कॉलेज जानकारी

JEE advance जेईई एडवांस परीक्षा।how to prepare jee exam | iit इंजीनियरिंग

JEE advance जेईई एडवांस परीक्षा कुछ महत्वपूर्ण जानकारी

 

जेईई एडवांस परीक्षा के लिए कुछ महत्वपूर्ण बातें अवश्य जानने चाहिए –

देश के महत्वपूर्ण IIT और इंजीनियरिंग कॉलेजों अथवा यूनिवर्सिटी संस्थानों में दाखिले के लिए प्रतिवर्ष होने वाली जेईई की परीक्षा का आयोजन देश के विभिन्न बोर्ड करते हैं। इस परीक्षा में प्राप्त किए गए अंक को रैंकिंग के आधार पर विद्यार्थियों को प्राथमिकता दी जाती है। इसमें दिव्यांगता व सामाजिक जाति व्यवस्था के आधार पर आरक्षण भी लागू होता है। सभी वर्ग के लिए रैंकिंग का मार्क्स अलग-अलग का प्रावधान है। यह परीक्षा वर्ष में एक बार होती है। दिल्ली में इस परीक्षा का आयोजन CBSE करती है।  IIT में पहुंचने के लिए दावेदारी को मजबूत करने के लिए जेईई अथवा जेईई एडवांस में अपनी रैंकिंग श्रेष्ठ रखनी पड़ती है।

 

 

जेईई की परीक्षा मैं सफलता पाने के लिए निम्नलिखित बातों को अपना सकते हैं –

jee exam sucsses

1  मॉक टेस्ट –

मॉक टेस्ट एक ऐसा साधन है , जिसके माध्यम से आप परीक्षा का समय व उसके प्रारूप के अनुसार उस परीक्षा को अपने समय अनुसार कर सकते हैं। मॉक टेस्ट  बार-बार अभ्यास करने से आप उस परीक्षा के प्रारूप से अवगत हो जाएंगे  , उसकी कठिनाई उस परीक्षा में आए हुए प्रश्नों का स्तर अथवा उस परीक्षा के भय से आप उभर सकते हैं। अतः आपको चाहिए कि आप अभी से दिनभर उस परीक्षा को अपने अनुसार अपने अभ्यास में लें।  मॉक टेस्ट करते रहें जिससे कि आपको जेईई की परीक्षा का ज्ञान आसानी से हो सकेगा।

 

2  टेस्ट का समय वही है जो एडवांस एग्जाम का होता है –

आमतौर पर सभी परीक्षा का समय सुबह 9:00 से 12:00 अथवा 2:00 से 5:00 शाम का होता है। उसी प्रकार इस परीक्षा का भी समय इसी प्रकार का रहने वाला है। इसके लिए आप CBSE की वेबसाइट पर समय देख सकते हैं।  समय के प्रबंधन से  आपका दिमाग उस  समय के अनुसार अधिकतम क्षमता और काम करने का आदी हो जाएगा। यदि इस समय पर आप मॉक टेस्ट का अभ्यास करते रहें जितना समय उस परीक्षा में लगने वाला है।  आप उस परीक्षा में कितना समय किस विषय पर देना चाहते हैं , यह पहले से तय कर लें , जिससे कि आपको परीक्षा भवन में आसानी हो सकेगी।

जो प्रश्न कठिन वह समय बर्बाद कर रहा हो उसे छोड़ दें। उसको बाद में निपटाने की कोशिश करें , पहले वह प्रश्न को सुलझाएं जो आप आसानी से समझ रहे हो अथवा उसके कठिनाई स्तर को आप समझ रहे हो।

 

3  बिना एक टॉपिक को समझे अगले टॉपिक पर ना जाए –

जेईई परीक्षा में आने वाले टॉपिक को आप CBSE की वेबसाइट से अध्ययन करें और विगत वर्षों में आए हुए प्रश्नों का अध्ययन करें। इसमें आपको एक खास बात ध्यान रखनी होगी कि एक टॉपिक को बिना क्लियर किए हुए आप अगले टॉपिक को ना अध्ययन करें। जितना भी हो सके अपने अध्यापक अथवा अपने शुभेक्षु लोगों से उस कठिनाई के स्तर को समझें। उस टॉपिक को किस प्रकार से परीक्षा भवन में समझना वह उस प्रश्न को आसानी से हल करना है। यह सब का पूर्वावलोकन कर लें जिससे कि आपको परीक्षा भवन में आसानी हो और आपका समय भी बच सकें। इस माध्यम से आप अपने पिछले टेस्ट में किए हुए गलतियों को पहचान सकेंगे और उसे सुधार सकेंगे।

टॉपिक का रिवीजन करना यह आप अपने समय के अनुसार कर सकते हैं अपने अध्यापक का सहारा भी ले सकते हैं।

4  दिन भर में कितना करें –

रिवीजन / अध्ययन जैसा की आपको पता होगा कि जेईई jee exam की परीक्षा वर्ष भर में एक बार होती है। इंजीनियरिंग अथवा IIT कॉलेज में दाखिला लेने वाले विद्यार्थी इस बात को भली भांति जानते हैं कि यह परीक्षा उनके लिए कितना महत्वपूर्ण है। इसलिए आप 12वीं की परीक्षा देने से पूर्व इस परीक्षा की तैयारी आरंभ कर दें। 12वीं के परीक्षा पूर्ण होने के बाद नियमित रूप से दिन भर में कम से कम चार से पांच बार पेपर को मॉक टेस्ट के माध्यम से हल करें , जिससे कि आप परीक्षा में आए हुए प्रश्नों से अवगत हो पाएंगे , उसके कठिनाई स्तर को जान पाएंगे , समस्या निदान का रास्ता भी आप समझ पाएंगे , कितना समय किस टॉपिक में इस प्रश्न पर देना है उन सब का प्रारूप समझ पाएंगे , इसलिए आपको चाहिए कि दिन भर में जितना भी हो सके उतना मॉक टेस्ट किया जाए। कम से कम चार से पांच बार तो जरूर ही मॉक टेस्ट का अभ्यास करें।

 

 

5  परीक्षा में आने वाले टॉपिक को मजबूत बनाएं –

जैसा कि आपको पता है कि जेईई के परीक्षा में अमूमन 10वीं 11वीं अथवा 12 वीं  का ही सिलेबस रहता है। जितना भी हो सके आप अपने पूर्व सिलेबस को अध्ययन करें और जिस पक्ष में अथवा टॉपिक में आप की पकड़ है उसको और मजबूती प्रदान करें। इसके लिए आपको निरंतर अभ्यास की जरूरत है। कमजोर टॉपिक पर आप फोकस करें और अपने अध्यापक वह मित्रों से मंत्रणा कर उसकी सरलता को समझने की कोशिश करें। इस प्रकार आप परीक्षा भवन में अपने कमजोर पक्ष के टॉपिक को आसानी से कर सकने में समर्थ हो पाएंगे।

 

 

6  उत्साह –

परीक्षा में सफलता पाने के लिए एक महत्वपूर्ण विषय है उत्साह।  आप मानसिक रूप से स्वस्थ रहें अपने प्रयत्न व अभ्यासों से संतुष्ट रहें और परीक्षा में सफलता की पूर्ण विश्वास को बनाए रखें। यह विश्वास आपके सफलता का मूलमंत्र है। यह विश्वास ही आपको किसी भी परीक्षा में सफलता दिला सकती है। मनोवैज्ञानिकों की मानें तो उत्साह मंजिल तक पहुंचने के लिए प्रेरक का काम करती है।

 

परीक्षा भवन में जाने से पूर्व

अपने साथ कुछ मुख्य दस्तावेज रखना चाहिए जैसे

  • एडमिट कार्ड की दो फोटो कॉपी।
  • फोटो मूल रूप से चार से पांच
  • पेस्ट करने के लिए ग्लू
  • स्टेप्लर
  • बॉल पेन काला अथवा नीला
  • एक पेंसिल
  • लॉगिन ID अथवा पासवर्ड को ध्यान करले
  • एडमिट कार्ड पर लिखे गए निर्देश को सावधानी से पढ़ ले और उसमें दिए गए निर्देशों का पालन करें।

दिल्ली विश्वविद्यालय में एडमिशन प्रोसेस 

du best four option 

du best  top 10 college in north campus 

 

 

 

दोस्तों हम पूरी मेहनत करते हैं आप तक अच्छा कंटेंट लाने की | आप हमे बस सपोर्ट करते रहे और हो सके तो हमारे फेसबुक पेज को like करें ताकि आपको और ज्ञानवर्धक चीज़ें मिल सकें |

अगर आपको ये पोस्ट अच्छा लगा हो तो इसको ज्यादा से ज्यादा लोगों तक पहुचाएं  |

व्हाट्सप्प और फेसबुक के माध्यम से शेयर करें |

और हमारा एंड्राइड एप्प भी डाउनलोड जरूर करें

कृपया अपने सुझावों को लिखिए हम आपके मार्गदर्शन के अभिलाषी है 

facebook page hindi vibhag

YouTUBE

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *