वचन – परिभाषा, भेद, प्रकार, उदाहरण, Vachan in Hindi Grammar

किसी वस्तु , व्यक्ति की संख्या का बोध कराने का कार्य वचन के द्वारा किया जाता है। वचन व्याकरण का एक अंग है जो आरंभिक शिक्षा से लेकर प्रतियोगी परीक्षा तक के प्रश्नों में शामिल होता है। यह लेख सभी प्रकार के विद्यार्थियों के लिए लाभकारी है।

इस लेख के माध्यम से वचन किसे कहते हैं ? भेद , परिभाषा , अंग आदि का विस्तार से अध्ययन कर सकेंगे।

वचन की परिभाषा

शब्दों के उस रूप को जो किसी वस्तु के एक अथवा अनेक होने का बोध कराता है , उसे वचन कहते हैं। जिन शब्दों के माध्यम से संख्या की प्रतीति होती है , वहां वचन माना जाता है। वचन का अर्थ है बोली तथा कथन।

” शब्दों से संख्या का बोध कराना ही वचन है।”

वचन के दो भेद हैं

१ एकवचन , २ बहुवचन।

एकवचन – शब्द के जिस रूप से एक वस्तु या व्यक्ति का बोध होता है , उसे वचन कहते हैं। जैसे – मेज , कुर्सी , राम , नदी , पर्वत आदि।

बहुवचन – जिन शब्दों से बहुत सी वस्तुओं का बोध होता है , उसे बहुवचन कहा जाता है – कुर्सियां , पक्षियों , जानवरों , लड़कों आदि।

वचन की पहचान कैसे करें

1 वचन की पहचान संज्ञा अथवा सर्वनाम के द्वारा

एकवचन बहुवचन 
१ मैं विद्यालय जाता हूँ।१ हम विद्यालय जाते हैं।
२ वह खेलता है।२ वे खेलते हैं।
३ भैंस चारा खा रही हैं।३ भैंसें चारा खा रही है।

2 क्रिया के द्वारा वचन की पहचान करना।

एकवचन बहुवचन
बालक भाग रहा हैबालक भाग रहे हैं
शेर सो रहा हैशेर सो रहे हैं
लड़का गाना गा रहा हैलड़के गाना गा रहे हैं
कबूतर उड़ रहा हैकबूतर उड़ रहे हैं

3 एकवचन के बदले बहुवचन का प्रयोग

(क) आदर के लिए भी बहुवचन का प्रयोग होता है जैसे –

  • श्री कृष्णा दयालु थे
  • भीष्म पितामह ब्रह्मचारी थे
  • महाराणा प्रताप सच्चे वीर थे
  • राम मर्यादा पुरुषोत्तम थे

(ख) बड़प्पन के लिए भी कई बार वे , हम आदि शब्दों का प्रयोग किया जाता है जैसे –

  • मंत्री जी ने कहा कल हम आपकी समस्या को सुनेंगे।
  • वे लोग कल दिल्ली जाएंगे।
  • कल दादा जी से मुलाकात हुई वह अत्यधिक प्रसन्न हुए।

 

कर्ताकारक – शब्द के जिस रुप से क्रिया के करने का बोध हो उसे कर्ता कारक कहते हैं , इसका चिन्ह ‘ने’ है। ने चिन्ह कभी नहीं लगता है तो कभी लगता है।

कर्मकारक – इससे क्रिया के फल भोगने का बोध होता है इसकी विभक्ति ‘को’ है।

करण कारक – जिसके द्वारा क्रिया पूरी की जाती है उस संज्ञा को करण कारक कहते हैं।

संप्रदान कारक – जिसके लिए क्रिया की जाती है उसे संप्रदान कारक कहते हैं इसकी विभक्ति को ,  के , लिए है।

अपादान कारक – जहां से कोई वस्तु अलग हो उसे अपादान कारक कहते हैं।

संबंध कारक – संज्ञा या सर्वनाम के जिस रुप से एक वस्तु का दूसरी वस्तु के साथ संबंध ज्ञात हो उसे संबंध कारक कहते हैं। इसका चिन्ह – का , की , के , ना , नी , ने , स , व , रे , है।

अधिकरण कारक – संज्ञा के जिस रूप से आधार प्रकट होता है उसे अधिकरण कारक कहते हैं इसकी विभक्ति ‘ मे ‘ पर है।

संबोधन कारक – संज्ञा के जिस रुप से किसी को संबोधित किया जाता है वह संबोधन कारक कहलाता है जिसका चिन्ह – ‘हे’ , ‘रे’ है।

 

बहुवचन बनाने का सरल नियम

  • अकारांत में पुल्लिंग ‘ आ ‘ को ‘ ए ‘ कर दिया जाए।
एकवचनबहुवचन
बेटाबेटे
बच्चाबच्चे
लड़कालड़के
रुपयारुपए
कौआकौए
घोड़ाघोड़े
कुत्ताकुत्ते
गधागधे
तरबूजातरबूजे
केलाकेले

 

  • इकारांत को ईकारांत करके ‘ याँ ‘ जोड़ने पर बहुवचन बन जाता है
एकवचन बहुवचन
गतिगतियां
नारीनारियां
नीतिनीतियां
डालीडालियां
थालीथालियां
तालीतालियां
मक्खीमक्खियां
दासीदासियाँ
सहेलीसहेलियां
नदीनदियां

 

  • अकारांत स्त्रीलिंग से ‘ आ ‘ के बाद ‘ एँ ‘ जोड़ने पर बहुवचन बन जाता है।
एकवचन बहुवचन
मालामालाएं
कन्याकन्याएं
सभासभाएं
कविताकविताएं
कलाकलाएं
बालाबालाएं
सेनासेनाएं
शीलाशिलाएं
कथाकथाएं

 

  • सभी अकारांत स्त्रीलिंग शब्दों में ‘ अ ‘ को ‘ एँ ‘ करके बहुवचन बनाया जाता है।
एकवचनबहुवचन
पुस्तकपुस्तकें
खेलखेलें
गायगायें
भैंसभैंसें
आंखआंखें
बातबातें
सड़कसड़कें
बहनबहनें

 

  • अंत में ‘ या ‘ शब्द आने वाले शब्द को ‘ यां ‘ लिखने पर वहुवचन बन जाता है।
एकवचन बहुवचन
खटियाखटियाँ
चुहियाचुहियाँ
बिटियाबिटियाँ
गुड़ियागुड़ियाँ
चिड़ियाचिड़ियाँ

 

  • सम्बोधन में प्रायः शब्दों में ‘ ओ ‘ जोड़ने पर बहुवचन बन जाता है।
एकवचन बहुवचन
लड़की को बुलाओलड़कों को बुलाओ
बच्चे से पूछ लोबच्चों से पूछ लो
नदी का जल शीतल हैनदियों का जल शीतल है
बच्चे ध्यान से सुनोबच्चों ध्यान से सुनो
भैया मेहनत करोभाइयों मेहनत करो

 

  • एक वचन शब्दों में गण ,वृद्ध , दल , जन , शब्द जोड़ने से संख्या बहुवचन हो जाता है।
एकवचन बहुवचन
शिशुशिशुवृंद
मित्रमित्र वर्ग
गरीबगरीब लोग
गुरुगुरु जन
श्रोताश्रोता गण
सेनासेनादल

वचन महत्वपूर्ण प्रश्न उत्तर

प्रश्न – वचन की परिभाषा उदाहरण सहित लिखिए

उत्तर – वचन किसी व्यक्ति वस्तु आदि के संख्या को बताता है जैसे लड़का खेल रहा है यह एक वचन है। लड़के खेल रहे हैं यह बहुवचन है।

उपरोक्त दोनों उदाहरण से स्पष्ट होता है पहले उदाहरण में एक लड़का खेल रहा है जबकि दूसरे उदाहरण में अनेक लड़के खेल रहे हैं का पता चल रहा है।

प्रश्न – एकवचन और बहुवचन में क्या अंतर है ?

उत्तर – एकवचन में संख्या निश्चित होती है जबकि बहुवचन में अनिश्चित संख्या होती है। एकवचन किसी एक निर्धारित वस्तु या व्यक्ति के लिए होता है जबकि बहुवचन अनिश्चित संख्या की वस्तु या व्यक्ति के लिए होते हैं।

 

यह भी पढ़ें

Abhivyakti aur madhyam for class 11 and 12

हिंदी व्याकरण की संपूर्ण जानकारी

हिंदी बारहखड़ी

सम्पूर्ण अलंकार

सम्पूर्ण संज्ञा 

सर्वनाम और उसके भेद

अव्यय के भेद परिभाषा उदहारण 

संधि विच्छेद 

समास की पूरी जानकारी 

रस के प्रकार ,भेद ,उदहारण

पद परिचय

स्वर और व्यंजन की परिभाषा

पर्यायवाची शब्द

विलोम शब्द

हिंदी वर्णमाला

हिंदी काव्य

शब्द शक्ति

Hindi alphabets

हिंदी व्याकरण , छंद ,बिम्ब ,प्रतीक।

शब्द और पद में अंतर

अक्षर की विशेषता

भाषा स्वरूप तथा प्रकार

बलाघात

लिपि 

भाषा लिपि और व्याकरण

1 thought on “वचन – परिभाषा, भेद, प्रकार, उदाहरण, Vachan in Hindi Grammar”

  1. वचन को आपने बहुत अच्छे तरीके से परिभाषित किया है. आपने जो उदाहरण दिए वह भी काफी मददगार हैं इस टॉपिक को बारीकी से समझाने के लिए.

    Reply

Leave a Comment