Lal Bahadur Shashtri Quotes in Hindi – लाल बहादुर शास्त्री के सुविचार

In this article, we will read Lal Bahadur Shashtri Quotes in Hindi with images . His has given many Quotes and Slogans on different topics.

यह लेख लाल बहादुर शास्त्री जी के अमूल्य विचारों को प्रकट करता है। इस लेख के माध्यम से आप उनके जीवन काल  में बोले गए , अपनाए गए सुविचारों को सूक्ष्मता से अध्ययन कर पाएंगे। उनके विचारों से अपने जीवन में कुछ सीख ले सकेंगे। यह कुछ संकलन गांधी जी के व्यक्तित्व और उनके संपूर्ण जीवन पर एक संक्षिप्त दृष्टि डालने मात्र है।

 

Best and Famous Lal Bahadur Shashtri Quotes in Hindi

 

1

सप्ताह में एक दिन भूखा रहकर भी

मैं मातृभूमि की सेवा कर सकता हूं

आपको भी भारत की उन्नति में

एक दिन उपवास कर अपना

योगदान सुनिश्चित करना चाहिए। ।

भारत जिन दिनों आजाद हुआ था , उसमें भुखमरी और अकाल जैसी समस्या उत्पन्न होने लगी थी। एकाएक परिवर्तन से भोजन की समस्या भारत के समक्ष आ खड़ी हुई थी।  विदेशों से चावल , गेहूं आदि का आयात बड़ी मात्रा में किया जा रहा था। इस पर लाल बहादुर शास्त्री जी का विचार था एक दिन भूखा रहकर भी अपनी मातृभूमि के प्रति समर्पित कार्य करेंगे और अपने देश में ही हरित क्रांति को लाएंगे।

 

2

देशवासियों को गुलामी की मानसिकता को

तत्काल भूलकर देश हित आगे आना होगा। । 

लंबे समय से चली आ रही गुलामी ने भारत के लोगों में गुलाम सोच की मानसिकता को विकसित किया हुआ था।  शास्त्री जी ने अपने देशवासियों को उस मानसिकता से छुटकारा लेने के लिए प्रेरित किया। देशवासियों को स्वयं का मालिक होने का विश्वास दिलाया था।

 

Lal Bahadur Shashtri Quotes on Country and Nation

3

देश तब तक प्रगति नहीं कर सकता

जब तक यहां के किसान

अपना भरपूर योगदान ना दें। ।

देश की प्रगति में किसानों का अहम योगदान रहा है , कोई भी देश बिना किसानों के प्रगति नहीं कर सकता। देश के विकास में किसान के महत्व को स्वीकार करना होगा और उन्हें प्रोत्साहित करना होगा। किसानों को भी एक योद्धा की भांति देश की प्रगति में अपना योगदान सुनिश्चित करना होगा।

 

4

जय जवान , जय किसान। ।

देश में जब आर्थिक संकट और भुखमरी के हालात उत्पन्न होने लगी , तब लाल बहादुर शास्त्री ने अपने कर्मठ विचारों को प्रकट किया। उन्होंने देशवासियों को बताया , जिस प्रकार देश की सुरक्षा के लिए जवान आवश्यक है , उसी प्रकार देश का पेट भरने के लिए किसान की आवश्यकता है।  इन दोनों के बिना देश कभी प्रगति नहीं कर सकता।

Lal Bahadur Shashtri Quotes on Freedom

5

देश की आजादी को लंबे समय तक

बनाए रखना स्वयं पर निर्भर करता है। ।

देश भारत के लोगों की संकुचित मानसिकता के कारण गुलाम हुआ था। यह गुलामी कितनी दुखदाई और भयावह रही इसको भारत वासियों ने महसूस किया। देश को आजादी लंबे संघर्ष के बाद प्राप्त हुई।  इस आजादी को बरकरार रखने की जिम्मेदारी देशवासियों पर है , उनके विचारों पर है।

इस आजादी को लंबे समय तक बनाए रखना स्वयं देशवासियों के हाथों में ही है।

 

6

देश की अखंडता और उसके संप्रभुता की रक्षा

केवल सैनिक नहीं कर सकते

इसकी रक्षा का कर्तव्य देशवासियों पर भी है। ।

देश की अखंडता और उसके संप्रभुता की रक्षा सैनिक नहीं कर सकते। वह केवल देश के सरहदों और बुरी शक्तियों से बचा सकते हैं , लेकिन देश में अखंडता और संविधान के अनुसार संप्रभुता और कर्तव्यों आदि को बचाना इसकी रक्षा करना देशवासियों का ही कर्तव्य है।

 

Quotes on Peace

7

हम सिर्फ अपने लिए ही नहीं बल्कि

समस्त विश्व के लिए शांति का संदेश देते हैं। ।

भारत देश सदैव से शांति का संदेश देता रहा है , उसने अपने ऊपर होने वाले जुल्म को भी शांति से सहन करना सीखा है। यही कारण है भारत कई सौ साल से गुलाम रहा , किंतु किसी प्रकार की हिंसा को नहीं अपनाया। यह शांति का संदेश भारत स्वयं अपने लिए ही नहीं बल्कि वह विश्व के लिए भी देता है।

 

8

हर काम की अपनी गरिमा है

हर काम को अपनी निष्ठा

और पूरी क्षमता से करने में ही

संतोष का आनंद होता है। ।

कार्य कोई छोटा या बड़ा नहीं होता , सभी को करते समय पूरी निष्ठा और स्वाभिमान से परिपूर्ण होना चाहिए। इसके बिना व्यक्ति संतोष का भागी नहीं होता। किसी भी कार्य को छोटा या बड़ा कहने यह समझने वाले छोटी मानसिकता के लोग होते हैं।  वह किसी भी कार्य को निष्ठा पूर्वक नहीं कर सकते।

 

Lal Bahadur Shashtri Quotes in Hindi on Society

 

9

समाज को सच्चा लोकतंत्र कभी भी

हिंसा और असत्य से हासिल नहीं होता। ।

किसी भी देश और समाज के लिए , सच्चे लोकतंत्र की स्थापना के लिए , ऊंचे आदर्शो तथा कर्तव्यों के पालन के लिए हिंसा और असत्य माध्यम नहीं हो सकता। देश में अगर सच्चा लोकतंत्र चाहिए तो अहिंसा और सत्य का मार्ग अपनाना ही होगा।

 

10

कानून का सम्मान करना

किसी भी लोकतंत्र की

बुनियाद को मजबूत करता है। ।

बिना कानून का सम्मान किए , लोकतंत्र में अपनी आस्था ना रखते हुए , संविधान को दरकिनार करते हुए लोकतंत्र को मजबूत नहीं किया जा सकता। देश तथा लोकतंत्र की मजबूती कानून का सम्मान और नियमों का पालन करके ही संभव है।

Lal Bahadur Shashtri Quotes on Strength

 

11

हमारी ताकत और स्थिरता के लिए

हमारे सामने जो भी जरूरी काम है

उनमें लोगों में एकता और एकजुटता

स्थापित करने से बढ़कर कोई काम नहीं है। ।

भारत जैसे राष्ट्र जो अनेकों वर्षों से दूसरों की आधीन था , आजादी मिलते ही उसकी स्थिरता तत्काल संभव नहीं है। देश की स्थिरता के लिए किसी भी काम को निस्वार्थ और देश हित में करना होगा।  लोगों को आपसी वैमनस्य बुलाकर एकजुटता तथा एकता को स्थापित करना ही होगा।  इसके बिना देश में स्थिरता संभव नहीं है।

 

12

हम सभी को अपने क्षेत्रों में उसी समर्पण

उत्साह और संकल्प के साथ काम करना होगा

जैसे रणभूमि में एक सैनिक उत्साह

समर्पण और संकल्प के साथ कार्य करता है। ।

प्रत्येक देशवासियों को उसी प्रकार उत्साह पूर्वक कार्य करना होगा जैसे सीमा पर सुरक्षा के लिए सैनिक उत्साहित रहते हैं। उन सैनिकों की भांति दिन-रात एक निष्ठ होकर मातृभूमि की खातिर कार्य करना होगा। जिसमें समर्पण , त्याग , उत्साह सभी सम्मिलित हैं।

 

Quotes on Corruption

13

भ्रष्टाचार को पकड़ना बहुत कठिन काम है

लेकिन मैं पूरे जोर के साथ कहता हूं कि

यदि हम इस समस्या में गंभीरता और

दृढ़ संकल्प के साथ नहीं निपटें

तो हम अपने कर्तव्यों का निर्वाह करने में असफल होंगे। ।

भ्रष्टाचार किसी भी राष्ट्र के प्रगति में सबसे बड़ी बाधा होती है।  अगर इस बाधा को दूर करना है तो , सभी को अपने कर्तव्यों का भरपूर पालन करना होगा। भ्रष्टाचार को रोकने में सभी को मिलकर सहयोग करना होगा। अन्यथा भ्रष्टाचार देश के प्रगति में सदैव बाधा उत्पन्न करेगी।

 

14

यदि कोई एक व्यक्ति भी ऐसा रह गया

जिसे किसी रूप में अछूत कहा जाए

तो भारत को अपना सर

शर्म से झुकाना पड़ेगा। ।

प्रत्येक देशवासियों को भारत के उन्नति के लिए अपने पुरानी परंपरावादी मानसिकता का त्याग करना होगा। प्रत्येक क्षेत्र में ऐसा विकास करना होगा जिससे वह किसी भी प्रकार के पिछड़े श्रेणी में गिनती ना किए जाएं। चाहे वह जाति , धर्म , शिक्षा , उन्नति के हो।  प्रत्येक क्षेत्र में देशवासियों को कठिन परिश्रम करना होगा।

Lal Bahadur Shashtri Quotes in Hindi on Education

15

हमें सिर्फ शिक्षित होने की आवश्यकता नहीं है

बल्कि हम शिक्षक बनने की राह में आगे बढ़ेंगे

भारत विश्व गुरु पुनः बनकर उभरेगा। ।

भारत प्राचीन समय से विश्व गुरु रहा है , यहां देश-विदेश से छात्र आकर शिक्षा ग्रहण किया करते थे। उस अस्तित्व को चुनौतीपूर्ण समय में भारत ने खो दिया। उस राह को पुनः अपनाना होगा और विश्व गुरु बन कर अपना स्थान पुनः प्राप्त करना होगा। इसमें सभी देशवासियों का सहयोग अपेक्षित है।

 

16

जैसा कि मैं देख रहा हूं शासन का मूल विचार

समाज को एकजुट करने के लिए है

ताकि वह कुछ लक्ष्यों के प्रति

विकास का कार्य कर सकें। ।

शासन का विचार और उसके नियम कानून किसी लक्ष्य , उद्देश्य को प्राप्त करने के लिए बनाए जाते हैं।  तत्काल शासन व्यवस्था ने भी देश की उन्नति और उसके कुछ मूलभूत लक्ष्यों की प्राप्ति के लिए समाज को एकजुट करने का कार्य किया है।

 

Quotes on Development

17

देश का विकास नेता , सैनिक या अधिकारी

नहीं कर सकता जब तक

देशवासी देश के विकास में अपनी

भागीदारी सुनिश्चित नहीं करते। ।

किसी भी देश की प्रगति उन्नति तब तक संभव नहीं है , जब तक प्रत्येक देशवासी की भागीदारी ना हो। कोई भी देश का नेता या सैनिक , अधिकारी चुनिंदा लोग ही देश की भलाई या उसका उद्धार नहीं कर सकते। जब तक देशवासियों की भागीदारी ना हो।

 

18

मैं मजबूती के साथ अपने देश का नेतृत्व करूंगा

किसी भी शत्रु को भारत की ओर आता देख

सर्वप्रथम मैं उसके समक्ष उपस्थित होऊंगा। ।

शास्त्री जी छोटे कद काठी के अवश्य थे किंतु उनकी इच्छाशक्ति और दृढ़ प्रतिज्ञा मेंहदी बेजोड़ थी। उनकी इस प्रकार की इच्छा शक्ति के बराबर कोई और नहीं था। उन्होंने सदैव अपने देश के लिए समर्पित भाव से कार्य किया , वह किसी भी चुनौती या देश के प्रतीक खतरे के सामने सर्वप्रथम खड़े होने के लिए उपस्थित रहते थे।

Lal Bahadur Shashtri Quotes on Unity

19

लोगों को आपसी वैमनस्य ऊंच-नीच का त्याग कर

राष्ट्र शक्ति को मजबूत करने के लिए संगठित होना होगा। ।

बड़े ही संघर्ष और लंबे समय के बाद आजाद हुआ , इसकी आजादी और उन्नति को बनाए रखने के लिए ऊंच-नीच का भाव स्वयं से त्यागना होगा।  आपसी वैमनस्य बुलाकर सबको गले लगाना होगा , तभी राष्ट्रीय शक्ति मजबूत हो सकेगी राष्ट्र संगठित हो सकेगा।

 

20

देश के प्रति निष्ठा सभी निष्ठाओं से पहले आती है

और यह पूर्ण निष्ठा है ,

क्योंकि इसमें कोई प्रतीक्षा नहीं

कर सकता कि बदले में उसे क्या मिलता है। ।

कोई भी निष्ठा देश की निष्ठा से सर्वोपरि नहीं हो सकता है। देश की सफलता उसकी उन्नति प्रत्येक व्यक्ति की निष्ठा पर निर्भर करता है।

 

21

मेरे अनुसार प्रशासन का मूल विचार

यह होना चाहिए कि समाज को

एकजुट रखा जाए

ताकि वह विकास कर सके

और अपने लक्ष्यों को पूरा कर सकें। ।

समाज को एकजुट करने के लिए प्रशासन को भी मुख्य रूप से कार्य करने की आवश्यकता है। बिना प्रशासन के प्रोत्साहन और उसके प्रयासों के समाज एकजुट नहीं हो सकता है। समाज को एकजुट करने के लिए प्रशासन को अपने लक्ष्यों में आगे कार्य करना चाहिए।

 

Motivational Quotes by Lal Bahadur Shashtri

22

लड़ना ही है तो गरीबी से लड़ो

बीमारी से लड़ो , अज्ञानता से लड़ो

जिसमें पूरे समाज की भलाई है। ।

शास्त्री जी के अनुसार आपसी लड़ाई में किसी की भलाई नहीं है। अगर लड़ना ही है तो बीमारी से लड़ना चाहिए , अज्ञानता से लड़ना चाहिए , गरीबी से लेना चाहिए जिसमें जीतने के बाद समाज की भलाई हो सके।

 

23

जो जनता के पैसों पर अपना पुश्तैनी हक समझते हैं

उन्हें अब सतर्क हो जाना चाहिए

समय बदल चुका है अपनी मानसिकता भी बदलें। ।

जो व्यक्ति अभी भी भोग-विलास की मानसिकता से ग्रसित है , जो जनता के पैसों पर अपना अधिकार समझते हैं और दुरुपयोग करते हैं। उन्हें अब संभल जाना चाहिए अपनी मानसिकता को बदल लेना चाहिए। क्योंकि समय बदल चुका है जनता के पैसों पर केवल जनता का ही अधिकार है।

 

24

जिसने गरीबी नहीं देखी वह गरीबों का दर्द नहीं समझ सकता

थोड़ी बहुत समझ के लिए आप उनके क्षेत्र में कार्य कर सकते हैं। ।

गरीबों की भलाई वह व्यक्ति ही कर सकता है जो , गरीबी को अपने जीवन में देखा हो उसको महसूस किया हो तथा भोगा हो। अगर किसी व्यक्ति को गरीब के लिए कार्य करना है उसकी योजना बनानी है तो ग्रामीण क्षेत्रों में गरीबों के समक्ष जाना ही होगा। उनके बीच रहकर कार्य करना ही होगा ताकि वह उनकी वास्तविक स्थिति को समझ सकें।

Lal Bahadur Shashtri Quotes on Simplicity

25

सादगी इंसान की वास्तविक पहचान है

इसे प्रत्येक व्यक्ति को

अपने जीवन में अपनाना चाहिए। ।

व्यक्ति की महानता उसके सादगी से ही प्रकट होती है।  कोई भी व्यक्ति अपने साथ कुछ दौलत-शोहरत लेकर नहीं आता और ना ही यहां से लेकर जाता है।  इसलिए सादगी से जीवन जीना चाहिए और परमार्थ के लिए समाज में कार्य करना चाहिए। प्रत्येक व्यक्ति को अपने जीवन में इस सादगी को अपनाकर खुशी-खुशी जीवन यापन करना चाहिए।

 

26

सरकारी तंत्र का दुरुपयोग

निजी स्वार्थ के लिए हानिकारक है। ।

सरकारी तंत्र का कुछ लोग दुरुपयोग कर रहे थे , उन्हें शास्त्री जी ने कड़ी चेतावनी देते हुए चेताया था। उन्होंने सरकारी तंत्र को निजी हित में प्रयोग करने के लिए मना किया क्योंकि यह देश हित में हानिकारक है।

सरकारी तंत्र जनता के हित में कार्य करें तो बेहतर होता है।

 

यह भी पढ़ें

स्वामी विवेकानंद जी के सुविचार

Sandeep Maheshwari Quotes in Hindi

Hindi Inspirational quotes for everyone

Motivational Hindi quotes for students to get success

15 Great Hindi quotes on life for success

Hindi quotes full of motivation for fast success in life

Good night Hindi quotes for any purpose

Sanskrit quotes subhashita with Hindi meaning

Best Suvichar in Hindi

Best Anmol vachan in Hindi

Thoughts in Hindi with images

35 Best Motivational Quotes in Hindi

101 Best Good morning quotes in Hindi with images

Independence Day Quotes

Bhagat Singh Quotes

Teacher Day Hindi Quotes

Mahatma Gandhi Quotes

चंद्रशेखर आजाद के सुविचार

 

 

Leave a Comment