विद्यार्थियों के लिए प्रेरणादायक कहानियां Motivational Story For Students

व्यक्ति के जीवन में प्रेरणा/मोटिवेशन की सदैव आवश्यकता होती है। समय-समय पर अगर व्यक्ति प्रेरणा प्राप्त करें और अपने लक्ष्य को सदैव ध्यान में रखें तो उसके लिए कोई भी कार्य दुष्कर नहीं होता वह उन सभी कार्यों को सुगमता से पूरा कर लेता है अपने लक्ष्य को प्राप्त कर लेता है जिसे वह चाहता है। इसी उद्देश्य से कि आप भी अपने लक्ष्यों को प्राप्त करें इसी प्रमुख लक्ष्य के साथ हम यह प्रेरणात्मक कहानी लिख रहे हैं, जो आपके जीवन में सकारात्मक प्रभाव डाल सकेगा।

राजा का पुरुषार्थ एक कहानी

हरनंदी राज्य के राजा हरि सिंह एक नेक दिल और सच्चे विचारों वाले व्यक्तित्व के धनी व्यक्ति थे। वह अपनी प्रजा के सुख-सुविधाओं का विशेष ध्यान रखा करते थे। उनका मानना था कि हरनंदी राज्य में कोई भी व्यक्ति दुखी, पीड़ित और बेरोजगार न रहे। इसके लिए उन्होंने सभी व्यक्तियों के योग्य रोजगार की व्यवस्था की हुई थी। कोई भी व्यक्ति अपनी योग्यता के अनुसार राज-दरबार से रोजगार प्राप्त कर सकता था।

Hindi stories for class 1, 2 and 3

Moral Hindi stories for class 4

Hindi stories for class 8

Hindi stories for class 9

महाराज हरि सिंह ने गरीबों और जरूरतमंदों के लिए अपने राजकोष खोले हुए थे। कोई भी जरूरतमंद और गरीब व्यक्ति किसी भी समय राजकोष से सहायता प्राप्त कर सकता था। हरि सिंह के राज्य में सब कुछ सामान्य चल रहा था, किंतु महामंत्री को महाराज के व्यवस्था को देखकर चिंता होती थी, कि कोई भी व्यक्ति राजकोष तक आसानी से पहुंच जाता है और यहां से धन ले जाता है।

किंतु महामंत्री अपने राजा से उनके निर्णय पर सवाल नहीं उठा सकता था, इसलिए उसने बड़े ही सोच विचार कर एक युक्ति निकाली और राजकोष की दीवार पर मोटे अक्षरों में लिख दिया – ” आपातकाल के लिए राजकोष में धन होना चाहिए, जो आपातकाल की स्थिति में सहायक होती है। ”

अगले दिन महाराज हरि सिंह जब राजकोष की दीवारों पर लिखे हुए अक्षरों को पढ़ते हैं तो वह समझ जाते हैं कि यह उनके महामंत्री द्वारा लिखा गया है। महाराजा ने कुछ नहीं कहा और उस लाइन के नीचे अपने कुछ लाइन जोड़ दिए जो इस प्रकार थे – ” भाग्यशाली व्यक्ति को आपातकाल और आपत्ति कहां गिरती है।”

अगले दिन उनके महामंत्री ने राजा द्वारा दिए गए उत्तर को पढ़ा और उसके नीचे एक लाइन और जोड़ दी – ” भाग्य का लेख कोई नहीं जानता। ”

महाराज ने अपने महामंत्री द्वारा लिखे गए लाइन को पुनः पड़ा और एक शब्द उसके नीचे और जोड़ दिया – ” भाग्यशाली व्यक्ति और पुरुषार्थ के समक्ष कोई भी विपत्ति नहीं टिकती और अगर किसी प्रकार की आपातकालीन स्थिति उत्पन्न होती है तो हम प्रचंड पुरुषार्थ से उसका सामना करेंगे। ”

Guru ki Mahima Hindi story – गुरु की महिमा

ऐसा देख महामंत्री क्यों समझ में आ गया और उसने स्वयं पर गर्व अनुभव किया कि वह एक सच्चे पुरुषार्थ और भाग्यशाली  राजा के साथ कार्य कर रहा है। यह वाक्या में उसे अपार खुशी दे रही है, उसके जैसा कोई भी भाग्यशाली नहीं है जो ऐसे राजा के साथ काम कर रहा है।

motivational story in hindi for students
motivational story in hindi for students

महात्मा के शब्दों का चमत्कार

रामप्रसाद बड़े ही धार्मिक और मिलनसार व्यक्ति थे, वह धर्म के कार्यों में रुचि लिया करते थे जिसके कारण वह निरंतर सत्संग में जाते थे।  रामप्रसाद को इन सब कार्यों में सुखद अनुभूति होती थी इसलिए उनके चेहरे पर सदैव चमक रहती थी।

कुछ समय से रामप्रसाद के चेहरे से वह चमक गायब थी जो दैनिक रहा करती थी। कथा वाचन करने वाले महाराज कुछ दिनों से रामप्रसाद के चेहरे से चमक गायब देखकर रामप्रसाद से पूछ पड़े-  ‘आखिर क्या समस्या है जिसके कारण तुम विचलित हो ? रामप्रसाद ने कहा मेरे समस्या का कारण बहु है जिसके कारण घर में अशांति का वातावरण है, बात-बात पर मनमुटाव और झगड़े की नौबत आ जाती है जिसके कारण मैं ही नहीं पूरा परिवार चिंतित और परेशान है।

7 Hindi short stories with moral for kids

Hindi Panchatantra stories पंचतंत्र की कहानिया

महाराज ने बहू को कथा सुनने का निमंत्रण भिजवाया। बहु महाराज के विषय में परिचित थी वहां पहुंचते बहु ने शांति और स्थिर मन से कथा श्रवण किया, उसके उपरांत महाराज जी के समक्ष बैठक हुई महाराज ने बताया इस संसार में स्त्री का चार रूप होता है, बधिकसमा, चोरसमा, मात्रीसमा और भगिनीसमा इनमें से आप कौन से हैं ?

Telegram channel

बहु ने कहा महाराज आप क्या कह रहे हैं ? मुझे समझ नहीं आ रहा, कृपया स्पष्ट कहने का कष्ट करें। महाराज ने बहु को बताया शास्त्रों के अनुसार स्त्री का चार रूप होता है, जो स्त्री हमेशा क्रोध करती है, पति का अपमान करती है उसे शास्त्रों में बधिकसमा कहा गया है। जो संपत्ति का दुरुपयोग करती है उसे उपयोग के अतिरिक्त दुरुपयोग करती है, उसे चोरसमा कहा गया है। जो स्त्री परिवार के अन्य सदस्यों के साथ सद्भाव-सौहार्द का व्यवहार करती है उसे मात्रसमा कहा जाता है। जो स्त्री प्रिय भाई के समान व्यवहार करती है वह भगिनीसमा होती है। यह सब उपदेश सुनकर बहू लज्जा से झुक गई।

Motivational Kahani

बहू को इन सब बातों का मतलब समझ में आ गया था इसलिए उसकी आंखें नम थी। बहु ने हाथ जोड़कर महाराज से क्षमा याचना की और वचन दिया कि वह भविष्य में मात्री समा व्यवहार करेगी और किसी को भी कष्ट नहीं देगी।

संबंधित लेख का भी अध्ययन करें

Maha purush ki Kahani

Gautam Budh ki Kahani

Tenali Rama stories in Hindi

स्वामी विवेकानंद जी की कहानियां

गुरु नानक देव जी की प्रसिद्ध कहानियां

भगवान महावीर की कहानियां

5 भगवान कृष्ण की कहानियां

महात्मा गाँधी की कहानियां

संत तिरुवल्लुवर की कहानी

Akbar Birbal Stories in Hindi with moral

9 Motivational story in Hindi for students

3 Best Story In Hindi For kids With Moral Values

5 मछली की कहानी नैतिक शिक्षा के साथ

5 Famous Kahaniya In Hindi With Morals

3 majedar bhoot ki Kahani Hindi mai

Bedtime stories in hindi

जादुई नगरी का रहस्य – Jadui Kahani

Hindi funny story for everyone haasya Kahani

Subhash chandra bose story in hindi

17 Hindi Stories for kids with morals

Sikandar ki Kahani Hindi mai

जातक कथा

Dahej pratha Hindi Kahani

Jitiya vrat Katha in Hindi – जितिया व्रत कथा हिंदी में

देश प्रेम की कहानी 

दिवाली से जुड़ी लोक कथा | Story related to Diwali in Hindi

राजा भोज की कहानी

Prem kahani in hindi – प्रेम कहानिया हिंदी में

Love stories in hindi प्रेम की पहली निशानी

Prem katha love story in Hindi

कोरोना वायरस पर हिंदी कहानियां

Child story in hindi with easy to understand moral value

manavta ki kahani मानवता पर आधारित कहानिया

निष्कर्ष

प्रेरणादायक कहानियां सकारात्मक विचारों को जन्म देती है। यह लक्ष्य पर ध्यान केंद्रित करने का सबसे सरल और सुगम मार्ग है, बशर्ते आप सकारात्मक विचार के हो, सहृदय हो। उपरोक्त प्रेरणादायक कहानियां हमने इसी उद्देश्य से लिखा है ताकि आप इन कहानियों के माध्यम से उस में छुपे हुए रहस्य को पहचान सके और अपने जीवन में सकारात्मक विचार रखते हुए कार्य कर सकें। कोई भी सकारात्मक विचार के साथ किया गया कार्य अधूरा नहीं रहता, उसका उद्देश्य अवश्य पूर्ण होता है। आशा हे आपको उपरोक्त कहानियां पसंद आई हो, अपने सुझाव और विचार हमें कमेंट बॉक्स में लिखें हमें आपके सुझाव की सदैव प्रतीक्षा रहती है।

Sharing is caring

Leave a Comment