How to convert your PDF to Word file in Hindi

नमस्कार दोस्तों आज हम सीखेंगे PDF File को Doc or Word File में कन्वर्ट कैसे करें। सबसे पहले यह जानते हैं कि पीडीएफ फाइल और वर्ड फाइल में अंतर क्या होता है और उन दोनों का कहां-कहां प्रयोग होता है।

पीडीएफ फाइल का प्रयोग हम शेयर और स्टोरेज करने के लिए करते हैं जिसे हम बाद में सुधार नहीं सकते। और वर्ड फाइल का प्रयोग ज्यादातर उन कामों में किया जाता है जहां पर उस फाइल में दोबारा कुछ जोड़ने की गुंजाइश हो।

इस लेख में हम सीखेंगे कि किस प्रकार से पीडीएफ फाइल से वर्ड फाइल में कन्वर्ट किया जाता है। और यह भी जानेंगे कि किस प्रकार से गूगल में रैंक किया जाता है।

How to convert your PDF to Word file ( step by step )

पीडीएफ से वर्ड फाइल में कन्वर्ट करने के लिए आपको एक वेबसाइट की आवश्यकता पड़ेगी जिसका नाम है Duplichecker tool जो आपको गूगल में टाइप करने पर आसानी से मिल जाएगा।

पीडीएफ से वर्ड फाइल में रूपांतरित करने के लिए आपको यह सॉफ्टवेयर बहुत मदद करेगा।

रूपांतरण के साथ-साथ आप यहां पर किसी भी फाइल को दोबारा संपादित भी कर सकते हैं। इस वेबसाइट का प्रयोग आप बहुत आसानी से कर सकते हैं। यहां तक कि एक बच्चा भी इस वेबसाइट का प्रयोग 2 मिनट में करना सीख सकता है।

पीडीएफ से वर्ड फाइल में रूपांतरण करने के लिए आपको क्या करना होगा यह नीचे लिखा हुआ है

1. सबसे पहले आपको यहां जाना होगा https://www.duplichecker.com/hi/convert-pdf-to-word.php जहां आप आसानी से रूपांतरण की प्रक्रिया को पूरा कर सकते हैं। विशेष बात यह है कि यह वेबसाइट मोबाइल और डेक्सटॉप दोनों में ही बहुत आसानी से इस्तेमाल किया जा सकता है।

2. वहां पर आपको एक अपलोड का बटन दिखेगा जिसे दबाने के बाद आप फाइल को अपलोड कर लेंगे।

3. अपलोड की प्रक्रिया संपन्न होने के बाद आपको convert pdf to word button पर क्लिक करना होगा और आपकी फाइल रूपांतरित हो जाएगी। 

रूपांतरण की प्रक्रिया संपूर्ण होने के बाद आप अपनी फाइल को डाउनलोड कर सकते हैं।

How to optimize your content before uploading?

गूगल सर्च इंजन में रैंक करने के लिए आपको कुछ तरीकों का इस्तेमाल करना पड़ेगा जो मैं आपको नीचे बताऊंगा। यह सभी तरीके आपको मदद करेंगे आपके पोस्ट को गूगल में रैंक करने में।

1. सबसे पहले आपको अपने शीर्षक पर ध्यान देना है और बेहतर से बेहतर लिखने का प्रयास करना है। शीर्षक गूगल सर्च इंजन में सबसे पहले दिखाई पड़ता है जिसे देखकर लोग यह फैसला लेते हैं कि आपके वेबसाइट पर जाना है कि नहीं। इसलिए आप को जितना हो सके उतना अच्छा शीर्षक लिखना है क्योंकि बिना इसके आपने कितना भी अच्छा आर्टिकल लिखा हो लेकिन वह गूगल में रैंक नहीं करेगा।

2. शीर्षक के साथ-साथ आपको उप शीर्षक का भी इस्तेमाल करना है ताकि आपका लेख अच्छे से अच्छा देख सके। ना सिर्फ गूगल सर्च इंजन में आपको इससे मदद मिलेगी बल्कि लोग जो आपके आर्टिकल पर पढ़ने आएंगे वह भी ज्यादा देर तक रुकेंगे और आपको अन्य तरीके से भी फायदा हो सकता है। शीर्षक और उपशीर्षक का इस्तेमाल बहुत ध्यान पूर्वक करें ऐसा नहीं कि कुछ भी बेतुका लिखें।

3. अपने लेख में छवि ( Images and Media ) का इस्तेमाल अवश्य करें। अगर आसान भाषा में कहूं तो इमेज और वीडियो का इस्तेमाल अवश्य करें ताकि गूगल सर्च इंजन में आपका लेख अच्छे तरीके से रैंक हो सके।

लोग अगर आपके लेख को पढ़ने आते हैं तो उन्हें सिर्फ लिखा हुआ पसंद नहीं आता उन्हें कुछ इमेज भी चाहिए होती है और कुछ वीडियो भी ताकि उन्हें जो बात है वह अच्छे से समझ में आ सके। इमेज और वीडियो आपके लेख को और बेहतर बनाते हैं साथ ही साथ गूगल सर्च इंजन को यह इंगित करते हैं कि आप ने औरों से कहीं ज्यादा बेहतर लेख लिखा है।

इसलिए अगर आप अपने लेख को गूगल सर्च इंजन में रैंक करवाना चाहते हैं तो इमेज और वीडियो गायक थे माल अवश्य करें। हो सके तो उनमें कीवर्ड्स का भी प्रयोग सही मात्रा में करें।

4. अपना लेख संपूर्ण तरीके से लिखने के बाद आपको बैक लिंक ( Backlink ) बनाना भी बहुत आवश्यक है। बिना बैकलिंक्स के गूगल सर्च इंजन में रैंक करना काफी मुश्किल होता है। जितना बेहतर वेबसाइट से आप लिंक प्राप्त करेंगे उतना ही संभावना होगी कि आपका लेख गूगल सर्च इंजन में सबसे ऊपर आए।

बहुत तरीके हैं लिंक लेने के लेकिन सबसे अच्छा तरीका है कि आप एक बेहतर लेख लिखें और उसके बाद जो वेबसाइट आप से मिलती जुलती हो उन्हें संपर्क करें। और उनसे कहे कि अगर हो सके तो वह आपको लिंक दे।

5. अंतिम बात जो आपको स्मरण रखनी है वह यह है कि आपको अपने लेख को चोरी होने से बचाना है और ध्यान रखना है कि कोई दूसरा व्यक्ति आपके जैसा लेख ना लिखें। और अगर उसने लिखा भी है तो आप उसे जल्द से जल्द गूगल को सूचित करके सर्च इंजन से हटवा दें। क्योंकि अगर आप जैसा लेख गूगल सर्च इंजन में रैंक कर रहा है तो यह आपके लिए बड़ा मुसीबत का समय हो सकता है।

इसलिए अपनी मेहनत को बर्बाद होने से बचाने के लिए आपको लगातार चेक करते रहना होगा कि आपका कोई कंटेंट चोरी तो नहीं कर रहा। और यह काम आप आसानी से कर सकते हैं Duplichecker tool की मदद से जिसका लिंक हमने ऊपर दे रखा है।

 

अगर आपने ऊपर दिए गए सभी बातों को नहीं समझा है और अपना कंटेंट पीडीएफ फॉर्मेट में सेव किया है तो आपको भविष्य में आवश्यकता पड़ेगी उसे दूसरे फॉर्मेट में बदलने की। अगर आपको अपना लेख पीडीएफ फॉर्मेट से वर्ड फाइल में रूपांतरित करना है तो आपको इस वेबसाइट का इस्तेमाल करना ही पड़ेगा।

 

यह भी पढ़ें

Blogging kya hai 

SEO kya hai ? SEO in hindi की पूरी जानकारी एक जगह पर

Hosting konsi kharide ? Sasti hosting kese kharide

Website kaise banaye in hindi

Online paise kaise kamaye – ऑनलाइन पैसा कमाने के 21 तरीके

Internet kya hai ? Internet ke fayde aur nuksan

How to register a company in India

Credit card in hindi | क्रेडिट कार्ड की पूरी जानकारी

अपनी किताब कैसे छपवाएं

Follow us here

Follow us on Facebook

Subscribe us on YouTube

Leave a Comment