बरखा रानी | वर्षा ऋतू की कविता | RAINY DAY POEM | POEM IN HINDI

बरखा रानी | वर्षा ऋतू की कविता | RAINY DAY POEM | POEM IN HINDI   बरखा रानी   नन्ही नन्ही बूंदें जल की बादल के आंचल से बरसी चंपा की कलियों पर टपकी टप टप टप टप करके हंस दी। धरती के मुरझाए अधरों पर सावन का अमृत है बरसा रिमझिम रिमझिम सरगम सुनकर …

Read moreबरखा रानी | वर्षा ऋतू की कविता | RAINY DAY POEM | POEM IN HINDI

जयशंकर प्रसाद | ध्रुवस्वामिनी | भारतेंदु के उत्तराधिकारी | jayshankar prsad in hindi | dhruvswamini |

जयशंकर प्रसाद | ध्रुवस्वामिनी | भारतेंदु के उत्तराधिकारी | jayshankar prsad in hindi | dhruvswamini |     ध्रुवस्वामिनी प्रश्न =>एक समस्या नाटक के रूप में ध्रुवस्वामिनी पर विचार करते हुए उसने स्त्री समस्या के निरूपण का उद्घाटन कीजिए। जयशंकर प्रसाद का काल 1916 से 1950 स्वीकार किया जाता है ।जयशंकर ,  भारतेंदु के उत्तराधिकारी के रुप में …

Read moreजयशंकर प्रसाद | ध्रुवस्वामिनी | भारतेंदु के उत्तराधिकारी | jayshankar prsad in hindi | dhruvswamini |

स्त्री शिक्षा के विरोधी कुतर्को का खंडन | स्त्रियों को पढ़ाने से अनर्थ होते हैं |

Women empowerment in hindi   स्त्री शिक्षा के विरोधी कुतर्को का खंडन   बड़े शोक की बात है , आजकल भी ऐसे लोग विद्यमान है जो स्त्रियों को पढ़ाना उनके और गृह – सुख के नाश का कारण समझते हैं | ये लोग स्त्री शिक्षा को गलत समझते थे | और , लोग भी  ऐसे – वैसे …

Read moreस्त्री शिक्षा के विरोधी कुतर्को का खंडन | स्त्रियों को पढ़ाने से अनर्थ होते हैं |

शिवाजी को नहीं कैद कर पाई ओरंगजेब सलांखे। वीर शिवजी का अदभुत साहस ।

शिवाजी को नहीं कैद कर पाई ओरंगजेब सलांखे 17 अगस्त 1666। “शिवाजी गायब! उसे धरती लील गई या आकाश?” औरंगजेब ने अपना माथा पीट लिया, “एक महा भयंकर वैरी अपने पैरों चलकर आया, पिंजरे में फंसा और गायब हो गया।” 20 नवम्बर 1666। शिवाजी रायगढ़ पहुंचे। औरंगजेब को पत्र लिखा, उसकी अनुमति के बिना आगरा से चले आने पर खेद व्यक्त …

Read moreशिवाजी को नहीं कैद कर पाई ओरंगजेब सलांखे। वीर शिवजी का अदभुत साहस ।

गुरु दक्षिणा हेतु अमृत वचन।RSS IN HINDI | राष्ट्रिय स्वयं सेवक संघ।

गुरु दक्षिणा हेतु अमृत वचन     पंडित दीनदयाल उपाध्याय जी ने कहा ” जिस राष्ट्रीय प्रतीक को लेकर वेदकाल से आज तक हम स्फूर्ति पाते रहे ,जिसमे सदियों के उत्थान – पतन के रोमांचकारी क्षणो की गाथाएँ गुम्फित है , जिसमे त्यागी , तपस्वी , पराकर्मी ,दिग्विजयी ,ज्ञानी ,ऋषि -मुनि ,सम्राट ,सेनापति ,कवी ,साहित्यकार ,सन्यासी …

Read moreगुरु दक्षिणा हेतु अमृत वचन।RSS IN HINDI | राष्ट्रिय स्वयं सेवक संघ।

शिवाजी भारतीय राष्ट्रवाद के उन्नायक थे। जयपुर का राजा जयसिंह। शिवाजी ने चेताया जयसिंह को। शिवाजी ने जयसिंह के लिए एक पत्र लिखा

उनके हर निर्णय और हर कार्य में राष्ट्रवाद झलकता था। अक्टूबर 1664 ई. में उन्होंने बीजापुर से खवासखान की सहायता के लिए आये शिवाजी  घोर पड़े की सेना को परास्त कर भगा दिया था। बाजी घोरपड़े को अपने भी प्राण गंवाने पड़ गये। वीर शिवजी   भारत का राष्ट्र निर्माता शिवाजी इस जीत से अपने साम्राज्य का और …

Read moreशिवाजी भारतीय राष्ट्रवाद के उन्नायक थे। जयपुर का राजा जयसिंह। शिवाजी ने चेताया जयसिंह को। शिवाजी ने जयसिंह के लिए एक पत्र लिखा

गुरु दक्षिणा | गुरु दक्षिणा का दिन एक नजर मे | guru dakshina rss |

गुरु दक्षिणा | gurudakshina rss |     आज सभी स्वयंसेवक मनमोहक लग रहे हैं ,क्योंकि आज एक विशेष दिन है। यह विशेष दिन वर्ष भर में एक बार आता है। इस दिन के लिए सभी स्वयंसेवक तन्मयता से उत्साह से वह अपनी आस्था से इंतजार करते हैं। यह विशेष दिन है गुरु दक्षिणा का। आज  दायित्ववान …

Read moreगुरु दक्षिणा | गुरु दक्षिणा का दिन एक नजर मे | guru dakshina rss |

गुरु दक्षिणा RSS guru dakshina ki poori jankari

गुरुदक्षिणा अनेकों प्रकार की होती है। किंतु सामान्य तौर पर एक शिष्य द्वारा अपने गुरु को सप्रेम किया गया भेंट गुरुदक्षिणा कहलाता है।     गुरुदक्षिणा का उपयोग गुरु दक्षिणा की राशि का खर्च   यहां हम राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ में होने वाले गुरुदक्षिणा की बात करते हैं। संघ में गुरु परम पवित्र भगवा ध्वज को माना गया है …

Read moreगुरु दक्षिणा RSS guru dakshina ki poori jankari

सूर का दर्शन | दार्शनिक कवि | सगुण साकार रूप का वर्णन | जीव | जगत और संसार | सूरदास जी की सृष्टि | माया | मोक्ष

सूर का दर्शन   साहित्य और दर्शन शास्वत सत्य है | दोनों का ही मुलतः  सृष्टि के रहस्यों का उद्घाटन करना होता है । साहित्य इन दायित्वों की त्रुटि अनुभूति के रुप में करता है और दर्शन एक विचार के रूप में बुद्धि प्रधान आत्यरेषण   दर्शन को जन्म देता है | जो तार्किकता और विश्लेषण में भाव …

Read moreसूर का दर्शन | दार्शनिक कवि | सगुण साकार रूप का वर्णन | जीव | जगत और संसार | सूरदास जी की सृष्टि | माया | मोक्ष