना जा रहा है यह वायरस किसी गुप्त युद्ध के लिए तैयार किया जा रहा था।

अतः यह वायरस कृत्रिम माना जा रहा है जिसकी काट अभी तक डॉक्टरों ने नहीं ढूंढी है।

अमेरिका ने सर्वप्रथम अपने 40 नागरिकों पर करोना से बचने के लिए टीका बनाने का प्रयत्न आरंभ किया है।

किंतु अभी इस पर शोध चल रहा है , कोई इलाज फिलहाल नहीं है।

सिर्फ पीड़ित और स्वस्थ व्यक्ति को अलग रखने के अलावा।

माना जा रहा है कोरोना का वायरस 14 दिन के लिए व्यक्ति में रहता है।

अतः व्यक्ति में लक्षण पाए जाने के बाद 14 दिन उसे अलग-थलग करके समाज से दूर रखा जाता है।

डॉक्टरों की निगरानी में उसका संपूर्ण इलाज किया जा रहा है।

 

निष्कर्ष :-

कोरोना वायरस निश्चित रूप से इस सदी की सबसे बड़ी महामारी बन कर उभरी है।  विश्व भर में सभी विशेषज्ञ इस वायरस को अभी तक नहीं जान पा रहे हैं। अभी इस वायरस की पहचान की जा रही है। पूर्व समय में जब चमगादड़ , सूअर आदि जैसे जानवरों अथवा पशु – पक्षियों के माध्यम से यह वायरस फैला करता था। कोरोना का वायरस उन सब वायरस से भिन्न है।

यह वर्तमान समय में सावधानी से ही बचा जा सकता है।

किंतु वैज्ञानिक दावा कर रहे हैं जल्द ही इसकी पहचान कर इसके लिए सशक्त दवाइयों की खोज की जा रही है।

सामान्य जनता को भी समझना चाहिए और स्वयं को एक – दूसरे व्यक्ति के सामने जाने से बचना चाहिए। अगर आवश्यकता ना हो तो घर से बाहर ना निकले , क्योंकि यह वायरस एक – दूसरे के माध्यम से ही हस्तांतरित हो रहा है। सरकार पुरजोर तरीके से कार्य कर रही है , लोगों को समझा भी रही है जब तक आवश्यकता ना हो अपने घर पर रहे। इसलिए शहर में कर्फ्यू जैसे हालात लगाए गए हैं , इससे बचाओ का एकमात्र साधन स्वयं को समाज से अलग करना ही है।

जल्द ही इस बीमारी अथवा वायरस का टीका अथवा दवाई उपलब्ध होगी। यह समय घबराने का नहीं हिम्मत से धैर्य से कार्य करने का है।

यह भी पढ़ें

टेलीविजन की उपयोगिता पर प्रकाश डालिए 

अप्रैल फूल क्या है क्यों मानते है

नदी तथा जल संरक्षण

पर्यावरण की रक्षा। ग्लोबल वार्मिंग।

हिंदी का महत्व – Hindi ka mahatva

Banking gk in hindi with questions and answers

Gk in hindi – List of first in India ( Bharat me pratham )

आर्थिक जगत के मुख्य जानकारी – General awareness on Economy

Famous Indian Cities nicknames – शहरों के उपनाम

Basic Gk for kids in Hindi – बच्चों के लिए सामान्य ज्ञान

Chinook helicopter full details in hindi

Shala Darpan

Exoplanet in Hindi

Insurance in Hindi

Internet kya hai 

How to register a company

Dolphin in Hindi 

Follow us here

Follow us on Facebook

Subscribe us on YouTube

1 thought on “कोरोना वायरस क्या है पूरी जानकारी | कोरोना पर निबंध | Corona virus in hindi”

  1. कोरोना वायरस पर पूरी जानकारी देने के लिए बहुत-बहुत धन्यवाद।

    Reply

Leave a Comment

You cannot copy content of this page