केशव राव बलिराम हेडगेवार पर निबंध। आरएसएस के संस्थापक।Keshav rao baliram hedgewar essay

                    हेडगेवार पर निबंध  1. प्रस्तावना: आजादी के संघर्ष में अपना महत्त्वपूर्ण योगदान देने वालों में डॉ० केशवराव बलिराम हेडगेवार का नाम विशेष रूप से उल्लेखनीय है । हिन्दू जागरण और हिन्दू समाज के संगठनकर्ता के रूप में डॉ० हेडगेवार ने ‘राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ’ की स्थापना …

Read moreकेशव राव बलिराम हेडगेवार पर निबंध। आरएसएस के संस्थापक।Keshav rao baliram hedgewar essay

RSS hedgewar | डॉ॰केशवराव बलिरामराव हेडगेवार | हेडगेवार जी का जीवन परिचय |

Dr hedgewar life story   डॉ॰केशवराव बलिरामराव हेडगेवार  : डॉ॰केशव बळीराम हेडगेवार; जन्म : 1 अप्रैल 1889 – मृत्यु : 21 जून 1940) राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के संस्थापक एवं प्रकाण्ड क्रान्तिकारी थे। उनका जन्म हिन्दू वर्ष प्रतिपदा के दिन हुआ था। घर से कलकत्ता गये तो थे डाक्टरी पढने परन्तु वापस आये उग्र क्रान्तिकारी बनकर। कलकत्ते में श्याम सुन्दर चक्रवर्ती के यहाँ रहते हुए बंगाल की गुप्त क्रान्तिकारी संस्था अनुशीलन …

Read moreRSS hedgewar | डॉ॰केशवराव बलिरामराव हेडगेवार | हेडगेवार जी का जीवन परिचय |

आधार कहानी | प्रेमचंद की कहानी आधार | aadhar | premchand ki kahani in hindi |

आधार कहानी  aadhar | premchand ki kahani in hindi |       आधार कहानी सारे गाँव में मथुरा का-सा गठीला जवान न था। कोई बीस बरस की उमर थी। मसें भीग रही थीं। गउएँ चराता, दूध पीता, कसरत करता, कुश्ती लड़ता था और सारे दिन बाँसुरी बजाता हाट में विचरता था। ब्याह हो गया था, …

Read moreआधार कहानी | प्रेमचंद की कहानी आधार | aadhar | premchand ki kahani in hindi |

संवदिया फणीश्वर नाथ रेणु। sawadiya kahani in hindi | fanishwar nath renu ki kahani

संवदिया। फणीश्वर नाथ रेणु। samwadiya story | fanishwar nath renu ki kahani संवदिया फणीश्वर नाथ रेणु की कालजई रचना है । संवदिया एक अंचल विशेष की कृति है।इस कहानी मे  घर के बड़ी बहु की क्या भूमिका होती है उसको बड़े मार्मिक ढंग से प्रस्तुत किया गया है., किस प्रकार परिवार के अन्य छोटे-बड़े सदस्य अपनी …

Read moreसंवदिया फणीश्वर नाथ रेणु। sawadiya kahani in hindi | fanishwar nath renu ki kahani

संगठन हम करे आफतों से लडे | हो जाओ तैयार साथियो | rss geet lyrics |

संगठन हम करे आफतों से लडे | rss geet lyrics |    संगठन हम करे आफतों से लडे    संगठन हम करें ,आफतों से लड़े ,हमने ठाना , हम बदल देंगे सारा जमाना।।२  शेर शिवराज के तेज खड़गे , बोली हर – हर महादेव गरजे।   शक्ति  हो साथ में ,भगवा हो हाथ में ,बढ़ते जाना , …

Read moreसंगठन हम करे आफतों से लडे | हो जाओ तैयार साथियो | rss geet lyrics |

रस के अंग और भेद | रसराज | संयोग श्रृंगार | ras full notes in hindi

रस के अंग और भेद | रस अंग भेद संयोग श्रृंगार | ras full notes in hindi   रस अंग भेद   1 श्रृंगार रस   श्रृंगार रस को रसराज माना गया है ,  क्योंकि यह अत्यंत व्यापक रहा है श्रृंगार शब्द दो शब्दों से मिलकर बना है श्रृंग + आर ।  ‘श्रृंग’ का अर्थ है “कामोद्रेक” ,  ‘आर’ का अर्थ है …

Read moreरस के अंग और भेद | रसराज | संयोग श्रृंगार | ras full notes in hindi

भारत दुर्दशा की संवेदना | भारतेंदु | bhartendu harishchand | नवजागरण | भारत दुर्दशा का कारण | bharat durdasha natak|

भारत दुर्दशा की संवेदना | मुख्यतः  नाटक का आरंभ भारतेंदु युग से माना जाता है। भारतेंदु से पूर्व खड़ी बोली की प्रधानता थी। गद्य के विकास में कलकत्ता के फोर्ट विलियम कॉलेज की महत्वपूर्ण भूमिका रही। भारतेंदु का काल नवजागरण के नाम से भी जाना जाता है। नवजागरण की विशेषता आत्मअवलोकन तथा स्वयंमूल्यांकन की थी। नवजागरण का कारण था सामूहिक चेतना , सांस्कृतिक …

Read moreभारत दुर्दशा की संवेदना | भारतेंदु | bhartendu harishchand | नवजागरण | भारत दुर्दशा का कारण | bharat durdasha natak|

समास की पूरी जानकारी | समास के भेद परिभाषा और उदाहरण – Samas in hindi

samas in hindi - समास के भेद, परिभाषा और उदाहरण

इस लेख में आपको समास ( हिंदी व्याकरण ) से जुड़ी संपूर्ण जानकारी प्राप्त होगी। जिसमे अर्थ, परिभाषा, भेद, प्रकार और उदाहरण शामिल हैं। इस विषय पर अपनी पकड़ मजबूत करने के लिए इस लेख को अंत तक अवश्य पढ़ें। समास का अर्थ ‘संक्षिप्त’ या ‘संछेप’ होता है। समास का तात्पर्य है ‘संक्षिप्तीकरण’। दो या …

Read moreसमास की पूरी जानकारी | समास के भेद परिभाषा और उदाहरण – Samas in hindi

ध्रुवस्वामिनी पात्र योजना | dhroov swamini patr yojna | jayshankar prsad ka natak |

ध्रुवस्वामिनी पात्र योजना   शकराज की मृत्यु के बाद उसकी लाश को मांगने ध्रुवस्वामिनी के पास जाती है और बड़े ही मार्मिक स्वर में कहती है ” रानी तुम भी इस्त्री हो ,क्या इस्त्री की व्यथा नहीं समझोगी ………….. सबके जीवन में एक बार प्रेम की दीपावली जलती है।  जली होगी अवश्य तुम्हारे भी जीवन में वह आलोक …

Read moreध्रुवस्वामिनी पात्र योजना | dhroov swamini patr yojna | jayshankar prsad ka natak |