कालवाचक क्रिया विशेषण की परिभाषा, पहचान और उदाहरण

प्रस्तुत लेख में क्रिया विशेषण के चार भेद में से एक कालवाचक क्रिया विशेषण की परिभाषा, पहचान और उदाहरण का विस्तृत रूप से अध्ययन करेंगे। इस लेख को तैयार करने वाले विद्यार्थियों के कठिनाई स्तर को ध्यान में रखा है।

इस लेख के अध्ययन से आप अपने परीक्षा की तैयारी कर सकते हैं। इसे विद्यालय तथा प्रतियोगी परीक्षाओं के लिए विशेष रूप से अध्ययन किया जा सकता है।

कालवाचक क्रिया विशेषण किसे कहते हैं

परिभाषा:- जिन क्रिया शब्दों से किसी कार्य के संपन्न होने का समय ज्ञात होता है उसे कालवाचक क्रिया विशेषण कहते हैं।

इसमें निम्नलिखित प्रमुख शब्दों का प्रयोग किया जाता है:-

घड़ी-घड़ी, अब, तब, हमेशा, सदा, निरंतर, कल, परसो, वर्षों, यदा, कदा, जब, कई बार, अभी, बाद में, पूर्व, निरंतर, फिर, कभी, पीछे, तभी, तत्काल, जैसे प्रमुख शब्दों का प्रयोग होता है जिससे समय का ज्ञान होता है।

पहचान:- कालवाचक क्रिया विशेषण की पहचान करना सबसे सरल है। किसी भी वाक्य में आपको भूतकाल, भविष्य काल अथवा वर्तमान काल में प्रयोग होने वाले शब्दों का इस्तेमाल होता हुआ दिखे तो आप वहां समझ सकते हैं कि इस क्रिया विशेषण का प्रयोग हुआ है। दूसरी पहचान यह है कि अगर आपको किसी कार्य के होने समय का ज्ञात हो तब भी इसी क्रियाविशेषण का प्रयोग होता है।

कालवाचक क्रिया विशेषण उदाहरण

1. कल मैं मित्र के जन्मदिन उत्सव में गया था।

2. मेरी दसवीं की परीक्षा परसों से आरंभ होगी।

3. कुछ पैसों की आवश्यकता थी वह तत्काल प्राप्त हो गया।

4. किसी भी कार्य को शीघ्रता से समाप्त करना चाहिए।

5. कार्य करने से पूर्व सोच विचार करना चाहिए।

6. मित्र ऐसे बनाओ जो हमेशा साथ दें।

7. सोचो विचारों तत्पश्चात कार्य करो।

8. कुछ लोग घड़ी घड़ी अपना रोना रोते रहते हैं।

9. ऐसे कार्य से क्या लाभ जो पीछे पछताना पड़े।

10. पिताजी निरंतर समझाते थे किंतु समझ नहीं पाया।

11. मुझे हमेशा यह सबक याद रहेगा।

12. तुम जब भी पुकारो हम साथ रहेंगे।

Telegram channel

13. अध्यापक ने इस पाठ को कई बार पढ़ाया तब जाकर समझ में आ सका।

14. कल मैं हरिद्वार घूमने जाऊंगा।

15. परसों बहुत बारिश हो रही थी।

यह भी पढ़ें

हिंदी व्याकरण की संपूर्ण जानकारी

हिंदी बारहखड़ी की पूरी जानकारी

अलंकार की परिभाषा, भेद और उदाहरण

संज्ञा की विस्तार से जानकारी 

रस की परिभाषा, प्रकार ,भेद ,उदहारण

सर्वनाम और उसके भेद एवं उदाहरण

विशेषण की परिभाषा, भेद और उदाहरण

अव्यय

संधि विच्छेद की संपूर्ण जानकारी उदाहरण सहित 

समास का संपूर्ण ज्ञान उदाहरण सहित 

क्रिया विषय पर संपूर्ण जानकारी

पद परिचय क्या होता है तथा इसके भेद और उदाहरण

स्वर और व्यंजन की परिभाषा और उदाहरण

संपूर्ण पर्यायवाची शब्द का विशाल संग्रह

हिंदी मुहावरे अर्थ एवं उदाहरण सहित का विशाल संग्रह

लोकोक्तियाँ का विशाल संग्रह

वचन की पूरी जानकारी

विलोम शब्द का विशाल संग्रह

वर्ण किसे कहते है तथा इसका उपयोग

हिंदी वर्णमाला की पूरी जानकारी

हिंदी काव्य और साहित्य का परिचय।

शब्द शक्ति का संपूर्ण ज्ञान

छन्द विवेचन की संपूर्ण जानकारी विस्तार मैं

हिंदी अल्फाबेट का पूरा ज्ञान

हिंदी व्याकरण , छंद ,बिम्ब ,प्रतीक का पूरा ज्ञान

अभिव्यक्ति और माध्यम की पूरी जानकारी

शब्द और पद में अंतर

अक्षर की विशेषता

भाषा स्वरूप तथा प्रकार

बलाघात के प्रकार उदहारण परिभाषा आदि

लिपि हिंदी व्याकरण

भाषा लिपि और व्याकरण का संपूर्ण ज्ञान

शब्द किसे कहते हैं तथा इसकी पूरी जानकारी

क्रिया विशेषण की परिभाषा, भेद और उदाहरण

 

निष्कर्ष

उपरोक्त अध्ययन से स्पष्ट होता है कि जो शब्द क्रिया के समय का ज्ञान कराते हैं उन्हें हम कालवाचक क्रिया विशेषण कहते हैं। इसका अध्ययन क्रिया विशेषण के अंतर्गत किया जाता है। इसकी पहचान सबसे सरल है क्योंकि इसमें आपको किसी भी वाक्य में यह पता करना होता है कि उसमें भूतकाल भविष्य काल तथा वर्तमान काल में प्रयोग होने वाले शब्दों का उपयोग हुआ है या नहीं, अगर हुआ है तो कालवाचक है नहीं तो कोई दूसरा क्रियाविशेषण है।

हमने बहुत सारे उदाहरण इस लेख में लिखे हैं अगर आपको और उदाहरण चाहिए तो आप हमें बता सकते हैं। आशा है उपरोक्त उदाहरण तथा परिभाषा के माध्यम से आपको समझ आया हो। संबंधित विषय से प्रश्न पूछने के लिए कमेंट बॉक्स में लिखें।

Sharing is caring

Leave a Comment