Intraday Se Paise Kaise Kamaye

शेयर मार्केट एक ऐसा कुंआ है जिससे पूरे देश की प्यास बुझाई जा सकती है आजकल यह डायलॉग लोगों के जुबान पर रटे हुए हैं। कारण यह है कि शेयर मार्केट के माध्यम से लोग आज लाखों-करोड़ों कमा रहे हैं। मार्केट के प्रति दीवानगी देखी जा सकती है। कोरोना समय में जब लोग घर में कैद हुए उनके पास रोजगार का माध्यम नहीं था। घर बैठे लोग अपने संसाधनों के माध्यम से शेयर मार्केट में अपना भविष्य देख रहे थे। इस दौरान अनेकों ऐसे लोग करोड़पति बने जिन्होंने शेयर मार्केट का थोड़ा-बहुत ज्ञान हासिल किया हुआ था। प्रस्तुत लेख में हम इंट्राडे ट्रेडिंग से संबंधित जानकारी हासिल करेंगे।

Intraday Se Paise Kaise Kamaye

शेयर मार्केट में अनेकों प्रकार की ट्रेडिंग होती है जैसे डिलीवरी, इंट्राडे, फ्यूचर ऑप्शन, म्यूच्यूअल फंड, गोल्ड, निफ़्टी, निफ़्टी बैंक इत्यादि। सभी का विस्तृत क्षेत्र है। आज हम इंट्राडे ट्रेडिंग पर जानकारी हासिल करेंगे जो हमारे इंट्राडे ट्रेडिंग को बेहतर बनाने में कारगर हो सकते हैं।

इंट्राडे क्या होता है

जैसा कि हम सभी जानते हैं शेयर मार्केट में विभिन्न प्रकार के ट्रेडिंग होते हैं जिसमें इंट्राडे एक है। इसके अंतर्गत एक दिन के भीतर ही अपने ट्रेड की खरीद तथा बिक्री की जाती है। मार्केट के उतार-चढ़ाव का अध्ययन करते हुए आप इंट्राडे ट्रेडिंग कर सकते हैं। यह सस्ता, सरल और अच्छी तकनीक है जिससे आप खूब सारा पैसा कमा सकते हैं। बड़े-बड़े अनुभवी लोग इंट्राडे के माध्यम से मोटी रकम बनाते हैं। यह ट्रेडिंग तब और फायदेमंद हो जाती है जब किसी ऐसे न्यूज़ का प्रसारण हो जाता है जिससे शेयर मार्केट प्रभावित होने की संभावना बनती हो। यहां एक दिन के भीतर मोटी कमाई की जा सकती है, बशर्ते आपको इंट्राडे करने का अनुभव हो।

e-RUPI kya hai in Hindi

मेटावर्स क्या है? कैसे काम करता है? फायदे और नुकसान

इंट्राडे के लिए कितने पैसे की आवश्यकता होती है

इंट्राडे ट्रेडिंग करने के लिए आपके पास स्टॉक के अनुसार न्यूनतम पैसा हो तब भी आप इंट्राडे ट्रेडिंग कर सकते हैं। आपका ब्रोकर आपके मूलधन पर 5 गुना धन लेवरेज के रूप में उपलब्ध कराता है। अर्थात आपके पास ट्रेडिंग के लिए 1000 है तो 5000 तक का लेवरेज आपको ब्रोकर उपलब्ध कराता है। अर्थात कुल मिलाकर आपके पास ₹6000 ट्रेडिंग करने के लिए उपलब्ध रहते हैं। आप अपने स्टाफ को ठीक प्रकार से चुने और लेवरेज का प्रयोग करते हुए ट्रेडिंग करें।

यहां ध्यान देने वाली बात यह भी है कि आपको मुनाफा जितना बड़ा होगा उतना ही बड़ा घाटा होने की संभावना भी होती है। इसलिए यहां सावधानी बरतने की आवश्यकता अधिक रहती है।

intraday se paise kaise kamaye
intraday se paise kaise kamaye

स्टॉक का चयन कैसे करें

शेयर मार्केट में सारा खेल स्टॉक के चयन पर निर्भर करता है। स्टॉक जितना बड़ा और बढ़िया होगा उतनी आमदनी की संभावना अधिक बनी रहेगी। विगत कुछ समय में कई ऐसे स्टॉक सामने आए जो फ्रॉड रूप से कार्य कर रहे थे जिनका मूल उद्देश्य व्यवसाय नहीं अपितु शेयरधारकों के पैसों का दोहन करना था। आप स्टॉक का चयन करने में निम्नलिखित बातों पर ध्यान दे सकते हैं

  • जिस स्टॉक को आप जानते हो उसी में निवेश करें
  • अनजान स्टॉक को लेने से बचें
  • कंपनी का अध्ययन ठीक प्रकार से करें
  • कंपनी कर्जे में डूबी है या नहीं जांच लें
  • पहले कंपनी ने कितना प्रॉफिट बनाकर अपने शेयरधारकों को दिया अध्ययन करें
  • पिछले समय में कंपनी ने कैसा प्रदर्शन किया अध्ययन करें
  • कंपनी का आगामी उद्देश्य क्या है पता करें
  • कंपनी के कर्मचारी किस प्रकार से कार्य कर रहे हैं जांच करें
  • आपके द्वारा चुनी गई कंपनी कहीं किसी एजेंसी के द्वारा ब्लैक लिस्ट तो नहीं की गई है जाचे
  • विशेष गहन जानकारी के लिए आप बीएससी या एनएससी जो शेयर मार्केट को नियंत्रित करती है से जानकारी प्राप्त कर सकते हैं।

अपनी किताब कैसे छपवाएं

क्रिप्टो करेंसी क्या है? संपूर्ण जानकारी प्राप्त करें

इंट्राडे में लेवरेज क्या होता है

ट्रेडिंग के क्षेत्र में आपने लेवरेज शब्द को सुना होगा, या आप लेवरेज शब्द परिचित होंगे। मोटे तौर पर लेवरेज को समझे तो यह वह अदृश्य पैसा होता है जो आपका ब्रोकर आपको आपके मूलधन पर गुणात्मक रूप से उपलब्ध कराता है। कुछ वर्षों पूर्व तक यह 20 प्रतिशत तक मिला करता था वर्तमान समय में इंट्राडे ट्रेडिंग में लेवरेज 5% का मिलता है। साधारण शब्दों में समझे तो आपके पास अगर ₹1000 है इस पर आपको ब्रोकर 5 गुणा लेवरेज दे सकता है, आपके पास ट्रेडिंग के लिए ₹6000 उपलब्ध होंगे। इस पर जोखिम यह रहता है कि आप गुणात्मक रूप से कमाई कर सकते हैं तो आप की हानि भी इसी प्रकार से होती है किंतु अगर आप ₹6000 की ट्रेडिंग करते हैं तो आप की हानि आपके मूलधन अर्थात 1000 से अधिक नहीं होगी।

इंट्राडे का समय क्या है?

वैसे तो मार्केट का समय प्रातः 9:00 बजे से दोपहर 3:30 बजे तक होता है। मगर शुरुआती 15 दिन मार्केट को स्थिर होने में लगते हैं। इंट्राडे ट्रेडिंग 9:15 से आरंभ होकर 3:20 तक होता है। अगर आप 3:20 पर स्वयं अपने शेयर की खरीद बिक्री का समापन नहीं करते तो ब्रोकर की तरफ से वह काम पूरा किया जाएगा जिस पर ब्रोकर का चार्ज ₹50 तथा टैक्स अलग से देय होगा।

क्या इंट्राडे से अमीर बन सकते हैं?

हजारों लाखों ऐसे किस्से सुनने को मिलते हैं जिससे हमें लालच घेर लेता है हम उन लोगों से ज्यादा अमीर और बड़ा बनना चाहते हैं जिन्होंने शेयर मार्केट से पैसा कमाया। शेयर मार्केट के माध्यम से अनेकों प्रकार की ट्रेडिंग होती है जिसमें इंट्राडे एक है। इंट्राडे से आप निश्चित रूप से पैसा कमा सकते हैं इसके लिए आपके पास बड़ी मात्रा में पैसा, धैर्य, तथा मार्केट की समझ होनी चाहिए। अमूमन यह देखने को मिलता है की इंट्राडे में 90% लोग असफल होते हैं। वह इस मार्केट में अपना कैपिटल गवा देते हैं क्योंकि मार्केट एक दिन के अध्ययन से कार्य नहीं करता। आप मार्केट में या खासतौर से 1 शेयर में क्या होने वाला है यह अंदाजा नहीं लगा सकते। आप उसमें अपनी रिसर्च शामिल नहीं कर सकते।

खास तौर पर नए लोग इंट्राडे ट्रेडिंग के लिए आते हैं, इस आशा के साथ कि वह यहां से खूब कमाई करेंगे। पहली बात कि उनके पास इतना कैपिटल नहीं होता कि वह बाजार के उतार-चढ़ाव को झेल सकें। छोटे मुनाफे में वह खुश हो जाते हैं तथा बड़ी हानि लेकर मार्केट से निकलते हैं जहां उनका कैपिटल समाप्ति की ओर बढ़ता जाता है। इसमें सबसे बड़ी बात यह होती है कि आपको प्रत्येक ट्रेडिंग पर लगभग ₹130 ब्रोकर चार्ज, टैक्स, सिक्योरिटी ट्रांजैक्शन आदि के रूप में भुगतान करना होता है यह छोटी छोटी रकम आपके मूलधन को कम करता रहता है।

Blogging kya hai

डिजिटल मार्केटिंग पूरी जानकारी

इंट्राडे का क्या फार्मूला है

इंट्राडे ट्रेडिंग अगर आप करने का मन बनाते हैं तो आपको निश्चित रूप से कुछ बातों को ध्यान में रखना चाहिए जैसे –

  • वैश्विक बाजार -वैश्विक बाजार में आए किसी भी घटनाक्रम से बाजार प्रभावित होता है। बाजार में भय का माहौल बनने लगता है जिससे निवेशक स्वयं को भयभीत महसूस करते हैं और पैसा निवेश करने से बचते हैं ऐसे में आपको वैश्विक बाजार में हो रहे शेयर के उतार-चढ़ाव की जानकारी होनी चाहिए।
  • देसी बाजार -आपके अपने शेयर मार्केट का हाल पता होना चाहिए। उसके भीतर किस प्रकार कि निवेशक अभी सक्रिय हैं मार्केट में उतार-चढ़ाव किस प्रकार से निरंतर गति में चल रही है बाजार जब सामान्य गति से कार्य करें तभी आपको इंट्राडे की ट्रेडिंग में शामिल होना चाहिए। क्योंकि तेजी से उतार-चढ़ाव आपके कॉन्फिडेंस को प्रभावित कर सकता है।
  • अंतरराष्ट्रीय तथा राष्ट्रीय घटना– इंट्राडे ट्रेडिंग में शामिल होने से पूर्व आपको राष्ट्रीय तथा अंतरराष्ट्रीय घटनाक्रम पर भी ध्यान रखना होगा ऐसी न्यूज़ शेयर मार्केट को प्रभावित करती है जो बड़ी कंपनी हस्ती या राष्ट्र से संबंधित हो।
  • कंपनी से जुड़ी जानकारी– जिस कंपनी में आप इंट्राडे ट्रेडिंग करना चाहते हैं उस कंपनी की जानकारी उसके निवेश कार्य करने की पद्धति आदि की जानकारी निरंतर अपने पास रखें।
  • शेयर के उतार-चढ़ाव का उचित ज्ञान– इंट्राडे ट्रेडिंग करने से पूर्व आपको अपने ट्रेडिंग कंपनी के शेयर किस प्रकार किस समय तथा किस परिस्थिति में उतार-चढ़ाव होता है कितने प्रतिशत में होता है आदि का पिछला ज्ञान होना भी आवश्यक है।
  • स्थिर शेयर तथा मार्केट से परहेज– जिस शेयर को आप खरीदना चाहते हैं वह शेयर ठीक प्रकार से उतार-चढ़ाव करता हो ऐसा अध्ययन करें। माना जाता है शेयर बहता नीर के समान होना चाहिए। यानी कि उसमें बहाव का होना आवश्यक है।  स्थिर मार्केट से आपका पैसा नहीं बनेगा, पैसा बनने के लिए मार्केट का उतार-चढ़ाव आवश्यक होता है।

इंट्राडे से कितना पैसा कमा सकते हैं

शेयर मार्केट में कितना कमाई कर सकते हैं यह कहा नहीं जा सकता क्योंकि यहां वही कमाई कर सकता है जिसे कई वर्षों का अनुभव हो। इंट्राडे भी ऐसी मार्केट है, जहां कमाई कितनी की जा सकती है कहा नहीं जा सकता। अगर आपके पास जानकारी, समझ, और अनुभव है तो आप अपने ज्ञान के अनुसार कमाई कर सकते हैं। वहीं ज्ञान के अभाव में आप अपने मूलधन को भी बचाकर नहीं रख सकते।

Telegram channel

Read More

SEO kya hai ? SEO in hindi की पूरी जानकारी एक जगह पर

Hosting konsi kharide ? Sasti hosting kese kharide

Jameen Se Paise Kaise Kamaye ( जमीन से पैसा कैसे कमाए )

Website kaise banaye in hindi

Online paise kaise kamaye – ऑनलाइन पैसा कमाने के 21 तरीके

Internet kya hai ? Internet ke fayde aur nuksan

How to register a company in India

Credit card in hindi | क्रेडिट कार्ड की पूरी जानकारी

निष्कर्ष

वर्तमान समय में शेयर मार्केट का क्रेज बहुत बढ़ता जा रहा है। कोरोना काल में जहाँ सभी लोग घरों में कैद थे सभी संस्थान बंद थे वही शेयर मार्किट अपने निश्चित समय से कार्य कर रहा था। वह अलग बात है यह तेजी से गिरावट की और था मगर यह भी नहीं भूलना चाहिए की फार्मा, IT सेक्टर की कम्पनी तेजी से कार्य कर रही थी। यह दौर वही हे जहाँ लोगो ने तेजी से गिरते मार्किट से करोड़ो रुपया कमाया था।

कहने का सार यह है कि देश-विदेश कि चाहे कैसी भी स्थिति रहे शेयर मार्केट अपने तय समय पर कार्य करता रहता है चाहे वह गिरने की ओर हो या ऊपर उठने की ओर यहां दोनों ही रूप से पैसे कमाए जाते हैं। इस मार्केट में कार्य करने के लिए जानकारी समाज तथा विशेषज्ञ होने की आवश्यकता है।

भारत उभरता हुआ देश है यहां की अर्थव्यवस्था दिन प्रतिदिन गुणात्मक रूप से वृद्धि कर रही है। आगामी कुछ सालों में भारत की अर्थव्यवस्था विकसित देशों से बेहतर हो सकती है। इसलिए विदेशी भी इस मार्केट की ओर आकर्षित होते हैं। उदाहरण के लिए अगर हम देखें तो विगत मार्केट के गिरने में भारत का शेयर बाजार काफी नुकसान में रहता था। मगर कोरोना काल जैसी विपदा में भी अपनी मार्केट स्थित रहे यह भारतीय निवेशकों की जागरूकता का ही परिणाम है।

आप भी अपने अर्थव्यवस्था में अपना योगदान सुनिश्चित कर सकते हैं अपने लिए लाभ कमा सकते हैं किंतु सोच समझ और जानकारी के साथ।

Sharing is caring

Leave a Comment