How to manage stress for office people

Stress management techniques for office people.

ऑफिस के स्ट्रेस को कैसे दूर करें

 

ऑफिस हो या घर , स्त्री हो अथवा पुरुष , स्ट्रेस की समस्या  वर्तमान समय में एक आम बात हो गई है। यहां तक कि छोटे-छोटे बच्चे भी स्ट्रेस की चपेट में आ गए हैं। आज हम लोग ऑफिस के स्ट्रेस को दूर करने पर विचार करेंगे। इसमें बताये गए कुछ बिंदुओं पर कार्य करके ऑफिस के स्ट्रेस / तनाव को काफी हद तक कम अथवा दूर किया जा सकता है।

 

१ समय प्रबंधन टाइम मैनेजमेंट –

ऑफिस में टाइम मैनेजमेंट को लेकर खास जोर दिया जाता है।  किसी भी टारगेट या कार्य को पूरा करने के लिए समय सीमा निर्धारित की जाती है।  कार्य की पूर्ति समय सीमा के भीतर होने पर आपको जहां शाबाशी मिलती है वही लेट होने पर डांट। आवश्यकता है आप समय निकाल कर सभी कार्यों के लिए टाइम मैनेज करें , जिससे आपका कार्य समय पर हो सके।

इसके लिए आपको प्लानिंग करने की आवश्यकता है , इसके अभाव में आपके कार्य समय पर नहीं हो सकेंगे। अतः अपने जीवन में समय प्रबंधन का विशेष ध्यान दिया जाना चाहिए।

 

२ छुट्टी अथवा हॉलीडे का विशेष उपयोग करें –

ऑफिस का कार्य करते – करते व्यक्ति थक जाता है , और कार्यों को बोझिल समझने लगता है। इससे बचने के लिए आपको छुट्टियों का अथवा विशेष होलीडे का सदुपयोग करना चाहिए।

अपने साथियों , सगे – संबंधियों अथवा परिजनों के साथ हॉलीडे को पूरी मस्ती के साथ बिताना चाहिए। यह आपके कार्यों की गति को बढ़ाता है , वही बोझिल लगने वाले बड़े – बड़े कामों को बड़े ही शांत मन से सरलता से हल कर देता है। इसलिए आवश्यकता है आप छुट्टियों को खुलकर मनाए और स्ट्रेस को दूर रखें।

 

३ खुद के लिए समय निकालें –

घर , परिवार , ऑफिस आदि में फंसकर कोई भी व्यक्ति रह जाता है। वह स्वयं के लिए समय नहीं दे पाता।  यही मुख्य कारण है कि व्यक्ति स्ट्रेस की चपेट में आ जाता है। इसलिए व्यक्ति को स्वयं के लिए समय देना चाहिए। अपने को अच्छे लगने वाले वह सभी कार्य करने चाहिए जैसे – गाना सुनना , खेलना , कहीं घूमने जाना , अपने पसंदीदा व्यंजन खाना आदि आपकी रूचि के अनुसार आप वह सभी कार्य कर सकते हैं।

 

४ सोशल मीडिया मोबाइल अथवा इंटरनेट से दूरी –

वर्तमान समय में सबसे बड़ी समस्या मोबाइल और इंटरनेट ही है , इसके आने के बाद व्यक्ति में स्ट्रेस का स्तर और बढ़ गया है। व्यक्ति के पास स्वयं के लिए बिल्कुल भी समय नहीं होता। किंतु सोशल मीडिया से जुड़े रहने के लिए भरपूर समय रहता है। लोग घंटों अपने दोस्तों से बातें करते रहते हैं  , सीरियल देखते हैं , कॉमेडी देखते हैं जिसके कारण वह धीरे-धीरे स्ट्रेस की चपेट में आने लगते हैं।

इस कारण व्यक्ति  स्ट्रेस में पडकर दुनिया से अलग हो जाता है और जीवन बोझील लगने लगती है। वह व्यक्ति फिर सोशल मीडिया , मोबाइल और इंटरनेट के बिना अपनी जिंदगी अधूरी समझने लगता है। इसलिए आपको जब भी मौका मिले इन सब से दूरी बनाकर रखने की कोशिश करें।

 

५ समाज से जुड़े –

जैसे-जैसे आधुनिकता का समावेश जीवन में होता जा रहा है , व्यक्ति अपने घर , परिवार तथा समाज से दूर होता जा रहा है। आज जहां अपने परिवार में भी मिलने के लिए मोबाइल एक माध्यम बन गया है। इसके कारण व्यक्ति के बिच परस्पर बात ना होने के कारण दूरियां धीरे-धीरे खाई के रूप में तब्दील हो रही है।

घर , परिवार और समाज सब बिछड़ता जा रहा है और व्यक्ति अकेला होता जा रहा है। ऐसे में आवश्यकता है व्यक्ति को पूरा समय निकालकर स्वयं साक्षात रुप से प्रत्येक व्यक्ति , परिवार तथा समाज से मिलने की कोशिश करना चाहिए। तथा ऐसे समाज सेवा से जुड़ने चाहिए जो जरूरतमंद होते हैं जैसे अनाथ आश्रम , गरीबों की बस्ती , मंदिर की सेवा आदि। अनेक प्रकार के कार्यों से जुड़कर आप अपने स्ट्रेस को दूर कर सकते हैं और लंबी उम्र जी सकते हैं ऐसा मेरा विश्वास है।

 

६ योगाभ्यास करें –

वर्तमान समय में जिम और कसरत की लोकप्रियता बढ़ती जा रही है , वहीं योग का भी आज वैश्वीकरण हो चुका है। योग के माध्यम से कई प्रकार के रोगों का निवारण किया जाता है , साथ ही व्यक्ति के स्वस्थ रहने में यह मददगार साबित है। योगाभ्यास से व्यक्ति का शरीर स्वस्थ रहता है, जिसके कारण वह निरोगी रह पाने में सक्षम होता है। इसीलिए किसी भी व्यक्ति के लिए योगाभ्यास उतना ही आवश्यक होना चाहिए जितना कि भोजन शरीर के लिए आवश्यक होता है।

 

७ हरी सब्जी तथा ड्राई फ्रूट का सेवन –

समय के साथ – साथ रासायनिक खेती बढ़ती जा रही है। किसी भी खान-पान में रसायन के तत्व मिल ही जाते हैं। कितनी ही सावधानी से सब्जी बनाई जाए किंतु उसके अंदरूनी भागों  में अजैविक/ रसायनिक तत्व मिल ही जाता है , जो शरीर के लिए हानिकारक होते हैं।

इसलिए आज व्यक्ति को बाजार के बेकार खाना खाने से बचना चाहिए और अपने खाने में हरी सब्जी तथा अंकुरित दालों तथा ड्राई फ्रूट्स का सेवन करना चाहिए। यह शरीर के लिए पोषक तत्व भरपूर मात्रा में प्रदान करते हैं।

 

Related posts

Akbar birbal stories in hindi with moral

Motivational story in hindi for students

3 Best Story In Hindi For kids With Moral Values

7 Hindi short stories with moral for kids

Hindi panchatantra stories best collection at one place

5 Famous Kahaniya In Hindi With Morals

3 majedar bhoot ki kahani hindi mai

Hindi funny story for everyone haasya kahani

अधिक भरोसा भी दुखदाई है Motivational kahani

Maha purush ki kahani

Gautam budh ki kahani

Sikandar ki kahani hindi mai

Guru ki mahima hindi story – गुरु की महिमा

 

2 thoughts on “How to manage stress for office people”

Leave a Comment

You cannot copy content of this page