गीत संग्रह

एकल गीत मन समर्पित तन समर्पित | ekal geet man samarpit tan samarpit

एकल गीत मन समर्पित तन समर्पित | ekal geet man

samarpit tan samarpit

 

एकल गीत

 

एकल गीत  –  मन समर्पित तन समर्पित

 

मन समर्पित तन समर्पित
मन समर्पित तन समर्पित और यह जीवन समर्पित
चाहता हूँ मातृ-भू तुझको अभी कुछ और भी दूँ ॥

 

माँ तुम्हारा ऋण बहुत है मैं अकिंचन
किन्तु इतना कर रहा फिर भी निवेदन
थाल में लाऊँ सजाकर भाल जब
स्वीकार कर लेना दयाकर यह समर्पण
गान अर्पित प्राण अर्पित रक्त का कण-कण समर्पित ॥१॥

 

माँज दो तलवार को लाओ न देरी
बाँध दो कसकर कमर पर ढाल मेरी
भाल पर मल दो चरण की धूलि थोड़ी
शीष पर आशीष की छाया घनेरी
स्वप्न अर्पित प्रश्न अर्पित आयु का क्षण-क्षण समर्पित ॥२॥

 

तोड़ता हूँ मोह का बन्धन क्षमा दो
गाँव मेरे व्दार घर आँगन क्षमा दो
आज सीधे हाथ में तलवार दे दो
और बाएँ हाथ में ध्वज को थमा दो
ये सुमन लो ये चमन लो नीड़ का तृण-तृण समर्पित ॥३॥

 

एकल गीत  –  मन समर्पित तन समर्पित

 

संगठन हम करे आफतों से लडे | rss geet lyrics |

आरएसएस गीत | septembar geet in rss | vishwa gagan par fir se gunje |

संघ की प्रार्थना। नमस्ते सदा वत्सले मातृभूमे।आरएसएस। 

हमें वीर केशव मिले आप जब से। 

जिस दिन सोया राष्ट्र जगेगा। RSS BEST EKAL GEET |

हमारा एंड्राइड एप्प भी डाउनलोड जरूर करें

हम पूरी मेहनत करते हैं आप तक अच्छा कंटेंट लाने की | आप हमे बस सपोर्ट करते रहे और हो सके तो हमारे फेसबुक पेज को like करें ताकि आपको और ज्ञानवर्धक चीज़ें मिल सकें |

अगर आपको ये पोस्ट अच्छा लगा हो तो इसको ज्यादा से ज्यादा लोगों तक पहुचाएं  |

व्हाट्सप्प और फेसबुक के माध्यम से शेयर करें |

और हमारा एंड्राइड एप्प भी डाउनलोड जरूर करें

कृपया अपने सुझावों को लिखिए हम आपके मार्गदर्शन के अभिलाषी है 

facebook page hindi vibhag

YouTUBE

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *