Chinook helicopter full details in hindi

Today we are going to write detailed note on chinook helicopter in IAF. This post can be helpful to understand the power and details of this amazing helicopter.

वायु सेना में शामिल एक बाहुबली हेलीकॉप्टर

chinook helicopter ( CH-47 )

 

भारतीय वायुसेना विश्व में सम्मानित है भारतीय वायुसेना के जांबांज जिस मिशन के लिए निकलते हे वह पूरा करके ही आते है। जांबाजी का किस्सा अभी पुरे विश्व ने अभिनन्दन जी ( भारतीय वायु सैनिक ) के रूप में देखा है। वायु सेना को लंबे समय आधुनिक फाइटर प्लेन और हेलीकाप्टर का इंतज़ार था , इस इंतजार को चिनूक हेलीकाप्टर के रूप में पूरा किया मोदी सरकार ने। इस प्रकार के हेलीकॉप्टर का इंतजार 25 मार्च 2019 को पूरा हुआ। यह हेलीकॉप्टर अमेरिका द्वारा आयात किया गया है।मोदी सरकार ने 2015 में 8048 करोड़ में अमेरिका से 15 हेलीकाप्टर का करार किया था।

इस हेलीकॉप्टर का नाम चिनूक है यह किसी भी मौसम में उड़ान भरने में सक्षम है और भारी से भारी समान युद्धपोत आदि को ले जाने का पूरा साहस रखता है।

Chinook helicopter details in video format

वायु सेना जो लंबे समय से इस प्रकार के संसाधनों का इंतजार कर रहा था। इस बाहुबली हेलीकॉप्टर को पाकर उत्साहित है। माना जा रहा है यह युद्ध में निर्णायक भूमिका निभा सकने में सक्षम है। अभी भारतीय बेड़े में 4 हेलीकाप्टर को शामिल किया गया है 11 chinuk helicopter का आर्डर और है कुल मिलाकर सेना को 15 हेलीकाप्टर दिया जायेगा। क्या खासियत है देखते हैं –

चिनूक हेलीकॉप्टर में दो इंजन है ( Chinook helicopter engine details ) –

अमूमन सभी हेलीकॉप्टरों में एक इंजन लगा होता है , चिनूक हेलीकॉप्टर में दो इंजन लगे हैं। दो इंजन इसे अन्य हेलीकॉप्टरों से अलग करते हैं , साथ ही यह हेलीकॉप्टर अधिक ऊंचाई वाले क्षेत्रों पर भी पहुंच बनाने में सक्षम है। इतना ही नहीं यह हेलीकॉप्टर अपने साथ सेना की एक टुकड़ी और युद्धपोत तथा अन्य भारी-भरकम सामान ले जाने में भी सक्षम है। इसे किसी भी मौसम में और किसी भी हवाई पट्टी पर अथवा मैदान में उतारा जा सकता है।

यह हिमालय तथा असम , सियाचिन , चीन से लगी सीमा के क्षेत्रों में मददगार साबित होगा।

सामान उठाने की लाजवाब क्षमता ( Chinook helicopter endurance ) –

चिनूक अमेरिका में लंबे समय से अपनी सेवाएं दे रहा है। चीनूक ऐसे युद्ध में भी शामिल रहा है जिसमें अन्य हेलीकॉप्टर का प्रयोग सम्भव नहीं था या प्र्रयोग नहीं किया जा सकता था। वहां भी चिनूक ने एक निर्णायक भूमिका निभाई।

अभी सीरिया में हुए जंग में भी चिनूक हेलीकॉप्टर का इस्तेमाल अमेरिका द्वारा किया गया था।

चिनूक 11 टन का वजन उठा पाने में सक्षम है , इसमें वह टैंक , बुलडोजर और बख्तरबंद गाड़ियां भी उठा सकता है तथा साथ ही सड़क बनाने के मशीन उपकरण और युद्धपोत तोप आदि भी ले जा सकता है।

मौसम तथा समय की पाबंदी नहीं  –

चिनूक दुनिया के उन हेलीकॉप्टरों में शामिल है जो किसी भी मौसम और किसी भी समय अपनी उड़ान भरने में सक्षम है। चीनूक  के लिए रात – दिन कोई मायने नहीं रखता , वह किसी भी समय और किसी भी मौसम में उड़ान भरने में सक्षम है। यह हेलीकॉप्टरों करीब 25000 फीट की ऊंचाई पर 315 किलोमीटर प्रति घंटे की रफ्तार से उड़ सकता है। इससे रात में भी ऑपरेशन करने में कोई परेशानी नहीं आती जबकि अन्य हेलीकॉप्टर रात में ऑपरेशन करने के अनुकूल नहीं है।

बाजी पलटने की ताकत ( Chinook helicopter power ) –

निश्चित रूप से चिनूक अति आधुनिक हेलिकॉप्टर है , जो सभी हालातों को ध्यान में रखकर बनाया गया है। इस हेलीकाप्टर को विशेष तौर अमेरिकी सैना इस्तेमाल करती हैं , तो निश्चित रूप से इस हेलीकॉप्टर की खासियत और अहमियत अधिक बढ़ जाती है। यह किसी भी सेना में बाजी को पलटने में निर्णायक भूमिका निभा सकती है।

जहां भारतीय सेना राफेल विमान की कमी महसूस कर रही है , वहीं यह हेलीकॉप्टर उनके हौसले को और बढ़ाती है क्योंकि यह उन सभी जगह पर अपनी पहुंच बना सकती है जहां वायु सेना के लिए अभी तक मुश्किल था। आपको बता दें कि 19 देश की सेना ने इस हेलीकॉप्टर को इस्तेमाल कर रही है जो काफी मददगार साबित हो रही है।

” भारतीय उपमहाद्वीप में राफेल सर्वश्रेष्ठ लड़ाकू विमान साबित होंगे इसके आने के बाद पाकिस्तान नियंत्रण रेखा या अंतरराष्ट्रीय सीमा पर भटकने का साहस नहीं करेगा। ” बी.एस. धनोआ वायु सेना प्रमुख ( भारत )

मेरी राय –

अगर सैनिक को आधुनिक सामान दिया जाये तो निश्चित रूप से सेना का मनोबल बढ़ता है। आज सेना पर भी राजनीती होती है तो सेना ही नहीं अपितु देशवासियों का भी मनोबल टूटता है और क्रोध आता है । राजनीति होनी चाहिए यह देश की प्रगति का एक माध्यम है किन्तु सेना पर राजनीति प्रगति में बाधक है। इसलिए सभी को सेना का सम्मान करते हुए इसे राजनीति से प्रभावित नहीं करना चाहिए।

मापक यंत्र। 70 प्रकार के मापक यंत्र अथवा मीटर।सामान्य ज्ञान। G.K

सामान्य ज्ञान।पद्म भूषण।भारत के प्रधान मंत्री। अकबर के नवरत्न।दिवस। प्रमुख झील। सामान्य जानकारी

सामान्य ज्ञान स्वतंत्र भारत की राजनीति का। general knowledge indian politics

नेट। जेआरएफ। UGC NET JRF | UGC NET की तैयारी कैसे करैं

सीटेट की तयारी कैसे करें। CTET / STET | PRT / TGT ki taiyari kaise kare

अन्य 

चिनूक – रॉकी पर्वत पर गर्म शुष्क चलने वाली हवा का नाम है। 

उसी के नाम से चिनूक हेलीकाप्टर का नाम रखा गया है।

 

 

कृपया अपने सुझावों को लिखिए | हम आपके मार्गदर्शन के अभिलाषी है 

facebook page hindi vibhag

YouTUBE

Leave a Comment

You cannot copy content of this page