501 हिंदी मुहावरे अर्थ एवं उदाहरण सहित

आज के इस लेख में हम पांच सौ से भी ज्यादा हिंदी मुहावरे अर्थ एवं उदाहरण सहित पढ़ने जा रहे हैं। परीक्षा की दृष्टि से एक विद्यार्थी के लिए यह लेख बहुत उपयोगी साबित हो सकता है।

मुहावरे हिंदी व्याकरण का एक विषय है, जिसमें पूरा वाक्य लक्षण के आधार पर प्रयुक्त किया जाता है।

परिभषा:- शब्दों तथा पद का वह समूह जो लक्षण के आधार पर मिलते जुलते अर्थ प्रतीत कराता हो उसे मुहावरा कहते हैं। इसके अंतर्गत शब्दार्थ नहीं बल्कि वाच्यार्थ का महत्व होता है।

‘अ’ से प्रमुख मुहावरे

1 अगर मगर करना – टाल-मटोल करना

रमेश को बाजार से दवाई लाने को कही लेकिन वह रोज टाल मटोल करता रहता है।

2 अक्ल पर पत्थर पड़ना – मूर्खतापूर्ण व्यवहार करना

सलीम को कितना भी समझाओ उसे समझ ही नहीं आता, जैसे उसकी अक्ल पर पत्थर पड़ा हो।

3 अंधे की लाठी – सहारा होना

श्रवण कुमार अपने माता-पिता की इकलौती लाठी था।

4 अपना राग अलापना – अपनी ही बात को बार-बार दोहराना

बच्चे बाजार घूमने जाते हैं तो वह अपना ही राग अलापते हैं, उन्हें किसी और चीज से मतलब नहीं होता।

5 अंग-अंग ढीला होना – काफी थक जाना

शहर से आया लड़का खेत में ऐसा काम किया कि उसका अंग अंग ढीला हो गया।

6 अंगारे उगलना – क्रोधित होना

शिव का धनुष तोड़ने पर परशुराम की वाणी अंगारे उगलना लगी।

7 अपना उल्लू सीधा करना – अपना काम निकालना

अमेरिका पूरे विश्व में हथियार सप्लाई कर अपना काम निकालता है।

8 अंधेरे घर का उजाला – इकलौता पुत्र

बुड्ढे-बुढ़िया ने अपने उत्तराधिकार के लिए चिंता ही छोड़ दी थी, फिर उसे एक पुत्र की प्राप्ति हुई जो उसके अंधेरे घर का उजाला बना।

9 अक्ल का दुश्मन – मूर्ख

अनपढ़ आदमी को समझाना मुश्किल है, क्योंकि वह अक्ल का दुश्मन होते हैं।

10 अपनी खिचड़ी अलग पकाना – समूह में रहते हुए अलग कार्य करना

पूरी दुनिया आपसी संबंधों को मजबूत करने के लिए कार्य कर रही है, वही उत्तर कोरिया अपनी खिचड़ी अलग पकाता है। वह किसी की बात मानता ही नहीं।

11 अंगूठा दिखाना – साफ-साफ मना करना

हामिद से परीक्षा में सहायता मांगी किंतु उसने अंगूठा दिखा दिया।

12 अपने मुंह मियां मिट्ठू – स्वयं की प्रशंसा करना

हलवाई ने ऐसा खाना बनाया कि वह स्वयं अपनी प्रशंसा करता रहा किंतु लोगों को पसंद नहीं आया।

13 अंत पाना – भेद जानना

गुरु के ज्ञान का अंत पाना बेहद दुष्कर है।

14 अपना सा मुंह लेकर रह जाना – लज्जित होना

पुलिस ने चोर को रंगे हाथ पकड़ लिया तो वह अपना सा मुंह लेकर रह गया।

15 अपने पैरों पर खड़ा होना – आत्मनिर्भर होना

विदेश की शिक्षा ऐसी है कि वहां सभी विद्यार्थी अपने पैरों पर खड़े हो जाते हैं।

16 अंगारों से खेलना – खतरा मोल लेना

यह जानते हुए कि आंधी खूब तेज चल रही है, वह फिर भी बाजार गया।

17 उंगली पर नचाना – अपने वश में करना

चीन आसपास के छोटे देशों को अपने वश में करके उंगलियों पर नचाता है।

‘आ’ से प्रमुख मुहावरे

1 आंखें चार होना – प्रेम होना

नायक-नायिका पुष्प वाटिका में गए जहां उनकी आंखें चार हुई।

2 आटे दाल का भाव मालूम होना – जीवन की हकीकत को जानना

सलीम घर से झगड़ा कर कमाने निकला तो उसे आटे दाल का भाव मालूम हुआ।

3 आंखों में धूल झोंकना – धोखा देना

चोर चोरी का सामान लेकर पुलिस की आंखों में धूल झोंक कर भाग गया।

4 आग में घी डालना – क्रोध को भड़काना

दो आदमी छोटी-मोटी बात पर लड़ रहे थे। तीसरा उनकी पुरानी बातों को याद दिला कर गुस्से को भड़का रहा था।

5 आंखों से गिरना – अपना सम्मान खोना

जिस नेपाल को भारत दिल में बिठाया करता था। चाइना के साथ मिलकर षड्यंत्र करने से वह आंखों से गिर गया।

6 आंखें चुराना – छुप-छुपा कर रहना

अमीरों पर जब गरीबी के बादल छाते हैं तो वह लोगों से आंखें चुराए फिरते हैं

7 आज ना आने देना – संकट से बचाना

राम ने अपने भाई लक्ष्मण पर कभी आंच नहीं आने दिया।

8 आंखें दिखाना – गुस्सा करना

बच्चों की शरारत पर पिता उन्हें आंख दिखाते हैं।

9 आंसू पीकर रह जाना – दुख को अकेले सहना

मां-पिता की मृत्यु पर जब कोई हालचाल पूछने नहीं आया,तो रमेश आंसू पीकर रह गया।

10 आसमान सिर पर उठाना – शोर मचाना

बच्चे की जिद पूरी नहीं होने पर वह रो-रो कर आसमान सिर पर उठा लेते हैं।

11 आंखों में रात काटना – रात भर जागकर बिताना

कृष्ण के विरह में राधा, रात आंखों में काटकर बिताती रही।

12 आकाश पाताल एक करना – कठिन परिश्रम करना

दसवीं की परीक्षा पास करने के लिए विद्यार्थियों ने आकाश पाताल एक कर दिया।

13 आकाश के तारे तोड़ना – असंभव कार्य करके दिखाना

एक सब्जी बेचने वाले व्यक्ति के बेटे ने, आई.ए.एस की परीक्षा सफलतापूर्वक सर्वाधिक अंक से उत्तीर्ण की।

14 आस्तीन का सांप होना – साथी बनकर धोखा देना

ऐसे लोग आस्तीन का सांप है जो साथ रहकर धोखा देते हैं।

15 आंखें फेरना – बदल जाना

आवश्यकता के समय सभी आंख फेर लेते हैं।

16 आंखें पथरा जाना – रास्ता देखते-देखते थक जाना

सबरी, राम की प्रतीक्षा में बैठी वर्षों इंतजार करती रही, जिससे उसकी आंखें पथरा गई।

17 आपे से बाहर होना – स्वयं पर वश ना होना

कमजोर लोग, ताकतवर लोगों से लड़ते हुए आपे से बाहर हो जाते हैं।

18 आकाश पाताल का अंतर – वास्तविकता से सामना

बिना मेहनत के अमीर बनने वाले लोगों को आकाश-पाताल का अंतर मालूम हो जाता है।

19 आंखों में खटकना – अच्छा नहीं लगना

एक व्यक्ति की अपार सफलता उनके पड़ोसियों के आंखों में खटकती है।

20 आकाश से बातें करना – बहुत ऊंचा उठना

मोहन ने अपनी मेहनत से वह मुकाम हासिल किया जिस पर पहुंचकर वह आकाश से बातें करने लगा।

21 आंखें बिछाना – स्वागत की प्रतीक्षा करना

बच्चे जब नानी घर से लौटते हैं तो मां उनके इंतजार में आंखें बिछाए रहती है।

22 आंखों का तारा – बहुत प्यारा होना

राम अपने माता पिता के आंखों के तारे थे।

23 आगे पीछे करना – चापलूसी करना

समीर अपने बॉस के आगे-पीछे स्वार्थ के लिए घूमता रहता।

24 आग बबूला होना – क्रोधित होना

शिव का धनुष टूटते ही, परशुराम आग बबूला हो गए।

25 आसमान पर चढ़ाना – हद से ज्यादा स्वतंत्रता देना

मां-बाप का ज्यादा प्यार बच्चों को आसमान पर चढ़ा देता है।

‘इ’, ‘ई’ से प्रमुख मुहावरे

1 इधर कुआं उधर खाई – दोनों और संकट होना

पैसों की तंगी के समय कोई रास्ता नहीं सूझता, चारों और उसे कुआं और खाई नजर आता है।

2 ईट से ईट बजा देना – अच्छे से बदला लेना

पाकिस्तान के निरंतर हमले का जवाब देते हुए, भारतीय सेना ने उनके ईट से ईट बजा दिया।

3 इधर के कर्म उधर के फल – मेहनत के अनुसार उसका फल मिलना

जो व्यक्ति जैसा कर्म करता है, उसे मृत्यु के बाद वैसा ही फल मिलता है।

4 इधर-उधर हांकना – व्यर्थ बोलना

मालिक ने अपने नौकरों से समय पर कार्य न करने का कारण पूछा तो वह इधर-उधर हांकने लगे।

5 ईद का चांद होना – बहुत दिनों बाद दिखाई देना

मोहसिन उधार के रुपए लेकर ईद का चांद हो गया।

6 ईश्वर का प्यारा होना – मर जाना

कोरोना काल में कितने ही मां के लाल ईश्वर के प्यारे हो गए

‘उ’ के प्रमुख मुहावरे

1 उल्टी गंगा बहाना – नियम के विरुद्ध कार्य करना

गरीबों को भोजन बांटने के बजाए, साइकिल बांटी जा रही है।

2 उंगली उठाना – दोष लगाना

मोहन अपने कार्यालय में इतना शरीफ है कि कोई उस पर उंगली नहीं उठा सकता।

3 उन्नीस-बीस होना – कुछ अंतर होना

राम और श्याम की शारीरिक ऊंचाई कुछ उन्नीस-बीस है।

4 उड़ती चिड़िया के पर गिनना – कुशाग्र होना

भारतीय जांबाज इतने कुशल हैं कि वह उड़ती चिड़िया के पर गिन लेते हैं।

5 उल्टी-सीधी सुनाना – भला बुरा कहना

सोहन, रोशन की लड़ाई में, सोहन की मां ने रोशन को उल्टी-सीधी सुना दी।

6 ऊंट किस करवट बैठता नहीं – अनिश्चित होना

कार्य मेहनत से करने पर भी सफलता अनिश्चित रहती है।

7 ऊंट की चाल चलना – टेढ़ा-मेढ़ा चलना

चाणक्य की बुद्धि इतनी कुशाग्र थी कि वह कभी-कभी ऊंट की चाल चला करते थे।

‘ए’ से प्रमुख मुहावरे

1 एक लाठी से सबको हांकना – अच्छे बुरे का भेद ना जानना

कम पढ़े-लिखे लोग सबको एक लाठी से हां का करते हैं।

2 एड़ी चोटी का जोर लगाना – कठिन परिश्रम करना

संदीप ने भारतीय सेना में शामिल होने के लिए एड़ी चोटी का जोर लगाया।

3 एक आंख से देखना – समान दृष्टि रखना

योग्यता का चयन करते समय सदैव एक आंख से देखना चाहिए।

4 एन-तेन करना – होशियार बनना

कबाड़ी को कितना ही ईमानदारी बरतने के लिए कहो वह एन-तेन करने लगता है।

‘क’ से प्रमुख मुहावरे

1 कान भरना – चुगली करना

अच्छे लोगों की चुगली सदैव कामचोर लोग किया करते हैं।

2 कठपुतली होना – इशारे पर कार्य करना

नौकर सदैव अपने मालिकों की कठपुतली बने रहते हैं।

3 कान में तेल डालना – बात अनसुनी करना

शहर में इतनी चोरियां हो रही है कि पुलिस कान में तेल डाल कर बैठी रहती है।

4 कमर कसना – तैयार रहना

विद्यार्थी अपने वार्षिक परीक्षा के लिए कमर कसकर तैयार रहते हैं।

5 काम तमाम करना – समाप्त करना

सेना ने आतंकवादियों का काम तमाम कर दिया।

6 कोल्हू का बैल होना – सारा दिन कठिन परिश्रम करना

दिहाड़ी मजदूरों की स्थिति कोल्हू के बैल सी हो गई है, जो सारा दिन कठिन परिश्रम करते रहते हैं।

7 कान पर जूं न रेंगना – कुछ असर ना होना

नेताओं से सड़क बनवाने के लिए लाखों बैठक की, परंतु नेताओं के कान पर जूं नहीं रेंगता।

8 कमर टूटना – बोझ पड़ना

महंगाई इतनी बढ़ती जा रही है कि, आम आदमी की कमर टूट रही है।

9 कंगाली में आटा गीला – गरीबी में नुकसान होना

घर में पैसे की तंगहाली होने पर बड़े-बड़े त्यौहार का अचानक आ जाना।

10 कटे पर नमक छिड़कना – घाव को कुरेदना

गाड़ी चोरी होने का दर्द अभी गया नहीं कि, पड़ोसी बार-बार ताने मार कर कटे पर नमक छिड़कते है

11 कान का कच्चा होना – थोड़ी सी अफवाह पर बड़ा विश्वास करना

आज की जनता इतनी कान की कच्ची है कि, थोड़ी सी अफवाह फैलते हैं जमाखोरी शुरू कर देती है।

12 कलई खुलना – भेद उजागर होना

पुलिस ने एक व्यक्ति को चोरी करते पकड़ा, जांच में उसकी कलई खुल गई।

13 कलेजा मुंह को आना – मन विचलित होना

सड़क पर अचानक दुर्घटना देखकर कलेजा मुंह को आ गया।

14 कफन सिर पर बांधना – मरने से न डरना

मुगलों के आक्रमण से भारत के युद्ध वीरों ने सिर पर कफन बांध कर कम संख्या में भी उनका सामना किया।

15 कलेजा ठंडा होना – संतोष होना

पापियों का कलेजा निर्दोष लोगों के असहनीय दुख में ठंडा होता है।

16 कांटे बिछाना – मार्ग अवरुद्ध करना

सफलता की राह में लोग कांटे बिछाते रहेंगे।

17 कायापलट होना – बदल जाना

एक अधर्मी व्यक्ति का भी ज्ञानियों से मिलकर कायापलट हो जाता है

‘ख’ से प्रमुख मुहावरे

1 खयाली पुलाव बनाना – कोरी कल्पना करना

कम पढ़े लिखे लोग सदैव बैठकर ख्याली पुलाव बनाते रहते हैं।

2 खून खोलना – क्रोधित होना

आतंकवादियों के अमानवीय व्यवहार को देखकर साधारण व्यक्ति का भी खून खोलता है।

3 खाक छानना – भटकना

सुरेश ने सफलता प्राप्त करने के लिए खूब खाख छाना है।

4 खून पसीना एक करना – अत्यधिक मेहनत करना

किसान अपने फसल को उगाने के लिए खून पसीना एक कर देता है। तब जाकर लोगों को खाने के लिए अन्न मिल पाता है।

5 खाला जी का घर – जिस घर में मनमानी पूरी हो

ऑफिस का कार्य इतना कठिन होता है कि, खाला का घर समझने वाले तुरंत भाग खड़े होते हैं।

6 खरी खोटी कहना – भला बुरा कहना

मरीज की लापरवाही देखकर डॉक्टर ने उसे खरी-खोटी सुना दी।

7 खाक में मिल जाना – नष्ट होना

मनुष्य का जीवन नश्वर है एक दिन सभी खाक में मिल जाते हैं

8 खून के घूंट पीना – तीव्र क्रोध पर नियंत्रण पाना

महिलाओं के साथ हो रही बर्बरता को देखकर, एक आम आदमी खून का घूंट पीकर रह जाता है।

9 खून का प्यासा होना – भयंकर शत्रु होना

जमीन के विवाद को लेकर दोनों भाई एक-दूसरे के खून के प्यासे हो गए।

10 खाने का ठिकाना नहीं सारा जहां अपना है – बड़ी-बड़ी बातें करना

शुद्ध से जिस व्यक्ति के पास दो वक्त की रोटी नहीं हो पाती वह ऐसे बात करता है जैसे कहीं का बादशाह हो।

‘ग’ से प्रमुख मुहावरे

1 गागर में सागर भरना – थोड़े में बहुत कह देना

राष्ट्रपति अब्दुल कलाम के भाषण इतने महत्वपूर्ण और सिद्धांतों पर आधारित हुआ करते थे,जो गागर में सागर भरने का कार्य किया करते थे।

2 गिरगिट की तरह रंग बदलना – अपनी बातों से बार-बार मुकर जाना

शकील अपने फायदे के लिए सदैव अपनी बातों से मुकर जाता है, वह गिरगिट की तरह रंग बदलता रहता है।

3 गड़े मुर्दे उखाड़ना – अर्थहीन पुरानी बातों को निकालना

मोहन की हमेशा से आदत है जब भी लड़ाई करता है वह गड़े मुर्दे उखाड़ना शुरू कर देता है, इसके कारण लड़ाई काफी बढ़ जाती है।

4 गुदड़ी का लाल – गरीबी के लालन-पालन से महान बनना

अब्दुल कलाम गरीब और अभावग्रस्त जीवन जीते हुए, भारत के राष्ट्रपति बने उन्होंने ढेर सारे कीर्तिमान स्थापित किए।

5 गाल बजाना – बहस करना

राजेश जब भी हारने लगता है, वह स्वयं की प्रशंसा करने के लिए गाल बजाना आरंभ कर देता है।

6 गुड़ गोबर करना – अच्छे काम को बिगाड़ देना

बना बनाया काम अनाड़ी के हाथ में सौंपने से, वह सारा काम गुड़ गोबर कर देता है।

‘घ’ से प्रमुख मुहावरे

1 घी के दिए जलाना – खुशी मनाना

कंपनी की अपार सफलता पर घी के दीपक जलाए गए।

2 घुटने टेकना – पराजय स्वीकार करना

1971 की लड़ाई में पाकिस्तान ने भारत के सामने घुटने टेक दिए।

3 घडो पर पानी पड़ जाना – लज्जित होना

असफलता पाकर जैसे मनुष्य के घडो पर पानी पड़ जाता है।

4 घाव पर नमक छिड़कना – दुख को याद दिलाना

आज के लोगों की आदत हो गई है, शोक सभा में जाकर भी बुरा भला कहते हैं।

5 घाट घाट का पानी पीना – अनुभवी होना

किसी भी देश का जासूस जल्दी पकड़ा नहीं जाता क्योंकि उसने घाट घाट का पानी पिया होता है।

6 घोड़े बेचकर सोना – निश्चिंत होना

राकेश अपने सभी बाल बच्चों की शादी कर घोड़े बेच सो रहा है।

‘च’ से प्रमुख मुहावरे

1 चिराग तले अंधेरा होना – अपने भीतर कमी रह जाना

मौलाना साहब दुनिया भर के लोगों को शिक्षा देते हैं, किंतु उनके ही वारिस अनपढ़ है।

2 चोली दामन का संबंध – घनी मित्रता

जय और वीरू की मित्रता चोली दामन की थी।

3 चैन की बंसी बजाना – प्रसन्न होना

मोहन के पिता इतनी धन-संपत्ति छोड़ कर गए कि, वह आज चैन की बंसी बजा रहा है।

4 चिकना घड़ा – कुछ असर ना होना

बालक का स्वभाव चिकने घड़े की भांति होता है, जो बुरे लोगों के बीच भी रहकर बचा रहता है।

5 चेहरे पर हवाइयां उड़ना – भयभीत होना

जंगल भ्रमण करते समय अचानक भयानक शेर को देखकर राजकुमारों की हवाइयां उड़ गई।

6 चुल्लू भर पानी में डूब मरना – लज्जित होना

थानेदार साहब जीवन भर ईमानदारी से नौकरी करते रहे। जरूरत के समय रिश्वत लेते पकड़े गए, उसके बाद उनका हाल चुल्लू भर पानी में डूब मरने का हो गया।

7 चार चांद लगाना – शोभा की वृद्धि करना

विद्यालय के वार्षिकोत्सव में प्रधानमंत्री ने पहुंचकर चार चांद लगा दिया।

‘छ’ से प्रमुख मुहावरे

1 छप्पर फाड़ कर देना – आशा से बहुत अधिक प्राप्त होना

किसानों की फसल अच्छी बरसात से इस वर्ष छप्पर फाड़ हुई।

2 छाती पर पत्थर रखना – दुख सहना

पालतू गाय के मरने पर उसे कसाई लेने पहुंचे, छाती पर पत्थर रखकर उन्हें गाय देना पड़ा।

3 छाती पर मूंग दलना – सामने रहकर तंग करना

सलीम जब से निकाह कर अपनी बेगम को लाया है, वह उसकी छाती पर रोज मूंग दलती है।

4 छठी का दूध याद दिलाना – कठिनाई का अनुभव कराना

महाराणा प्रताप ने अकबर की सेना को छठी का दूध याद दिला दिया था।

5 छाती पर सांप लोटना – जलना

एक गरीब का बच्चा, डिस्ट्रिक्ट मजिस्ट्रेट क्या बन गया अमीरों की छाती पर सांप लौटने लगा।

6 छोटा मुंह बड़ी बात – औकात से बढ़कर बोलना

जब एक चोर को कोर्ट में पेश किया गया, उसने पूरी प्रशासनिक व्यवस्था की पोल खोल कर छोटा मुंह बड़ी बात कह दी।

7 छुपा रुस्तम – ढेर सारे गुणों से युक्त साधारण व्यक्ति

अजीत डोभाल के भीतर इतनी सारी प्रतिभा है कि, वह देखने में बेहद साधारण लगते हैं किंतु वह है बड़े छुपे रुस्तम।

8 छक्के छुड़ाना – हौसला पस्त कर देना

वीर शिवाजी ने मुगलों की बड़ी-बड़ी सेना के छक्के छुड़ा दिए थे।

‘ज’ से प्रमुख मुहावरे

1 जुती चाटना – चकरी करना

नेता लोग वोट मांगने के लिए गरीब लोगों की भी जूतियां चाटते हैं।

2 जान में जान आना – सुकून मिलना

अचानक आए खूब जोर की आंधी जो सब कुछ उड़ाने के लिए तैयार थी, उसके जाने पर ही जान में जान आई।

3 जान पर खेलना – जोखिम लेना

बीच सड़क पर गाय को फसी देख मोहन अपनी जान पर खेलकर उसे किनारे ले आया।

4 जले पर नमक छिड़कना – दुखी व्यक्ति को और दुख देना

गरीबों की बस्ती को सरकार ने बुलडोजर से गिरा दिया, उस पर नेताओं की बयानबाजी से जले पर नमक छिड़का गया।

‘झ’ से प्रमुख मुहावरे

1 झक मारना – व्यर्थ समय की बर्बादी

कर्मचारियों के झक मारने से, कंपनी नुकसान में आ गई, और जल्द ही कंपनी को बंद करना पड़ा।

‘ट’ से प्रमुख मुहावरे

1 टांग अड़ाना – हस्तक्षेप करना

किसी भी कारोबार को चालू करने से पहले, पुलिस वाले अनर्गल टांग अड़ाते हैं।

2 टस से मस ना होना – अपने स्थान पर बने रहना

भारी तूफान में भी आम का पेड़, यथास्थिति खड़ा रहा।  आंधी भी उसे टस से मस नहीं कर सकी।

3 टूट पड़ना – प्रहार करना

सुभाष चंद्र बोस की आजाद हिंद फौज, अंग्रेजों पर कहर बरपाती हुई टूट पड़ी थी।

4 टेढ़ी खीर – कठिन कार्य

आई.ए.एस बनना बहुत टेढ़ी खीर है।

5 टका सा जवाब देना – साफ इनकार करना

मैं मंत्री के पास जब क्षेत्र के कार्य के संबंध में मिला तो उसने टका सा जवाब दे दिया।

‘ठ’ से प्रमुख मुहावरे

1 ठोकर खाना – असफलत होना

सफलता की राह में बहुत सी ढोकरे खाई है।

2 ठिकाना लगाना – साक्ष्य नष्ट करना

चोरों ने बैंक से की हुई चोरी के माल को ठिकाने लगा दिया, जिसे पुलिस भी नहीं ढूंढ पाई।

‘ड’ से प्रमुख मुहावरे

1 डंके की चोट पर देना – बिना डरे बात करना

जो व्यक्ति निर्दोष होता है, वह अपनी बात डंके की चोट पर कहता है।

‘त’ से प्रमुख मुहावरे

1 तूती बोलना – बहुत प्रभाव होना

बीहड़ के जंगलों में डाकुओं की तूती बोलती है।

2 तारे गिनना – प्रतीक्षा करना

राधा, कृष्ण की प्रतीक्षा में बैठे हैं तारे गिना करती थी ।

3 तारों से मांग भरना – खुशियां देना

श्री कृष्ण ने रुकमणी की मांग चांद तारों से भरी।

4 तिल का पहाड़ बनाना – छोटी बात को बड़ा करना

दो शराबी आपस में तू-तू मैं-मैं कर रहे थे, उनके परिवार के लोगों ने धीरे-धीरे तिल का ताड़ बनाया और आपस में लड़ बैठे।

5 तिल धरने की जगह ना होना – अत्यधिक भीड़ होना

शाम के समय दिल्ली की मेट्रो में तीन धरने की जगह नहीं रहती।

6 तिल तिल कर मरना – धीरे धीरे समाप्त होना

गंभीर लाइलाज बीमारी के मरीज तिल-तिल कर मरते हैं।

‘द’ से प्रमुख मुहावरे

1 दांत खट्टे करना – बुरी तरह हराना

महाराणा प्रताप ने मुगलों के दांत खट्टे कर दिए थे।

2 दौड़-धूप करना – अत्यधिक परिश्रम करना

भारतीय सेना की जवाबी कार्यवाही से, पाकिस्तान दौड़-धूप करने लगा।

3 दाल में कुछ काला होना – गड़बड़ होना

बॉर्डर पर सुरंग देखकर फौजी तुरंत समझ गए दाल में जरूर कुछ काला है।

4 दिन दुगनी रात चौगुनी प्रगति करना – गुणात्मक रूप से वृद्धि करना

मोहन ने अपने जीवन में इतनी मेहनत की थी, अब वह दिन दुगनी रात चौगुनी प्रगति कर रहा है।

5 दांत काटी रोटी होना – पक्की दोस्ती होना

श्री कृष्णा और बलराम भाई होते हुए भी उनमे दांत काटी की रोटी का भाव था।

6 दांतो तले उंगली दबाना – दंग रह जाना

दसवे नंबर के खिलाड़ी ने इतने छक्के-चौके मारे कि प्रतिद्वंद्वियों ने दांतो तले उंगली दबाना।

7 दुम दबाकर भागना – डर कर भागना

भारतीय सेना को आता देख, आतंकवादी दुम दबाकर भाग गए।

8 दीवारों के भी कान होना – भेद खुलने का भय

किसी भी गुप्त रहस्य को अधिक दोहराना नहीं चाहिए, जिससे भेद खुलने का भय रहता है।

9 दो दिन का मेहमान – अधिक समय ना होना

एक्सीडेंट में लाए गए मरीज को डॉक्टरों ने कह दिया कि वह दो दिन का मेहमान है।

10 दूध के दांत ना टूटना – बचपना करना

रमेश से क्या पूछते हो उसके तो अभी दूध के दांत भी नहीं टूटे।

‘ध’ से प्रमुख मुहावरे

1 धज्जियां उड़ाना – दुर्गति करना

हमारे विद्यालय के विद्यार्थियों ने निबंध प्रतियोगिता में, दूसरे विद्यालय के विद्यार्थियों की धज्जियां उड़ा दी।

2 धाक जमाना – प्रभाव जमाना

भारतीय सेना ने अपने शौर्य पराक्रम से, पूरे विश्व में अपनी धाक जमा रखी है

3 धूल फांकना –  मारा-मारा फिरना

भारत की अदालतों में न्याय पाने के लिए, लोग वर्षो धूल फांकते रहते हैं।

‘न’ से प्रमुख मुहावरे

1 नाक में दम करना – तंग करना

चोर ने पुलिस की नाक में दम कर रखा है।

2 नाक रख लेना – इज्जत बचाना

शादी के मंडप से गहनों की चोरी होने से लड़की के पिता घबरा गए, किंतु ससुराल वालों ने उनकी नाक रख ली।

3 नौ दो ग्यारह होना – भाग जाना

शेर को आता देख, हिरण का झुंड नौ दो ग्यारह हो गया

4 नाकों चने चबाना – अधिक परेशान करना

चोरों की तलाश में पुलिस को, नाकों चने चबाने पड़े।

5 नमक मिर्ची लगाना – गुस्सा दिलाना

समीर जब भी अपने पडोसी की बात करता है तो, नमक मिर्ची लगा कर कहता है ताकि उसकी लड़ाई हो जाए।

6 नमक हलाल होना – कृतज्ञ होना

अब्दुल अपने मालिक का नमक हलाल है, वह अपने मालिक का बुरा नहीं सुन सकता।

7 निन्यानवे के फेर में पड़ना – स्वार्थ सिद्धि के लिए प्रयत्न करना

रमेश जब भी किसी पैसे वाले को देखता है तो वह निन्यानवे के चक्कर में पड़ जाता है।

8 नाक रगड़ना – खुशामद करना

पैसे की आवश्यकता पर मालिक के सामने नाक रगड़ कर रह गए किंतु उन्होंने एक न सुनी।

‘प’ से प्रमुख मुहावरे

1 पीठ दिखाना – भाग जाना

चंद्रगुप्त की सेना को देखकर, सिकंदर पीठ दिखा कर भाग गया।

2 पेट में बात ना पचना – किसी बात को गुप्त ना रखना

राशिद से आर्थिक तंगी की स्थिति बताई और उसे इस बात को गुप्त रखने के लिए भी कहा, किंतु उसके पेट में बात कहां पूछती है।

3 पानी पानी होना – लज्जित होना

सलमा ने जब अनजाने से दूसरे व्यक्ति का हाथ पकड़ लिया, उस व्यक्ति ने जब सलमा को देखा तो सलमा शर्म से पानी पानी हो गई।

4 पेट में दाढ़ी होना – बचपन से अनुभवी होना

हामिद ऐसे ऐसे गुढ और रहस्य की बातें करता है, जैसे उसके पेट में दाढ़ी हो

5 पहाड़ टूटना – अचानक दुख का आना

कोरोना काल में रमेश ने अपने माता-पिता को खो दिया, जिससे उसके जीवन में दुखों का पहाड़ टूट पड़ा।

6 पत्थर की लकीर होना – अडिग रहना

युधिष्ठिर सदैव सत्य बोला करते थे, उनके वचन सदैव पत्थर की लकीर हुआ करती थी।

7 पगड़ी उछालना – इज्जत उतारना

मास्टर जी के लड़के ने चोरी करके, पूरे समाज में अपने पिता की पगड़ी उछाल दी।

8 पापड़ बेलना – कठिन परिश्रम करना

सरकारी नौकरी पाने के लिए विद्यार्थियों को काफी समय तक पापड़ बेलने पड़ते हैं।

9 पस्त होना – हार जाना

इजराइल उन्हें ऐसी जवाबी कार्यवाही की, कि फलस्तीन पस्त हो गया।

10 पानी फिरना – व्यर्थ होना

कड़ी मेहनत करके जमीन खरीदी थी, वह जमीन सरकारी निकली जिससे मेरे पैसों पर पानी फिर गया।

11 पांव उखड़ जाना – हार जाना

सरकार के विरोध में कार्य कर रहे लोगों पर पुलिस ने ऐसी कार्यवाही की, कि उनके पांव उखड़ गए और भाग खड़े हुए।

12 पेट में चूहे दौड़ना – भूख लगना

कल से कुछ नहीं खाया, जिसके कारण पेट में चूहे दौड़ने लगे।

13 पेट काटना – खर्चे में कटौती करना

भट्टे पर काम करने वाले मजदूर ने अपनी एक झोपड़ी बनाने के लिए दिन-रात मेहनत की और पेट काटकर कुछ पैसे जमा किए।

14 पाला पड़ना – सामना होना

उंगली माल डाकू का पाला गौतम बुध से पड़ा, उसके बाद वह डाकू महात्मा बन गया।

15 प्राणों की बाजी लगाना – सफलता के लिए किसी भी स्तर तक जाना

देश की रक्षा में सेना अपने प्राणों की बाजी लगा देती है, ताकि उनके देश पर कोई आंच ना सके।

16 पानी का बुलबुला – शीघ्र नष्ट हो जाना

महात्माओं का क्रोध पानी के बुलबुले समान होता है, जो कुछ क्षण के लिए उठता है, और फिर शांत हो जाता है।

17 पानी में आग लगाना – अशांति फैलाना

समाज में कुछ ऐसे दुश्मन है, जो अशांति फैलाने के लिए पानी में आग लगाने का कार्य करते हैं।

‘फ’ से प्रमुख मुहावरे

1 फूटी आंख न सुहाना – देखकर ईर्ष्या जागृत होना

एक गरीब परिवार में दिन-रात परिश्रम करके दो मंजिल का मकान क्या बना लिया, वह अमीरों को फूटी आंख न सुहाने लगा।

2 फूंक-फूंक कर कदम रखना – सावधानी से कार्य करना

एक गरीब अपने आर्थिक विषय में निर्णय लेते समय फूंक-फूंक कर कदम रखता है।

3 फूला ना समाना – अत्यधिक प्रसन्न होना

मोहन की सफलता पर उसके पिता फूले नहीं समा रहे थे।

‘ब’ से प्रमुख मुहावरे

1 बाल बाल बचना – अकस्मात बचना

तेज रफ्तार कार का टायर फटने से, उसमें सवार चार लोग बाल-बाल बच गए।

2 बाएं हाथ का खेल – सरल कार्य

चोरों को पकड़ना पुलिस के लिए बाएं हाथ का खेल है।

3 बाल की खाल निकालना – सूक्ष्म विश्लेषण

मंगल ग्रह पर मंगलयान भेजने के बाद वैज्ञानिकों ने वहां के बाल की खाल निकाल दी।

4 बहती गंगा में हाथ धोना – अवसर का फायदा उठाना

पुलिस प्रशासन की व्यस्तता को देखते हुए, रेत माफिया ने बहती गंगा में हाथ धो लिया।

5 बगले झांकना – उत्तर ना दे पाना

नेताजी से जब जनकल्याण के विषय में पूछा गया, तो वह बगले झांकने लगे।

6 बाल बांका ना होना – थोड़ी सी भी हानि ना होना

पाकिस्तानी सेना के द्वारा अंधाधुंध फायरिंग की गई, किंतु वह भारतीय सेनाओं का बाल बांका भी ना कर सके।

7 बाजी मारना – आगे निकलना

इस बार बोर्ड की परीक्षा में लड़कियों ने बाजी मारी।

8 बगुला भगत – पाखंडी व्यक्ति

पुलिस में साधु के भेष में छुपे हुए कादिर को जब पकड़ा तो पता चला वह बगुला भगत था।

9 बात का बतंगड़ बनाना – बात को बढ़ाना

छोटी सी बात को इतना उलझा दिया गया की वह बात का बतंगड़ बन कर रह गया

10 बात का धनी होना – वचन का पक्का होना

श्री राम बात के धनी थे, वह अपने बात पर सदैव अडिग रहा करते थे।

‘भ’ से प्रमुख मुहावरे

1 भीगी बिल्ली बनना – खामोश हो जाना

पुलिस को आता देख चोर, भीगी बिल्ली बन गया।

‘म’ से प्रमुख मुहावरे

1 मन में लड्डू फूटना – कोरी कल्पना से प्रसन्न होना

जब शिक्षक ने कहा कुछ होनहार विद्यार्थियों को पुरस्कार दिया जाएगा, तो छात्रों के मन में लड्डू फूटने लगे।

2 मुंह में पानी भर आना – जी ललचाना

आजकल फास्ट फूड देखकर लोगों के मुंह में पानी आ जाता है।

3 मुंह की खाना – पराजित होना

1971 में पाकिस्तान में युद्ध में मुंह की खाई।

4 मुट्ठी गर्म करना – रिश्वत मांगना

व्यापार लगाने के लिए जब सरकारी कार्यालय गया तो, वहां बाबू मुट्ठी गर्म करने की बात कहने लगे।

5 मारा मारा फिरना – इधर-उधर भटकना

खोए हुए बच्चे की तलाश में माता-पिता इधर-उधर मारे फिरते हैं।

6 मति मारी गई – बुद्धि का काम ना करना

सामान पर भारी छूट का विज्ञापन देखकर, मति मारी गई और खूब सारा नुकसान हो गया।

7 मन रखना – इच्छा पूरी करना

मोहन को बाजार जाना था, वह अकेला नहीं जाना चाहता था, उसका मन रखने के लिए मैं साथ चला गया।

8 मुंह तोड़ जवाब देना – साहस तोड़ना

आतंकवादियों के हमले का सेना ने मुंह तोड़ जवाब दिया जिसमें सभी आतंकवादी मारे गए।

9 मैदान मारना – जीत जाना

भारत के उभरते हुए क्रिकेट खिलाड़ियों ने, मैदान मार कर अपने प्रदर्शन का लोहा मनवाया।

10 मक्खियां मारना – समय बर्बाद करना

आलसी लोग कुछ काम करने के बजाय बैठकर मक्खियां मारते हैं।

11 मरने की फुर्सत ना होना – समय का अभाव होना

कार्यालय से इतना काम दिया गया है कि, मरने की फुर्सत तक नहीं है।

12 मुंह फुलाना – रूठ जाना

बर्थडे के दिन मोहन को सिनेमा दिखाने नहीं ले गए, तो मुंह फुला कर बैठ गया।

13 मुंह पर कालिख पोतना – कलंक लगाना

मौलवी साहब के बेटे ने बुरी संगत में पड़कर, पूरे परिवार के मुंह पर कालिख पोत दिया।

14 मुंह फेरना – उपेक्षा करना

बुरे समय में अपने लोग भी मुंह फेर लिया करते हैं।

15 मिट्टी के मोल बिकना – सस्ता बिकना

इस बार फसल की पैदावार इतनी अधिक मात्रा में हुई कि उन्हें, मिट्टी के मोल बेचना पड़ा।

16 मुंह की बात छीन लेना – दूसरे के मन की बात कह देना

राजू को आम खाने का काफी मन था, इसके लिए वह अपने पापा से कहने ही वाला था कि उसके पापा ने मुंह की बात छीन ली।  और कहा बहुत दिन हो गए आम खाए हुए आज बाजार से लेकर आऊंगा।

17 मुंह लगाना – अधिक छूट देना

राहुल ने अपने छोटे भाई को बहुत ज्यादा मुंह लगा लिया है इसलिए वह इतना बिगड़ गया है।

18 मजा किरकिरा होना – आनंद में बाधा पढ़ना

बच्चे मैदान में खेल रहे थे तभी वहां शिक्षकों ने आकर उन सभी को भगा दिया जिसके कारण मजा किरकिरा हो गया।

19 माथा ठनकना – आशंका होना

जब सवेरे कबाड़ी वाला मेरे घर के पीछे से निकला, उसके हाथ में थैला देखकर मेरा माथा ठनका।

‘र’ से प्रमुख मुहावरे

1 रात दिन एक करना – कठिन परिश्रम करना

मोहन ने अपनी बोर्ड की परीक्षा के लिए रात-दिन एक कर दिया, वह तब जाकर सफल हुआ।

2 रंगा सियार होना – ढोंगी होना

आजकल अधिकतर नेता रंगा सियार है, जो अपने स्वार्थ के कारण रंग बदले फिरते हैं।

3 राई का पहाड़ बनाना – छोटी सी बात को बड़ा करना

दो बच्चों का छोटा सा झगड़ा था, परिवार आपस में लड़ कर उस छोटी बात को राई का पहाड़ बना बैठे।

4 रोड़ा अटकाना – बाधा उत्पन्न करना

कोई व्यक्ति मेहनत करके व्यापार लगाने की सोचता भी है तो, प्रशासन उसके राह में रोड़ा अटका आने की कोशिश करता है।

5 रंग में भंग पड़ना – काम खराब होना

शांति से हो रहे प्रदर्शन में, आवारा पशुओं के उपद्रव ने रंग में भंग डाल दिया।

‘ल’ से प्रमुख मुहावरे

1 लाल पीला होना – क्रोध करना

मोहन की बढ़ती हुई शरारतों को देखकर उसके पिता लाल पीला हो गए।

2 लकीर का फकीर होना – बात पर अडिग रहना

सत्यवादी व्यक्ति जो सत्य है उसे कहता है, उसके लिए वह लकीर का फकीर बन जाता है।

3 लोहा लेना – सामना करना

रानी लक्ष्मीबाई ने अंग्रेजों की हुकूमत को बर्दाश्त नहीं किया, उन्होंने अंग्रेजों के खिलाफ लोहा लिया।

4 लंगोटिया यार – जिगरी दोस्त

मदन, सुरेश का लंगोटी आया था किंतु कुछ समय से दोनों एक दूसरे से बात नहीं कर रहे हैं।

5 लकीर पीटना – एक ही बात की रट लगाना

बुजुर्गों की आदत हो जाती है कि वह लकीर पीटने लगते हैं।

6 लहू के घूंट पीकर रह जाना – भारी क्रोध को अपने भीतर समेट लेना

मेरे सामने मेरे मां-बाप को पड़ोसी ने इतना भला-बुरा कह दिया कि मैं खून का घूंट पीकर रह गया।

7 लोहे के चने चबाना – कठिन परिश्रम करना

चोर ने पुलिस को लोहे के चने चंबवा दिए।

8 लोहा मानना – श्रेष्ठता स्वीकार करना

भारतीय क्रिकेट टीम में विश्व विजेता को हराकर अपना लोहा मनवाया।

‘व’ से प्रमुख मुहावरे

1 विपत्ति मोल लेना – जानबूझकर संकट में पडना

सामने से आता हुआ पागल सांड को देखकर भी उसकी ओर जाना स्वयं विपत्ति मोल लेना साबित हुआ।

2 वेद वाक्य मानना – पौराणिक तथ्यों को मानना

महात्माओं के वचन, स्वयं वेद वाक्य होते हैं जिसे सभी व्यक्ति को मानना चाहिए।

‘स’ से प्रमुख मुहावरे

1 सिर उठाना – विरोध करना

भारतीयों ने अंग्रेजों के जुल्मों-सितम से परेशान होकर सिर उठाना आरंभ किया।

2 सोने पर सुहागा – अच्छे पर और अच्छा

मोहन ने ₹100 की एक पुस्तक खरीदी उस पर ₹50 का डिस्काउंट कूपन मिल गया, जो उसके लिए सोने पर सुहागा हो गया।

3 सिर आंखों पर बिठाना – खूब आदर देना

नया दूल्हा जब अपने ससुराल जाता है, तो ससुराल वाले उसे सिर आंखों पर बिठा लेते हैं।

4 सबको एक ही लाठी से हांकना – एक जैसा व्यवहार करना

अनपढ़ लोगों की आदत होती है वह सब को एक ही लाठी से हांकते हैं, चाहे उसके सामने कितना ही योग्य व्यक्ति क्यों ना हो।

5 सिर पर पांव रखकर भागना – तत्काल भागना

सेना को आता देख आतंकवादी सिर पर पांव रख कर भाग खड़े हुए।

6 श्री गणेश करना – कार्य आरंभ करना

मनोज काफी समय से बेरोजगार बैठा था, उसने कल एक दुकान का श्रीगणेश कर दिया।

7 शतरंज की चाल चलना – अपने कदम को सोच विचार कर आगे बढ़ाना

आचार्य चाणक्य इतने कुशल राजनीतिज्ञ थे वह सदैव शतरंज की चाल चला करते थे।

8 सब्ज बाग दिखाना – झूठा आश्वासन देना

कल मेरे घर लॉटरी के टिकट बेचने वाले आए, उन्होंने पिताजी को सब्जबाग दिखा दिया।

‘ह’ से प्रमुख मुहावरे

1 हाथ से निकलना – वस में ना रहना

आज के युवा सोशल मीडिया से जुड़ कर, अपने परिवार के हाथ से निकलते जा रहे हैं।

2 होश उड़ जाना – डर जाना

चोरी करते हुए पुलिस के द्वारा पकड़े जाने पर चोरों के होश उड़ गए।

3 हवा से बातें करना – बहुत तेज दौड़ना

महाराणा प्रताप का घोड़ा, कुछ ही क्षण में हवा से बातें करने लगता था।

4 हथियार डालना – पराजय स्वीकार करना

1971 में पाकिस्तानी सेना ने भारतीय सेनाओं के सामने अपने हथियार डाल दिए।

5 हाथ फैलाना – याचना करना

साहूकार में डकैतों के आगे खूब हाथ फैलाए कि वह उसके घर चोरी ना करें किंतु डकैत एक ना माने।

6 हाथ मलना – पछताना

परीक्षा के दिनों में जो विद्यार्थी पढ़ाई नहीं करते वह बाद में हाथ मलते रह जाते हैं।

7 हाथ उठाना – मारने को तैयार होना

बहुत लापरवाही होता देख, पिताजी ने मजबूरी में हाथ उठाना चालू किया।

8 हाथ पांव फूलना – घबरा जाना

मजबूत प्रतिद्वंद्वियों को देखकर सदैव हाथ पैर फूल जाते हैं।

9 हाथ पैर मारना – बहुत कोशिश करना

आज के युवा रोजगार के लिए बहुत हाथ पैर मारते हैं तब जाकर उन्हें कुछ सफलता मिल पाती है।

10 हथेली पर सरसों जमाना – कठिन कार्य करना

एक साधारण व्यक्ति के लिए कार खरीदना भी, हथेली पर सरसों जमाने के बराबर है।

11 हुक्का पानी बंद करना – संबंध तोड़ना

गैर बिरादरी में शादी करने पर पंचायत ने परिवार का हुक्का पानी बंद कर दिया।

12 हाथ धोकर पीछे पड़ना – बुरी तरह से पीछा करना

निरंतर चोरी की वारदात को देखकर पुलिस चोरों के पीछे हाथ धोकर पड़ गई।

13 हाथों हाथ बिकना – शीघ्र बिक जाना

लॉकडाउन की घोषणा सुनकर लोग बाजार इस प्रकार गए, कि वहां सारा सामान हाथों हाथ बिक गया।

14 हाथों के तोते उड़ जाना – बहुत व्याकुल होना

अपनी गाड़ी चोरी की बात सुनकर मोहन के हाथों के तोते उड़ गए।

15 हक्का-बक्का रह जाना – आश्चर्यचकित होना

अध्यापक ने कक्षा में आते ही अचानक गणित विषय का टेस्ट लेने की बात कही, जिससे सभी विद्यार्थी हक्का-बक्का रह गए।

16 हाथ खींचना – सहायता ना करना

पूंजीपतियों के केस में पुलिस भी अपना हाथ खींच लेती है, जिससे गरीब व्यक्ति परेशान होता है।

17 हाथ तंग होना – पैसों की कमी होना

लॉकडाउन में सभी व्यापारियों के हाथ तंग हो गए।

18 हवा का रुख पहचानना – सटीक अनुमान लगाना

शेयर मार्केट के भाव को एक कुशल व्यक्ति ही पहचान सकता है, उसमें हवा के रुख को पहचानने की क्षमता होती है।

19 हाथ रंगना – किसी की हत्या करना

अपराधियों के हाथ खून से रंगे होते हैं।

20 हाथ काटना – बाजी हाथ से निकलना

गेंदबाजों ने अंतिम ओवर में सर्वाधिक रन देकर अपने हाथ स्वयं काट लिए।

21 हाथ बटाना – सहयोग करना

पूंजीपति लोग सदैव गरीबों की सहायता में अपना हाथ बटाते हैं।

22 हवाई किले बनाना – ऊंची ऊंची कल्पना करना

अनपढ़ लोग बैठे-बैठे हवाई किले बनाते रहते हैं जो उनके बस में नहीं होता।

यह भी पढ़ें

व्याकरण के सभी पोस्ट्स पढ़ें 

हिंदी व्याकरण की संपूर्ण जानकारी

हिंदी बारहखड़ी

सम्पूर्ण अलंकार

सम्पूर्ण संज्ञा 

रस के प्रकार ,भेद ,उदहारण

सर्वनाम और उसके भेद

विशेषण ( परिभाषा, भेद और उदाहरण )

अव्यय के भेद परिभाषा उदहारण 

संधि विच्छेद 

समास की पूरी जानकारी 

क्रिया की परिभाषा, भेद, उदाहरण

पद परिचय

स्वर और व्यंजन की परिभाषा

संपूर्ण पर्यायवाची शब्द

वचन

विलोम शब्द

वर्ण किसे कहते है

हिंदी वर्णमाला

हिंदी काव्य ,रस ,गद्य और पद्य साहित्य का परिचय।

शब्द शक्ति हिंदी व्याकरण

छन्द विवेचन – गीत ,यति ,तुक ,मात्रा ,दोहा ,सोरठा ,चौपाई ,कुंडलियां ,छप्पय ,सवैया ,आदि

Hindi alphabets, Vowels and consonants with examples

हिंदी व्याकरण , छंद ,बिम्ब ,प्रतीक।

शब्द और पद में अंतर

अक्षर की विशेषता

भाषा स्वरूप तथा प्रकार

बलाघात के प्रकार उदहारण परिभाषा आदि

लिपि हिंदी व्याकरण

भाषा लिपि और व्याकरण

शब्द किसे कहते हैं

अभिव्यक्ति और माध्यम

 

निष्कर्ष

मुहावरे व्याकरण के अंग होते हैं, उपरोक्त अध्ययन से हमने समझा। हम आम बोलचाल की भाषा में कितने ही मुहावरों का नित्य-प्रतिदिन प्रयोग करते हैं।

यह वाक्य को रोचक तथा रहस्यमयी भी बना देता है, इसके माध्यम से किसी ऐसे कटु वचन को भी या जटिल शब्दों को भी प्रकट किया जा सकता है जिन्हें स्पष्ट तौर पर प्रकट करना गलत परिणाम देता हो।

आशा है उपरोक्त लेख आपको पसंद आया हो, आपके ज्ञान का भंडार बढ़ा हो।

संबंधित विषय से अपने प्रश्न या किसी मुहावरे का उत्तर जानने के लिए नीचे कमेंट बॉक्स में लिखें। हम आपके प्रश्नों के उत्तर यथाशीघ्र देने का प्रयत्न करेंगे।

1 thought on “501 हिंदी मुहावरे अर्थ एवं उदाहरण सहित”

  1. हिंदी मुहावरे का इतना विशाल संग्रह उदाहरण सहित लिखने के लिए आपका बहुत-बहुत धन्यवाद
    इसमें सचमुच बहुत मेहनत लगी होगी और हम तहे दिल से लेखक का शुक्रिया करना चाहेंगे तथा हिंदी विभाग से आग्रह करेंगे कि अपने लेखकों को प्रेरित करते रहें

    Reply

Leave a Comment