बरखा रानी | वर्षा ऋतू की कविता | RAINY DAY POEM | POEM IN HINDI

बरखा रानी | वर्षा ऋतू की कविता | RAINY DAY POEM | POEM IN HINDI   बरखा रानी   नन्ही नन्ही बूंदें जल की बादल के आंचल से बरसी चंपा की कलियों पर टपकी टप टप टप टप करके हंस दी। धरती के मुरझाए अधरों पर सावन का अमृत है बरसा रिमझिम रिमझिम सरगम सुनकर …

Read more