विश्व इमोजी दिवस की पूरी जानकारी – World emoji day in hindi

आज के लेख में हम विश्व इमोजी दिवस की पूरी जानकारी प्राप्त करेंगे तथा  इमोजी जिसका प्रयोग सोशल मीडिया प्लेटफार्म पर अपनी भावनाओं को प्रकट करने के लिए किया जाता है, उसका विस्तार से अध्ययन करेंगे।

यह जानेंगे इमोजी की शुरुआत कैसे हुई ? और वर्तमान समय में इमोजी की क्या उपयोगिता है ?

कोई भी चित्र या प्रतीकात्मक चिन्ह हजारों शब्द कहने की क्षमता रखता है।

जिस भावना को प्रकट करने के लिए हजारों शब्द कम पड़ जाते हैं उसे, हम एक चित्र के माध्यम से सरलता से प्रकट कर देते हैं।

विश्व इमोजी दिवस की संपूर्ण जानकारी

( World emoji day )

मनुष्य एक सामाजिक प्राणी है, वह अपने भावनाओं के आदान-प्रदान के लिए लिखित सांकेतिक या मौखिक साधन का प्रयोग करता है। चित्र के विषय में माना जाता है एक चित्र हजारों – लाखों शब्द कहने की क्षमता रखता है। जिस भावनाओं को प्रकट करने के लिए हजारों, लाखों शब्द कम पड़ जाते हैं उसे चित्र या चिन्ह के माध्यम से प्रकट किया जा सकता है।

  • भावनाओं को प्रकट करने के लिए हम वर्तमान समय में इमोजी का प्रयोग करते हैं।

आपने सोशल मीडिया पर इसका प्रयोग अधिकतर देखा होगा। जिसमें – आंखों से आंसू बहता हुआ, दिल, खुशी, हंसता हुआ, गुलाब, चांद, सोता हुआ, रोते हुए, अनेकों प्रकार के इमोजी का प्रचलन वर्तमान समय में है।

यह इमोजी हजारों शब्दों को कहने की क्षमता रखते हैं।

आज इसका प्रचलन विश्व स्तर पर है।

  • इमोजी एक जापानी शब्द है जिसका मतलब ‘पिक्चर वर्ल्ड’ अर्थात ‘फोटो की दुनिया’ है।

विश्व की पहली इमोजी बनाने का श्रेय जापानी मोबाइल ऑपरेटर एन.टी.टी, डो.को.मो में काम करने वाली इंजीनियर शिगेटका कुरीता को जाता है। उन्होंने 1999 में पहली बार इमोजी बनाया था।

  • 2010 से इमोजी का प्रचलन और ज्यादा बढ़ गया जब यूनिकोड के द्वारा इसे पहचान मिली।

गूगल, माइक्रोसॉफ्ट जैसी बड़ी कंपनियों ने इमोजी बनाना आरंभ किया और देखते ही देखते यह पूरे विश्व में प्रसिद्ध हो गया। इस फोटो के माध्यम से लोग अपनी भावनाओं को बिना कहे एक क्षण में प्रकट कर देते हैं, यह सभी इमोजी, फोटो के द्वारा संभव हो सका है।

विश्व इमोजी दिवस क्यों मनाते हैं?

वर्ल्ड इमोजी दिवस की शुरुआत इमोजीपीडिया के संस्थापक जेरेमी बर्ग ने 17 जुलाई 2014 में किया था, तब से प्रत्येक 17 जुलाई को वर्ल्ड इमोजी दिवस के रूप में मनाया जाता है।  इसको विश्व स्तर पर और अधिक सशक्त बनाने तथा लोगों को जागरूक करने के लिए इस क्षेत्र में कार्य किया जाता है। विभिन्न कंपटीशन आदि के माध्यम से लोगों के द्वारा इमोजी स्वीकार किया जाता है तथा उपयोगिता होने पर उसे डिजिटल जगत में शामिल भी किया जाता है।

सोशल मीडिया पर इमोजी क्यों है प्रसिद्ध?

तकनीक के विकास में लोगों को सरलता से कार्य करने की आदत को डाला है।

व्यक्ति वैसे भी स्वभाव से थोड़ा बहुत आलसी अवश्य होता है।

जहां हजारों शब्दों को टाइप करने के बजाय एक फोटो / इमोजी से कार्य हो सकता है तो उसके लिए मनुष्य अपना समय लिखने में बर्बाद नहीं करेगा। स्वभाव के अनुसार वह इमोजी के माध्यम से अपने भावनाओं को प्रकट करना बेहतर समझेगा।

इसी मानवीय व्यवहार के कारण सोशल मीडिया पर इमोजी प्रसिद्ध हो गए हैं।

आज विश्व के सर्वे में सामने आया है कि व्हाट्सएप, फेसबुक तथा ट्विटर पर इमोजी का प्रयोग प्रतिदिन करोड़ों की संख्या में होता है और यह संख्या दिन प्रतिदिन बढ़ती जा रही है। लोगों को अगर कोई पार्टी में शामिल होना होता है या पार्टी के लिए बात करनी होती है तो वह हजारों शब्द टाइप करने के बजाए पार्टी से संबंधित इमोजी का प्रयोग करते हैं। जिसमें केक, मुकुट, ड्रेस, ड्रिंक की गिलास, बोतल, केक, आदि शामिल है।

यह भी पढ़ें 

अप्रैल फूल क्यों मनाया जाता है 

Telegram channel

नदी तथा जल संरक्षण पर निबंध

पर्यावरण की रक्षा निबंध

दशहरा त्योहार पर निबंध

हिंदी का महत्व विस्तार से समझे

मोबाइल फ़ोन पर निबंध

विश्व पर्यावरण दिवस

राष्ट्रीय योग दिवस पर संपूर्ण जानकारी

वृक्षारोपण पर निबंध

कारगिल विजय दिवस की पूरी जानकारी

बाल दिवस

हिंदी दिवस की विस्तार से जानकारी

बिहार दिवस की पूरी जानकारी

निष्कर्ष

इमोजी को जापानी भाषा में पिक्चर वर्ल्ड कहते हैं जिसका सरल हिंदी अनुवाद फोटो जगत या फोटो की दुनिया होगा। एक फोटो हजारों शब्द कहने की क्षमता रखते हैं।

अतः इमोजी के माध्यम से व्यक्ति अपने भावनाओं को बिना कुछ लिखे या बोले प्रकट कर देता है।

सामने वाला व्यक्ति उस इमोजी को देखकर उसकी सभी भावनाओं को जान जाता है और उसके अनुसार अपनी प्रतिक्रिया देता है।

आपको यह आलेख कैसा लगा नीचे कमेंट बॉक्स में लिखें।

आप सबसे ज्यादा किस इमोजी का प्रयोग करते हैं वह भी बताएं।

Sharing is caring

Leave a Comment