जंतर मंतर वेधशाला जयसिंह।jantar mantar architecture | जंतर मंतर का इतिहास

Table of Contents

जंतर मंतर

 

संसद मार्ग से कनाट प्लेस की ओर चलने पर कुछ ही दूरी पर स्थित है। महाराजा जयसिंह द्वितीय की वेधशाला जिसमें गुलाबी आभा लिए अनेक विचित्र निर्माण स्थित है। राजा जयसिंह द्वितीय की खगोल शास्त्र के प्रति ललक इतनी अधिक थी कि उन्होंने इस वैद्यशाला के निर्माण से पहले अपने विद्वानों को विदेश में भेजा था , ताकि वह विदेशी वेधशालाओं के बारे में अध्ययन कर सकें। सन 1725 में इस वैद्यशाला का निर्माण हुआ था और इस वैद्यशाला का प्रमुख आकर्षण स्थल सूर्य की घड़ी है जिसे धूप घड़ीयों के राजकुमार के नाम पर भी जाना जाता है।

यह भी पढ़ें – राष्ट्रपति भवन से जुडी कुछ रोचक बातें 

 

जंतर-मंतर पहली नजर में विचित्र ढांचों का सिर्फ एक समूह सा लगता है , पर वास्तव में हर निर्माण का अपना एक विशेष उद्देश्य है। जैसे कि सितारों की सही स्थिति को जानना या ग्रहों की गणना करना। राजा जयसिंह ने जयपुर , वाराणसी तथा उज्जैन में भी वैद्यशाला ने बनवाई थी। मथुरा स्थित पांचवी वैद्यशाला अब नहीं है।

यह भी पढ़ें – इंडिया गेट ऑल इंडिया वॉर मोरियल का इतिहास

 

 

दोस्तों हम पूरी मेहनत करते हैं आप तक अच्छा कंटेंट लाने की | आप हमे बस सपोर्ट करते रहे और हो सके तो हमारे फेसबुक पेज को like करें ताकि आपको और ज्ञानवर्धक चीज़ें मिल सकें |

अगर आपको ये पोस्ट अच्छा लगा हो तो इसको ज्यादा से ज्यादा लोगों तक पहुचाएं  |

व्हाट्सप्प और फेसबुक के माध्यम से शेयर करें |

और हमारा एंड्राइड एप्प भी डाउनलोड जरूर करें

कृपया अपने सुझावों को लिखिए हम आपके मार्गदर्शन के अभिलाषी है 

facebook page hindi vibhag

YouTUBE

Leave a Comment