हिंदी सामग्री

भाव या अनुभूति | आचार्य रामचंद्र शुक्ल | ramchandr shukl

भाव या अनुभूति | आचार्य रामचंद्र शुक्ल | ramchandr shukl hindi notes in details

 

भाव या अनुभूति (आचार्य रामचंद्र शुक्ल)

आचार्य शुक्ल के अनुसार मानव की मूल अनुभूतियाँ दो है सुख तथा दुःख।

भाव या मनोविकार की परिभाषा देते हुए लिखते हैं “नाना विषयों के बोध का विधान होने पर ही उनसे सम्बन्ध रखने वाली इच्छा की अनेकरूपता भिन्न -भिन्न अनुभूति भाव या मनोविकार कहलाते है।

अनुभूति मुख्यतः दो प्रकार की होती है – सुखात्मक तथा दुखात्मक। सुख वर्ग में रति , यश ,उत्साह , आदि भाव आते है। और दुःख वर्ग में ईर्ष्या ,भाव ,क्रोध ,घृणा ,करुणा ,आदि।

यदि शरीर में सुई चुभने की पीड़ा हो तो केवल दुःख होगा पर यदि पता चले कि सुई चभने वाला कोई दुष्ट व्यक्ति है तो दुःख की भावना के साथ – साथ क्रोध और प्रतिहिंसा के भाव उदय होंगे।

प्रिय – मिलन से भी आनंद मिलता है और वीरता से भी। परन्तु वीरता का आनंद प्रिय -मिलन के आनंद से भिन्न है।

लज्जा भी के कारण से भी आती है और गलत काम से भी। कंम्पन भय के कारण भी होता है और उत्साह या क्रोध के कारण भी।

बालक की अनुभूतियों तथा भावों की तुलना में व्यस्क  व्यक्ति की अनुभूतियाँ अधिक व्यापक और जटिल है।

क्रोध का भाव लाल-लाल नेत्रों से उतना नहीं होता जितना की इन शब्दों से कि तेरी हड्डी पसली चूर-चूर कर दूंगा।

शुक्ला जी मानते हैं कि भावों की सत्ता सर्वोपरि है।

व्यक्ति के चरित्र का उत्कर्ष और पतन  दोनों मनोभावों के अधीन है।

भावों से प्रेरित होकर ही अनेक धर्म संप्रदाय वर्ग बन गए हैं।

शुक्ल जी शस्त्र बल , शारीरिक शक्ति की तुलना में मन की आंतरिक शक्ति को अधिक बताते हैं।

मानसिक भाव प्रवृतियों को बदलने से समाज भी बदल सकता है।

स्वार्थ संकुचित मनोवृत्ति का त्याग कर मनुष्य अपनी आत्मा का उत्कर्ष करता है।

शुक्ला जी तुलसी की तरह लोकमंगलवादी साहित्यकार थे।

उन्होंने आह्वान किया कि मनुष्य अपने हृदय में संवेदनशील कोमल एवं उदार बनाएं।

सबकी  लाभ – हानि को अपनी लाभ – हानि मानकर आचरण करें काव्य हमें यही शिक्षा देता है “सर्वे भवंतु सुखिनः “|

मनोविकार या भाव जीवन में महत्वपूर्ण उपादान है उनके कारण ही मनुष्य देवता या दानव बनता है।

इन्हीं के आधार पर हम ‘राम’ और ‘रावण’ का ‘हिटलर’ और ‘गांधी’ का निर्णय करते हैं।

उनके द्वारा लिखित निबंधों में काव्य में ‘रहस्यवाद’ और काव्य में ‘अभिव्यंजनावाद’ प्रमुख है।

 

यह भी जरूर पढ़ें –

उपन्यास की संपूर्ण जानकारी | उपन्यास full details in hindi

 समाजशास्त्र | समाज की परिभाषा | समाज और एक समाज में अंतर | Hindi full notes

शिक्षा का समाज पर प्रभाव – समाज और शिक्षा।Influence of education on society

शिक्षा और आदर्श का सम्बन्ध क्या है। शिक्षा और समाज | Education and society notes in hindi

समाजशास्त्र। समाजशास्त्र का अर्थ एवं परिभाषा। sociology

प्रगतिशील काव्य। प्रयोगवाद। prgatishil | prayogwaad kavya kya hai |

dewsena ka geet | देवसेना का गीत। जयशंकर प्रसाद।

दोस्तों हम पूरी मेहनत करते हैं आप तक अच्छा कंटेंट लाने की | आप हमे बस सपोर्ट करते रहे और हो सके तो हमारे फेसबुक पेज को like करें ताकि आपको और ज्ञानवर्धक चीज़ें मिल सकें |

अगर आपको ये पोस्ट अच्छा लगा हो तो इसको ज्यादा से ज्यादा लोगों तक पहुचाएं  |

व्हाट्सप्प और फेसबुक के माध्यम से शेयर करें |

और हमारा एंड्राइड एप्प भी डाउनलोड जरूर करें

कृपया अपने सुझावों को लिखिए हम आपके मार्गदर्शन के अभिलाषी है 

facebook page hindi vibhag

YouTUBE

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *